हिंदी सकारात्मक समाचार पोर्टल 2023

लोग और समाज

स्वामी विवेकानंद की याद रखने योग्य बातें

swami vivekanand 1201002014 | Shivira

आज हम जिस दुनिया में रह रहे हैं, उसमें दैनिक जीवन की व्यस्तता में फंस जाना और सबसे महत्वपूर्ण क्या है, इस पर ध्यान न देना आसान है। हमारे जीवन में सभी शोर के साथ, यह पता लगाना कठिन हो सकता है कि क्या वास्तव में हमें खुश और सफल बनाएगा। स्वामी विवेकानंद लोगों को चेतावनी देते हैं कि बिना पहले खुद सोचे किसी और की सलाह का आँख बंद करके पालन न करें। वह कहते हैं कि सच्ची खुशी, सफलता और तृप्ति अंदर से आती है और पैसे या संपत्ति जैसी चीजों में बाहर नहीं पाई जा सकती।

इसके बजाय, हमें इस समय का उपयोग अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों लक्ष्यों के बारे में सोचने के लिए करना चाहिए। आत्म-खोज की प्रक्रिया को अपनाना पहली नज़र में हमेशा स्पष्ट नहीं हो सकता है, लेकिन यह हमें वास्तविक खुशी के एक कदम और करीब लाएगा।

स्वामी विवेकानंद के अनुसार अंधी नकल क्या है?

स्वामी विवेकानंद 1201002014 |  en.shivira

अंधी नकल एक चिंताजनक प्रवृत्ति है जो उन समाजों में होती है जहां पुरानी परंपराओं को इतनी गहराई से रखा जाता है कि लोग उन्हें पूछताछ और मूल्यांकन करने के बजाय आदत से बाहर करते रहते हैं। जो लोग अंधी नकल करते हैं, वे साथियों के दबाव में आ जाते हैं और अपनी क्षमता को नहीं देखते क्योंकि उन्होंने इसके बारे में खुद नहीं सोचा है। अनजाने में गहरी पकड़ वाली मान्यताओं को आत्मसात करने से अनुरूपता का एक चक्र शुरू हो जाता है जिससे लोगों के लिए अपने स्वयं के विचार रखना या प्रश्न पूछना कठिन हो जाता है।

इस तरह का माहौल रचनात्मकता और नए विचारों को मारता है जिसे समूह के सदस्यों के बीच साझा किया जा सकता है। स्वामी विवेकानंद बहुत बुद्धिमान थे जब उन्होंने बताया कि अंधा अनुकरण न केवल लोगों की क्षमताओं को सीमित करता है बल्कि उन्हें लोगों के रूप में विकसित होने से भी रोकता है।

उपरोक्त पंक्तियों के माध्यम से स्वामी विवेकानंद द्वारा दिया गया संदेश।

स्वामी विवेकानंद हमें अपने लक्ष्यों तक पहुंचने में मदद करने के लिए आत्म-नियंत्रण और अनुशासन की शक्ति के बड़े प्रशंसक हैं। अपने शब्दों के माध्यम से, वह हमें बताता है कि हम जहां हैं, उससे संतुष्ट न हों और इसके बजाय कड़ी मेहनत करें और चुनौतियों का स्वागत करें। उनके ज्ञान के शब्द और सबक, जो उनके अपने जीवन के अनुभवों से आए हैं, एक मजबूत अनुस्मारक हैं कि कोई अपनी पूरी क्षमता तक तभी पहुंच सकता है जब उनके पास अपने रास्ते में आने वाली किसी भी चीज के खिलाफ लड़ने का साहस हो। अपने आप में विश्वास रखना महानता की कुंजी है और ऐसे काम करना जो दूसरों को असंभव लग सकते हैं।

इस प्रकार, स्वामी विवेकानंद का संदेश हमें यह शक्ति देता है कि हम कभी भी अपने आप को सीमित न रखें और इसके बजाय हम जो कुछ भी करते हैं उसमें उत्कृष्टता के लिए प्रयास करें।

स्वामी विवेकानंद के विचारों के अनुसार जीवन में किसी का आँख बंद करके अनुसरण करना क्यों महत्वपूर्ण है?

स्वामी विवेकानंद ने लोगों को अपने लिए सोचने के लिए प्रेरित किया और कहा कि हर किसी को खुशी का अपना रास्ता खोजना चाहिए। उनकी सलाह इस विचार पर आधारित थी कि हर किसी का स्वाद अलग होता है और जो एक व्यक्ति के लिए काम करता है वह उनके लिए काम नहीं कर सकता है। अत: अंतरात्मा ही एकमात्र सच्चा गुरु है। बुद्धिमान हिंदू भिक्षु ने कहा कि लोगों को किसी भी गुरु का अंधा अनुसरण करने से पहले सावधानी से सोचना चाहिए, और उनका मानना ​​था कि लोगों को किसी भी विचार या मार्ग के लिए प्रतिबद्ध होने से पहले अपने लक्ष्यों और जीवन के तरीके के बारे में गंभीर रूप से सोचना चाहिए।

इस तरह से सावधान रहने से, लोग यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि वे उन विचारों के साथ आगे बढ़ रहे हैं जो उनके लिए और समाज के लिए अच्छे हैं, और उन बुरी चीजों से पीछे नहीं हट रहे हैं जिनका उनके जीवन यात्रा में कोई स्थान नहीं है।

स्वामी विवेकानंद की विचार प्रक्रिया की उपरोक्त पंक्तियों के आधार पर कोई किसी का अंधा अनुसरण करने के बजाय अपने विचारों की रक्षा कैसे कर सकता है और अपने जीवन को कैसे पहचान सकता है।

आईएमजी 903192 3b0ee755 1666492899825 एससी |  en.shivira

अपने बारे में सोचने के बजाय आसान रास्ता निकालना और वह करना आसान है जो बाकी सब करते हैं। लेकिन अगर हम अपने स्वयं के विचारों, मूल्यों और विवेक पर ध्यान नहीं देते हैं, तो हमें अपने जीवन के बारे में गलत नज़रिया देखने को मिल सकता है। स्वामी विवेकानंद हमें इसके विपरीत करने के लिए कहते हैं: अपने अंदर देखने के लिए, सोचने के किसी भी बुरे तरीके से छुटकारा पाएं, और ईमानदार प्रतिबिंब का अभ्यास करें ताकि हम अपने जीवन का आनंद ले सकें कि वे क्या हैं।

मन के इस दायरे में आने में समय और प्रयास लगता है, लेकिन लंबे समय में, यह हमें दूसरे लोगों के बारे में सोचने या करने से प्रभावित होने के बजाय खुद पर नियंत्रण रखने में मदद करेगा। आत्मचिंतन के माध्यम से हम अच्छी और बुरी आदतों के बीच अंतर बता सकते हैं और बुरी आदतों से बचते हुए अच्छी आदतों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। अंत में, अपने गहनतम विचारों पर ध्यान देने से न केवल हमें प्रगति करते रहने के बारे में शक्तिशाली विचार मिलेंगे, बल्कि यह हमें अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों तक पहुँचने के लिए भी तैयार करेगा।

अंधे अनुकरण के बारे में स्वामी विवेकानंद के विचार हम सभी को याद दिलाते हैं कि हमें किसी और का अंधा अनुसरण करने से पहले अपने विचारों और विचारों के बारे में सोचना चाहिए। अपने स्वयं के विचारों और अनुभवों के मूल्य को सक्रिय रूप से पहचानने और उसकी सराहना करने से, हम अपने व्यक्तित्व को साथियों के दबाव या अन्य बाहरी प्रभावों के सामने बेहतर ढंग से रख सकते हैं। इस सलाह को ध्यान में रखते हुए, हम यह महसूस करके स्वयं के प्रति सच्चे रहना सीख सकते हैं कि विश्वास करना और अपने स्वयं के निर्णय का पालन करना महत्वपूर्ण है, भले ही वह दूसरों की सोच के विरुद्ध हो।

इन चीजों को करके, हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ जीवन जी रहे हैं और आँख बंद करके दूसरे लोगों का अनुसरण नहीं कर रहे हैं। यह कुछ ऐसा है जिसमें स्वामी विवेकानंद वास्तव में विश्वास करते थे, और यह आज भी सच है।

Divyanshu
About author

दिव्यांशु एक प्रमुख हिंदी समाचार पत्र शिविरा के वरिष्ठ संपादक हैं, जो पूरे भारत से सकारात्मक समाचारों पर ध्यान केंद्रित करता है। पत्रकारिता में उनका अनुभव और उत्थान की कहानियों के लिए जुनून उन्हें पाठकों को प्रेरक कहानियां, रिपोर्ट और लेख लाने में मदद करता है। उनके काम को व्यापक रूप से प्रभावशाली और प्रेरणादायक माना जाता है, जिससे वह टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन जाते हैं।
    Related posts
    कला और मनोरंजनलोग और समाजसमाचार जगत

    शुभमन गिल | हेयर स्टाइल चेंज करके सलामी बल्लेबाज़ी हेतु दावा ठोका ?

    लोग और समाज

    खुद को कैसे व्यस्त रखें?

    लोग और समाज

    मित्र कैसे बनाएं?

    लोग और समाज

    बेटी बचाओ पर एक निबंध लिखें