Categories: Schools
| On 3 years ago

एक से सौ तक संख्यात्मक शब्दों का मानक रूप।

Share

क्या आप लिख पाएंगे एक से सौ तक की शुद्ध हिंदी में गिनती ? कोशिश कर के देख लीजिए।

सौ में से एक ही लिख सकेगा, एक से सौ तक की गिनती शुद्ध मानक स्वरूप में।

जब हम विद्यार्थियों की उत्तर-पुस्तिकाओं की जाँच करते है तो सबसे पहले हम उनके द्वारा संख्या में लिखे गए रोल नम्बर देखते है।अधिकांश विद्यार्थी शब्दों में रोल नम्बर गलत लिखते है।

हमारे प्रदेश में जहा कहावत है कि " ढाई कोस पर पानी बदले चार कोस पर बदले वाणी। " अतः वाणी के साथ उच्चारण भी बदल जाता है एवम विद्यार्थी जैसा बोलते है वैसा ही लिखते है।
उदाहरणार्थ- कुछ 92 को बररानवे तो कुछ बरानु तो कुछ बरानवे बोलते है एवम वैसा ही लिखते है।

हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों द्वारा भी गलती की जाती है तो अंग्रेजी माध्यम वाले विद्यार्थियों का हाल बड़ा बुरा है। एक शिक्षक के नाते हमें यह प्रयास करना होगा कि हम स्वयं भी सही लिखे व बच्चों को सही लिखने हेतु निरन्तर प्रेरित करे।

ज्यादातर गलत रूप से लिखी जाने वाले अंक-

28, 33, 36, 39, 43, 44, 45, 49, 53, 54,59, 69 73 , 77, 79, 83, 84, 85, 88, 89, 92, 94, 95

आइये। जानते है एक से सौ तक संख्यात्मक शब्दो के मानक रूप के बारे में।

एक से सौ तक संख्यावाचक शब्दों का मानक रूप।

हिंदी प्रदेशो में संख्यावाचक शब्दों के उच्चारण और लेखन में एकरूपता का अभाव दिखाई देता है। शिक्षा मंत्रालय द्वारा प्रकाशित "ए बेसिक ग्रामर ऑफ मॉडर्न हिंदी" में भी इस एकरूपता का अभाव था। अतः निदेशालय में 5-6 फरवरी ,1980 को आयोजित भाषा विज्ञानियों की बैठक में इस पर गम्भीरतापूर्वक विचार करने के बाद इनका जो मानक रूप स्वीकार हुआ, वह इस प्रकार है।

एक से सौ तक संख्यावाचक शब्दों का मानक रूप

एक, दो, तीन, चार, पाँच।
छह, सात, आठ, नौ, दस।।

गयारह, बारह, तेरह, चौदह, पन्द्रह।
सोलह, सत्रह, अठारह, उन्नीस, बीस।।

इक्कीस, बाईस, तेईस, चौबीस, पच्चीस।
छब्बीस, सताईस, अट्ठाईस ,उनतीस, तीस।।

इकतीस, बत्तीस, तैतीस, चौतीस, पैतीस।
छत्तीस, सैतीस, अड़तीस, उनतालीस, चालीस।।

इकतालीस, बयालीस, तैतालिस, चवालीस, पैतालीस।
छियालीस, सैतालिस, अड़तालीस, उनचास, पचास।।

इक्यावन, बावन, तिरपन, चौवन , पचपन।
छप्पन, सत्तावन, अठावन, उनसठ, साठ।।

इकसठ, बासठ, तिरसठ, चौसठ, पैसठ।
छियासठ, सड़सठ, अड़सठ, उनहत्तर, सत्तर।।

इकहत्तर, बहत्तर, तिहत्तर, चौहत्तर, पचहत्तर।
छिहत्तर, सतहत्तर, अठहत्तर, उनासी, अस्सी।।

इक्यासी, बयासी, तिरासी, चौरासी, पचासी।
छियासी, सतासी, अठासी, नवासी, नब्बे।।

इकरानवे, बानवे, तिरानवे, चौरानवे, पचानवे।
छियानवे, सतानवे, अठानवे, निन्यानवे, सौ।

सादर निवेदन है कि प्रत्येक विद्यालय में संख्यात्मक मानक शब्दों का लेखन अवश्य करवाया जाना चाहिए।

View Comments