हिंदी सकारात्मक समाचार पोर्टल 2023

मनोरंजन

कच्चे धागे | मेरी आँखों मे देख तुझे तेरे बेटे लाखन की मौत नजर आएगी ।

images286829 | Shivira

1980 का दशक एक ऐसा दौर था जबकि फिल्मों में वास्तविक सुपर स्टार होते थे। आज के दौर के नायक उनके आगे शायद कुछ भी नही है। आइये, आज बात करेंगे फ़िल्म ” कच्चे धागे ” की। इस फ़िल्म को ” राज खोसला ” ने निर्देशित किया था। इस फ़िल्म के हीरो विनोद खन्ना थे तथा कबीर बेदी भी मुख्य भूमिका में थे। आइये, आज इस फ़िल्म की बात करेंगे।

मेरी आँखों मे देख तुझे लाखन की मौत नजर आएगी

फ़िल्म एक बदले की कहानी है जिसमे बेटा अपने बाप की मौत का बदला लेता है विनोद खन्ना अपने बाप का तथा कबीर बेदी भी अपने बाप की मौत का बदला लेता है। खास बात फ़िल्म का वह डायलॉग है जिसके कारण फ़िल्म को लेकर हम आज भी बात कर रहे है। इस फ़िल्म मेंबकबीर बेदी यानी लाखन पंडित होता हैं तथा रूपा मतलब किरदार निभा रहे विनोद खन्ना की माता निरूपा राय को धमकाते हुए कहता है कि

image editor output image 602155073 16712831777499202132198842993833 | Shivira

मेरी आँखों मे देख तुझे लाखन की मौत नजर आएगी। फ़िल्म ” कच्चे धागे “

मैं गंगा घाट का ब्राह्मण नही हूँ मैंने चंबल का पानी पिया हैं

वास्तव में यह फ़िल्म एक सुपर फ़िल्म है। इसका हर डायलॉग यादगार है। कबीर बेदी ने बाप-बेटे दोनों का किरदार निभाया है। ऊपरोक्त डायलॉग बहुत बाते बतलाता है कि ब्राह्मण जब गङ्गा का पानी पीकर बात करता है तो वह कुछ और होता है लेकिन जब वह चम्बल का पानी पी लेता है तो उसके तेवर अलग होते हैं।

image editor output image 2089277889 16712842440708308424186412493670 | Shivira
मैं गंगा घाट का ब्राह्मण नही हूँ मैंने चंबल का पानी पिया हैं

वो अपने बाप का बदला ले चुका है, मुझे लेना है।

ये बात बिल्कुल ठीक लगती है कि बदला लेना इंसानी जिंदगी में लाजिमी है। फ़िल्म में जब विनोद खन्ना यानी लाखन अपने बाप की मौत का बदला ले सकता है तो आप कबीर बेदी को भी उसके बाप के कातिल यानी रूपा को कैसे रोक सकेंगे। लेकिन उससे पहले आप लाखन की माँ का यह डायलॉग जरूर सुनिए।

अगर तुझे अपनी जान प्यारी है तो लाखन के रास्ते मे कभी मत आना

निरूपा राय ने अपने अभिनय का डंका कई फिल्मों में मनवाया है लेकिन कच्चे धागे में उनका अभिनय कमाल का था। उनका उपरोक्त डायलॉग बहुत से भी अधिक पर्याप्त है। अब मुझे लगता है कि आपको फ़िल्म का लिंकः भेज दु ताकि आप खुद आनंद ले सकें।

आइये आज देखते है ” कच्चे धागे “

https://youtu.be/p9ctVQjCk14

https://youtu.be/p9ctVQjCk14

Divyanshu
About author

दिव्यांशु एक प्रमुख हिंदी समाचार पत्र शिविरा के वरिष्ठ संपादक हैं, जो पूरे भारत से सकारात्मक समाचारों पर ध्यान केंद्रित करता है। पत्रकारिता में उनका अनुभव और उत्थान की कहानियों के लिए जुनून उन्हें पाठकों को प्रेरक कहानियां, रिपोर्ट और लेख लाने में मदद करता है। उनके काम को व्यापक रूप से प्रभावशाली और प्रेरणादायक माना जाता है, जिससे वह टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाते हैं।