Categories: Articles
| On 3 years ago

"प्रवेशोत्सव अभियान 2018"- चलो चले राजकीय स्कूल।

राजस्थान राज्य में यह अभियान दो चरणों- प्रथम चरण 26 अप्रैल से 9 मई-दूसरा चरण 19 जून से 30 जून के मध्य संचालित होगा। संस्था प्रधान निम्न बिंदुओं पर विशेष ध्यान देंगे।
1. ठहराव बनाये रखना- इस हेतु कक्षा 5,8 व 10 के परीक्षार्थियों को आगामी कक्षा स्कूल में होने पर अविलम्ब अगली कक्षा में अस्थाई प्रवेश देकर विधिवत कक्षा संचालन

करना।
2. प्रवेश प्रक्रिया मार्च माह के द्वितीय पखवाड़े से आरम्भ रखना।
3. विद्यालय केचमेंट एरिया/परिक्षेत्र में नामांकन से वंचित विभिन्न कक्षाओं में नामांकन योग्य बच्चों का चिन्हीकरण। दिनांक 26 अप्रैल से।
4. प्रथम एसडीएमसी बैठक। दिनांक 30 अप्रैल को शिक्षक-अभिभावक परिषद के साथ संयुक्त बैठक कर के बिंदु 3 के अनुसार चिन्हित को शिक्षा की मुख्य धारा में लाने हेतु कार्ययोजना निर्माण, विद्यालय विशेषताओं यथा फाइव स्टार रैंकिंग, आइसीटी क्लासेस, कम्प्यूटर शिक्षा, राजकीय योजनाओं की जानकारी इत्यादि पर चर्चा।
5. पूर्व में सम्पन्न House Hold Survey के अनुसार शाला दर्शन पोर्टल पर ऑनलाइन
फीडेड सर्वे प्रपत्र 01 में दाखिल स्कूल जाने योग्य बच्चों को मेनस्ट्रीम करना। अभिभावकों, जनसमुदाय, स्कूल स्टाफ व गणमान्य व्यक्तियों के सहयोग से नामांकन लक्ष्य प्राप्ति करना।
6. 16 से 30 अप्रैल के मध्य स्वयम के क्षेत्र में आयोजित होने वाले विशेष ग्रामसभाओं में भाग लेकर नामांकन लक्ष्य प्राप्ति हेतु सामुदायिक सहयोग व भागीदारी को सुनिश्चित करना।

प्रवेशोत्सव अभियान के तहत नज़री नक्शा निर्माण, केचमेंट एरिया निर्धारण, अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार, रैलियों का आयोजन, टोलियों के द्वारा प्रचार व कार्यक्रमो में समुदाय भागीदारी निमंत्रण देकर सुनिश्चित करना एक संस्था प्रधान का दायित्व है।
अभियान की पूर्ण सफलता हेतु स्कूल जाने योग्य बच्चों के डाटा निर्माण हेतु आंगनवाड़ी केंद्रों, सर्वे सूची, नजदीकी विद्यालयों से सूचना व सहयोग प्राप्त करना है।
इस पुनीत अभियान की पूर्ण सफलता हेतु क्षेत्र के राजकीय विभागों, एनजीओ, संस्थाओं से निरन्तर सम्वाद व सहयोग आवश्यक है। सफलतापूर्वक लक्ष्य प्राप्ति हेतु सभी के सहयोग से वातावरण निर्माण आवश्यक है।

View Comments