Categories: Schools
| On 3 years ago

अवकाश प्रार्थना पत्र मय मुख्यालय/मुख्यावास छोड़ने की अनुमति प्राप्त करने हेतु "आवेदन-पत्र " लिखने का तरीका।

अवकाश प्रार्थना पत्र मय मुख्यालय/मुख्यावास छोड़ने की अनुमति प्राप्त करने हेतु "आवेदन" सही प्रकार से लिखने का तरीका।

आवेदन अलग-अलग आवश्यकता हेतु अलग-अलग प्रकार से लिखा जाता है, निम्नलिखित प्रारूप एक ग्रीष्मकालीन अवकाश के समय लिखा जाने वाला तरीका है।

सेवा में,
श्रीमान प्रधानाध्यापक/प्रधानाचार्य,
राउमावि/मावि/उप्रावि/प्रावि
.................,
जिला-..............

विषय- मुख्यावास त्याग एवम ग्रीष्मकालीन अवकाश उपभोग के क्रम में।
...............
महोदयजी,
उपरोक्त विषयान्तर्गत सादर निवेदन है कि मुझे आवश्यक निजी कार्यवश/धार्मिक यात्रा हेतु/ अपने निवास जिले में जाने हेतु/ चिकित्सा कार्य हेतु/ सामाजिक कार्य

हेतु दिनांक से........दिनांक तक .............(स्थान)............जिला........ जाना है।
आपसे निवेदन है कि मुझे दिनांक ......से दिनांक........तक मुख्यावास त्यागने की अनुमति प्रदान कराए।
मुख्यावास त्याग के दौरान मेरा पता/मोबाइल नम्बर निम्नानुसार है-
.............................,
............................,
..........
मोबाइल नम्बर-.................
Email ID.......................
महोदय जी, इसी क्रम में निवेदन है कि मुझे किसी भी प्रकार के विभागीय प्रशिक्षण हेतु आदेशित नही किया गया है, उपरोक्त पते/ईमेल आईडी पर प्राप्त किसी भी विभागीय आदेश की अनुपालना मेरे द्वारा सुनिश्चित की जाएगी।
आवेदित अंतिम दिनांक के अगले दिवस को मैं मुख्यावास/कार्यस्थल
पर कार्यग्रहण हेतु उपस्थित हो जाऊंगा/जाऊँगी।
सादर,
भवदीय,
हस्ताक्षर,
(नाम)
पद व कार्यस्थल का नाम।
प्रतिलिपि,
1. उच्चाधिकारी।
2. रक्षक पंजिका।
हस्ताक्षर
(नाम)
नोट- आवेदक यदि संस्थाप्रधान है तो कार्यालय क्रमांक अवश्य लिखे।

अवकाश के क्रम में निम्न बाते जान लेना बहुत आवश्यक है-

अवकाश सम्बंधित सामान्य जानकारी।
1 अवकाश अर्जित करना पड़ता हैं।
2 अवकाश अधिकार नहीं हैं।
3. आकस्मिक अवकाश, अवकाश की श्रेणी में नहीं आता है, इसका लेखा सर्विस बुक में नहीं होता।
4. क्षतिपूर्ति अवकाश मंत्रलायिक कार्मिको को राजकीय अवकाश पर कार्य करने के एवज़ में मिलता हैं। इसका बेलेंस फॉरवर्ड नहीं होगा।
5. शिक्षक हेतु आकस्मिक अवकाश का कलेंडर 1 जुलाई से 30 जून होतक हैं। अतः जिनके cl शेष है वे 30 जून तक आकस्मिक अवकाश का उपभोग कर सकते हैं।
6. उपार्जित अवकाश- शिक्षक वर्ग हेतु वर्ष के 15 उपार्जित अवकाश देय हैं।
7. अगर किसी कार्मिक ने माह की प्रथम तिथि को कार्यग्रहण नहीं किया है तो उसे उस माह अवकाश अर्जित नहीं होगी।
8. मेडिकल अवकाश स्वयम् में अवकाश नहीं होकर अर्ध
वेतन अवकाश होता हैं। पुरे वर्ष सेवा करने पर ही इसे कार्मिक के खाते में जोड़ा जाता हैं। इस अर्ध वेतन अवकाश को कंम्यूट किया जाता हैं।
9. HLP को चिकित्सा या शिक्षा ग्राउंड पर कंम्यूट करवा सकता है।
10. लीव सेंक्शन करवाना आवसब्यक है। लीव सेंक्शन करने हेतु कार्यालयद्यक्ष कार्यालय हिट में स्वीकार कर सकते हैं।
11. कोई कार्मिक 5 साल से अधिक बिना सुचना अवकाश पर रहे तो उसकी सेवा बर्खास्त की जा सकती हैं।

View Comments

  • बहुत सार्थक ,एवंम उपयोगी जानकारी
    इसके लिए सह्रदय आभार

  • यदि प्रिंसीपल महिला शिक्षिकायें हो तो क्या सम्वोधन में
    श्रीमान् की जगह श्रीमति लिखा जायेगा ?

  • Sir
    Meri niyukti 3rd grade se Rpsc dwara 2nd grade me 11.11.2016 Ko Hui thi. Bharatpur se Dholpur 105 km door.
    Kya mujhe yogkal dey hai 10 p.l.milengi to kis niyam ke tahat. Plz inform me my email id.
    Mukesh chand
    Sr. Teacher
    GGS MANPUR DHOLPUR

  • आचार संहिता में अन्य जिलों में कार्मिकों को परीक्षा देने के लिए किससे अनुमति लेनी होगी और उसका क्या प्रारूप है बताना।