Categories: Articles
| On 2 years ago

181 : Rajasthan Help Line Number for E-Mitra Complaints.

181: इस नम्बर को नोट कर लीजिए, ई-मित्र अब आपसे अधिक वसूली नही कर सकेंगे।

राजस्थान सम्पर्क हेल्पलाइन का अब नया नम्बर 181 सभी ई-मित्र उपभोक्ताओं को अधिक राशि वसूल करने की समस्या से निजात दिला देगा। आप अब ई-मित्र पर सुविधाओं का जम कर इस्तेमाल कीजिये एवं निर्धारित दरों का भुगतान कीजिये।

जब आप इस नम्बर पर राजस्थान के किसी भी ई-मित्र पर किसी भी सुविधा के बदले ज्यादा

राशी वसूलने की शिकायत करेंगे तो जयपुर में अवस्तिथ इस नम्बर से आपसे सामान्य जानकारी मांगी जाएगी।

शिकायत दर्ज करने के लिए सबसे पहले आपका नामांकन किया जाएगा। इस नामांकन हेतु आपका नाम, ग्रामीण/शहरी क्षेत्र, ब्लॉक/वार्ड, मोबाइल नम्बर लिया जाएगा।

नामांकन के पश्चात आपसे आपका परिवाद लिया जाएगा। अगर आप चाहेंगे तो आपको ई-मित्र से सम्बंधित समस्त सुविद्याये एवं उनके लिए चार्ज की भी जानकारी प्रदान की जाएगी।
जब आप परिवाद दर्ज

करवा देंगे तो आपको नियत समय पर की गई कार्यवाही के सम्बंध में दुरभाष अथवा एसएमएस द्वारा सूचना प्रदान की जाएगी।

शिकायत प्राप्त होने पर एसडीएम से जांच करवाई जाएगी तथा आवश्यक होने पर प्रार्थी
एवं ई-मित्र कियोस्क धारक को व्यक्तिशः सुनवाई के लिए बुलाया जाएगा। अगर जांच में ई-मित्र
कियोस्क अधिक राशि वसूलना पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। प्रथम बार
शिकायत प्राप्त होने पर एसडीएम अपने एसएसओ आईडी से ई-संकेत कर कियोस्क को सात से 15 दिन के लिए निलंबित कर सकते
हैं। कियोस्क पर एक हजार से पांच हजार रुपए तक जुर्माना सकते हैं। अथवा उक्त दोनों कार्रवाई की जा सकती है। दूसरी बार शिकायत
मिलने पर एसडीएम एसएसओ आईडी से कियोस्क को 15 से 30 दिन के लिए निलंबित कर सकते हैं अथवा यह दोनों कार्रवाई की जा
सकती है। तीसरी बार शिकायत प्राप्त होने पर कियोस्क को स्थायी रूप से बंद

कर ब्लैक लिस्ट कर सकते हैं। 30 दिन में निर्णय कर अपील का निस्तारण किया जाएगा। खास बात ये है कि शिकायतकर्ता को सरकार की पूरी कार्रवाई की
जानकारी ऑनलाइन मिलेगी।

अब यह आपकी जिम्मेदारी है कि इस पोस्ट को सभी से शेयर करे ताकि समाज मव छोटे-छोटे आर्थिक अपराध रुक सके व हम सभी को निर्बाध सेवा प्राप्त हो सके।