Categories: Circular
| On 3 years ago

स्थानान्तरण पर यात्रा भत्ता

स्थानान्तरण पर यात्रा भत्ता -

जब स्थानान्तरण स्वयं के प्रार्थना पर न होकर लोक हित में किया गया हो। यदि स्थानान्तरण 30 दिन से कम अवधि के लिये किया गया हो तो कर्मचारी को स्थानान्तरण पर यात्रा भत्ता देय न होकर दौरे का यात्रा भत्ता देय होगा।
स्थानान्तरण आदेश में लोक हित अंकित होने पर यात्रा भत्ता व कार्यग्रहण काल देय होगा।
(एफ.7(3वित्तनियम) 98 दिनांक 2.8.2005)

स्थानान्तरण सरकारी कर्मचारी को रेल/बस का स्वंय के दो भाड़े तथा उसके साथ यात्रा करने वाले परिवार के प्रत्येक सदस्य के लिए एक तथा प्रत्येक बच्चे के लिये आधा अतिरिक्त भाड़ा जिसके लिये पूर्ण या आधा भाड़ा वास्तव में चुकाया गया है। निजी सामान के परिवहन के लिये निर्धारित लगेज चार्जेज की

सीमा तक रेलवे रसीद या सड़क परिवहन कम्पनी के स्वामी द्वारा दी गयी नकद की रसीद पेश करने के अध्यधीन होगी तथा स्थानान्तरण अनुदान निर्धारित दर से एक मुश्त मिलेगा।

(नियम 17)

परन्तु यदि राज्य कर्मचारी स्थानान्तरण पर हवाई जहाज /
राजधानी एक्सप्रेस शताब्दी एक्सप्रेस से यात्रा करता है तो स्वयं का एक भाड़ा ही देय होगा ।

यदि कोई सरकारी कर्मचारी

मोटर कार, स्कूटर, मोपेड़ या
मोटर साईकिल को स्थानान्तरण पर वाहन की ही यंत्र शक्ति से ले जाता है तो मोटर कार के लिए 9.00 रु. प्रति कि.मी. एवं मोटर साईकिल आदि के लिए 3.00 रु. प्रति कि.मी. की दर से दोनों स्थानो के बीच सामान्य मार्ग की दूरी के लिए भत्ता अनुज्ञेय है।

पे-मैट्रिक्स का लेवल 19 या इससे अधिक की पे लेवल

में वेतन आहरण करने वाले अधिकारी स्वयं अपने यात्रा भत्ते दावे तक पर प्रतिहस्ताक्षर करने के लिये प्राधिकृत है।
प्रभावी दि. 1.102017 आ.दि. 30.10.17 (अध्याय 10 आइटम 4)

यदि प्रशिक्षण के बाद परिवीक्षाधीन कर्मचारी को प्रशिक्षण
स्थान के बजाय अन्य स्थान पर नियुक्त किया जाता है तो
स्थानान्तरण यात्रा भत्ता देय होगा।

View Comments