Categories: Circular
| On 3 years ago

कार्य-ग्रहण काल (Joining Time) सम्बंधित नियम।

राज्य कर्मचारी के कार्य-ग्रहण काल (Joining Time)

कार्यग्रहण काल -

किसी राज्य कर्मचारी को सार्वजनिक हित में स्थानान्तरित कर दिये जाने पर, पदग्रहण करने या पदस्थापित स्थान पर हेतु यात्रा के लिए अनुझेय समय से है।

कार्यग्रहण काल की देयता -

(i) एक राज्य कर्मचारी को जनहित में स्थानान्तरण होने पर उसे उसी स्थान या नये स्थान पर, पद भार ग्रहण के लिये कार्यग्रहण काल (समय) दिया जावेगा। 180 दिनों तक की अवधि के लिये अस्थाई स्थानान्तरण हेतु कार्यग्रहण समय नहीं देय होगा !
(ii) सक्षम अधिकारी द्वारा एक पद से आधिक्य (Surplus) घोषित राज्य कर्मचारी को दूसरे पद पर स्थानान्तरण करने परकार्यग्रहणकाल स्वीकार किया जावेगा यदि स्थानान्तरण नगरपालिका परिषद की सीमा से बाहर हो।
(iii) राज्य सरकार/विभाग कार्यालय के संस्थापन में कटौती के फलस्वरूप कर्मचारियों के सेवा मुक्त होने पर कार्य-ग्रहण काल देय होगा, यदि नये पद पर नियुक्ति की आज्ञा उन्हें पुराने पद पर कार्य करते समय प्राप्त

हो गई हो। यदि पुराने पद से मुक्त होते समय उनकी किसी नये पद पर नियुक्ति हो जावे तो विभागाध्यक्ष द्वारा उनके सेवा भंग होने की अवधि को बिना वेतन कार्य-ग्रहणकाल में परिवर्तित किया जा सकेगा, परन्तु शर्त यह है कि सेवा भंग 30 दिनों से अधिक नहीं हो और मुक्त होने की दिनांक से उस कर्मचारी ने निरन्तर 3 वर्षों से कम सेवा नहीं की हो।
(iv) प्रतियोगिता परीक्षा या राज्य कर्मचारियों एवं अन्यों के
लिये साक्षात्कार के फलस्वरूप राज्य सरकार केन्द्र/राज्यों
अन्य राज्यों के स्थायी कर्मचारियों को नियुक्त कर लिया जाए, अन्तर्गत कार्यग्रहण काल स्वीकार किया जावेगा। (v) स्थानांतरण आदेश में जनहित अंकित होनेपर ही कार्यग्रहण काल देय होगा।
(एफ.7(3)वित(नियम)/98 दि.282005)

कार्यग्रहणकाल की अवधि -

नगर पालिका/नगर परिषद की सीमा में स्थानान्तरण होने पर एक कर्मचारी को पूर्व के पद से मध्यान्ह पूर्व में कार्यमुक्त हो जाता है तो वह दिन की गणना में सम्मिलित होगा। मध्याह्न पश्चात् कार्यमुक्त होने पर उसे दूसरे कार्य दिवस को मध्यान्ह पूर्व नवीन पद पर कार्यभार ग्रहण करना होगा।
कार्य-ग्रहणकाल की गणना कर्मचारी के पुराने पद प्रभार के त्यागने से ही की जावेगी।

स्थानान्तरण होने पर कार्यग्रहणकाल की गणना निम्न

प्रकार की जावेगी-

पुराने व नए मुख्यालय के मध्य दूरी 1000 किलोमीटर से कम होने पर स्वीकार कार्यग्रहण काल 10 दिन है।

आदेशो की प्रतीक्षा कर रहे कर्मचारी का स्थानांतरण किसी दूसरे स्थान पर कर दिया जाए , जिसके कारण उसका निवास बदल जाता हो तो उसे चार दिन का कार्य-ग्रहणकाल दिया जावेगा।

भण्डार/कोषागार का कार्यभार ग्रहण करने पर कार्यग्रहण

काल -

जब कर्मचारी को किसी पद के कार्यभार में विभिन्न स्थानों
पर स्थित भण्डार का दायित्व भी संभालना हो और जिसके कारण उसे संयुक्त रूप से विभिन्न स्थानों का निरीक्षण करना आवश्यक हो तो इस प्रयोजनार्थ व्यतीत समय, किसी भी स्थिति में 7 दिन से अधिक का नहीं होगा तथा यह समय इस नियम के उपनियम (5) के अन्तर्गत कार्यग्रहण काल माना जावेगा।
जोधपुर एवं जयपुर जिला कोषागारों का प्रभार 7 दिन पूर्ण
करना होगा। अन्य कोषागारों के मामले में तीन दिन में एवं कोषागारों का कार्यभार लेने में लिया गया समय इस नियम के उपनियम (5) के अन्तर्गत बढ़ाया हुआ समय माना जावेगा।

कार्यग्रहणकाल को उपार्जित अवकाशों में जोड़ा

जाना -

जब पूर्ण कार्य ग्रहणकाल का लाभ लिये बिना कोई राज्य
कर्मचारी नये पद का कार्यभार ग्रहण कर ले तो उसे नियमानुसार देय तथा वास्तव में उपभोग किये गये ग्रहणकाल के अन्तर को उपार्जित अवकाश के लेखों में जोड़ दिया जावेगा।

(नियम 6(1))

कार्यग्रहणकाल समाप्ति पर सार्वजनिक अवकाश पड़ने के ‘बाद के समय की गणना -

कार्यग्रहणकाल की समाप्ति पर एक या अधिक सार्वजनिक अवकाश आ जावे तो उन अवकाशों की अवधि को कार्यग्रहणकाल में अभिवृद्धि माना जावेगा। विभागाध्यक्ष विशेष परिस्थितियों में कार्यग्रहणकाल 30 दिवस तक स्वीकृत कर सकता है तथा इससे अधिक की स्वीकृति वित्त विभाग विशेष कारणों/परिस्थिति में दे सकता है।

कार्य ग्रहण समय को किसी भी प्रकार के नियमित अवकाश की अवधि, आकस्मिक अवकाश के अतिरिक्त , के साथसम्मिलित किया जा सकता है। (नियम 6(2))

कार्य-ग्रहणकाल का वेतन -

कर्मचारी को कार्यग्रहणकाल का वेतन पूर्व के पद की दरों पर वेतन, महंगाई भत्ता, अन्य क्षतिपूरक भत्ते तथा मकान किराया भत्ता देय होंगे, किन्तु वाहन भत्ता तथा स्थाई यात्रा भत्ता नहीं दिया जावेगा।

यात्रा अवधि में अन्य स्थान पर स्थानान्तरण होने पर-

जब एक कर्मचारी पूर्व के पद से कार्यमुक्त होकर नवीन पद पर कार्यभार ग्रहण करने चल दे तथा यात्रा अवधि (transit) में ही उसका पदस्थापन नवीन स्थान पर कर दिया जाय तो दूसरे स्थान पर जाने के आदेश प्राप्त होने की दिनांक के दूसरे दिन से उसे नये सिरे से नियमानुसार
कार्य ग्रहणकाल स्वीकृत किया जावेगा। नये आदेश प्राप्त करने से पूर्व उपभोग की गई कार्य ग्रहणकाल अवधि ही देय होगी।

View Comments