Categories: Students Forum
| On 11 months ago

Agricultural education in Rajasthan: limitless opportunity for the youth in agriculture.

राजस्थान में कृषि शिक्षा : कृषि क्षेत्र में युवाओं को असीम अवसर उपलब्ध है।

"भारत की आत्मा गांवों में निवास करती है"

महात्मा गांधी।


17 फरवरी 2020, कृषि विश्वविद्यालय, जोधपुर में कृषि अध्ययन में विद्यार्थियों की अभिरुचि जागृत करने हेतु कृषि विश्वविद्यालय के सभागार में एक दिवसीय " सम्वेदी कार्यशाला" का आयोजन किया गया। 

कार्यशाला में विद्वान वक्ताओ ने कृषि क्षेत्र में अवसरों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि भारत " वसुधैव कुटुम्बकम" की भावना से कार्य करता है। आजादी से पहले 1943 में बहुत भयावह अकाल पड़ा था। यह अकाल गलत नीतियों के कारण पड़ा था व इसमे लाखों लोग मर गए थे।

उस समय द्वितीय विश्वयुद्ध चल रहा था व भारत से बड़ी मात्रा में खाद्यान देश के बाहर भेजा जा रहा था। हमको इतिहास से सीख कर आगे बढ़ना पड़ेगा ताकि ऐसी गलत पुनरावृत्ति दुबारा नही हो। गलत नीतियों के कारण ही भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को देशवासियों से सप्ताह में एक दिवस खाना छोड़ने के लिए आव्हान करना पड़ा था।


अगर हम भविष्य की तरफ देखे तो 2050 तक हमारी जनसंख्या 1  अरब 75 करोड़ तक पहुँच जाएगी व हमको हमारी जनसँख्या को दो वक्त का खाना देने के लिए खाद्यान उत्पादन के बारे में गम्भीरता से सोचना ही पड़ेगा।

आज देश की 52 फीसदी जनता कृषि से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से सम्बंधित व निर्भर है। 1880 से ही भारत मे कृषि शिक्षा आरम्भ हो चुकी थी। 1905 में भारत मे 6 कृषि महाविद्यालय आरम्भ किये गए। भारतीय कृषि को संविधान की राज्य सूची में सम्मिलित किया गया था क्योंकि हमारा राष्ट्र विभिन्नता से परिपूर्ण है।

1926 में रॉयल कमीशन की अभिशंषा पर 1929 में स्थापित किया गया। 1948 में आजादी के पश्चात 1960 में पहली एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी की स्थापना हुई। इस समय भारत मे कृषि विकास हेतु दीर्घकालिक योजना की आवश्यकता शिद्द्त से महसूस की जाने लगी। 1965 में 6 एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी थी जो 1985 में 23 हो गई थी व आज 73 विश्विद्यालय स्थापित है। आज आईसीआर हजारों की संख्या में कृषि विशेषज्ञ देश को प्रदान कर रहा है इसके अलावा स्टेट लेवल पर भी हजारों की सँख्या में विशेषज्ञ तैयार हो रहे है।

आजादी से पूर्व जहाँ हमारा राष्ट्र अन्न की कमी झुंझ रहा था वह आज विश्व के अग्रणी कृषि उत्पादन राष्ट्रों में सम्मिलित है। आज हमारा विकास अनेक क्षेत्रों में हो रहा हैं। हमारा देश आज युवा जनसंख्या से सम्पन्न है एवं हमे हमारे युवाओ को कृषि की तरफ आकृष्ट करके हमारे देश की अन्न आवश्यकता को पूर्ण कर सकते है।

युवाओं हेतु कृषि क्षेत्र में अवसर।

" सोच बदल कर देखो सितारे बदल जाएंगे। नजर बदलकर देख नज़ारे बदल जाएंगे"।

कृषि में अध्ययन पश्चात विद्यार्थी इंजीनियरिंग, बैंकिंग, अध्यापन, रिसर्च, वैज्ञानिक जैसे अनेक क्षेत्रों में जा सकता है। अगर एक युवा कृषि क्षेत्र में अपना कैरियर आरम्भ करता है तो वो अनेकानेक क्षेत्रो में कैरियर बना सकता है।

कृषि क्षेत्र में अध्ययन के पश्चात स्नातक के पश्चात यूपीएससी के समस्त एग्जाम में भाग ले सकता है। पिछले कुछ वर्षों में एग्रीकल्चर विषय के विद्यार्थियों ने यूपीएससी में 9 फीसदी दर से सक्सेज प्राप्त की। इसी प्रकार भारतीय वन सेवा में कृषि स्नातक की सक्सेज रेट 40 फीसदी से अधिक है।

आरपीएससी से भी अनेक पद विज्ञापित किये जाते है। एसिस्टेंट एग्रीकल्चर ऑफिसर, स्कूल व्याख्याता, रेंजर , एग्रीकल्चर रिसर्च ऑफिसर जैसी अनेक रोजगार कृषि क्षेत्र में उपलब्ध है। कृषि पर्यवेक्षक, एएसआरबी, लाइफ साइंस अनेक क्षेत्रों में कृषि विद्यार्थियों हेतु अवसर है।

अनेक विदेशी सन्स्थान में रिसर्च इत्यादि में भाग लेने के लिए सीजीआईआर के माध्यम से प्रवेश ले सकते है । कृषि क्षेत्र में आईडीपीएस के माध्यम से विद्यार्थियों को बैंकिंग जॉब में जाने के अवसर है। इसी प्रकार नाबार्ड, नेशनल सीड कॉर्पोरेशन, कॉपरेटिव एजेंसी, स्टाफ सर्विस कमीशन में भी सेपरेट पोस्ट, विभिन्न मन्त्रालय में स्पेसिफिक पोस्ट, कृषि विकास हेतु बने हुए विभिन्न बोर्ड में पोस्ट, एफसीआई, एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया, देश के 73 कृषि विश्वविद्यालयों में अनेक पदों पर भर्ती के अवसर मिल सकते है।

अनेक प्रकार के प्रोजेक्ट में अस्थाई व शार्ट ड्यूरेशन के जॉब मिलते रहते है। सम्पूर्ण देश मे कृषि क्षेत्र में रोजगार के अनेक अवसर है इसके अलावा निजी क्षेत्र में भी बड़ी सँख्या में बहुत जॉब उपलब्ध है जैसे - एग्रीकल्चर बिजनेस मैनेजमेंट। कृषि में विद्यार्थियों को निजी क्षेत्र में मल्टीनेशनल कंपनियों द्वारा बहुत उच्च पैकेज दिए जा रहे है।

एग्रीकल्चर एक प्रोफेशनल कोर्स है जिसको कम्प्लीट करने के बाद विद्यार्थियों को अनेक सुविधाए उपलब्ध है।

कृषि क्षेत्र में विभिन्न अवसरों की एक सूची।

1. सहायक कृषि अधिकारी।
2. फ़ूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में टेक्निकल असिस्टेंट।
3. जूनियर टेक्निकल एसिस्टेंट।
4.  एफसीआइ में मैनेजर केवल कृषि स्नातक हेतु।
5. एसएससी में बीएससी हॉर्टिकल्चर हेतु।
6. एग्रीकल्चर सुपरवाइजर।
7. फ़ूड सेफ्टी ऑफिसर।
8. आरएएस भर्ती में कृषि एक विषय है।
9. प्रसार भारती में भी कृषि विषय हेतु प्लेसमेंट।
10. नेशनल हॉर्टिकल्चर बोर्ड में भर्ती। राजस्थान में हॉर्टिकल्चर कॉलेज झालावाड़ में)
11. एग्रीकल्चर इकोनॉमिस्ट पोस्ट।
12. कृषि प्रसार अधिकारी।
13. एसबीआई में कृषि अधिकारी।
14. नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड में भर्ती।
15. नेफेड व राजफैड में भर्ती।
16. नेशनल सीड कॉर्पोरेशन।
17. इसरो में अलग से भर्ती।
18. इंश्योरेंस सेक्टर में भर्ती।
19. अनेक राजकीय क्षेत्रो में भर्ती।
20. चौधरी चरण सिंह इंस्टिट्यूट में वैकेंसी ।
21. रिसर्च एसोसिएट।
22. हायर एज्युकेशन में अनेक सेक्टर में अध्ययन व रोजगार उपलब्ध।
23. कृषि विश्विद्यालयों में भर्ती।
24. नाबार्ड में भर्ती।
25. एग्रीकल्चर साइंस रिक्रूटमेंट बोर्ड द्वारा भर्ती।
26. सेंटर वेयर हाउस कॉर्पोरेशन में भर्ती।
27. डीएमआई में पोस्ट। डिपार्टमेंट ऑफ मार्केटिंग एन्ड इंस्पेक्शन।
28. सोइल साइंस लेब में भर्ती। सोइल साइंटिस्ट।
29. एग्रोनोमी में स्कोप। एग्रोनोमिस्ट को अच्छा पैकेज।
30. जेनेटिक्स फील्ड में जॉब।
31. एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में स्कोप। (उदयपुर में।कॉलेज)
32. बॉयो कैमेस्ट्री में स्कोप।
33. बॉयो टेक्नोलॉजी क्षेत्र में स्कोप।
34. एग्रीकल्चर स्टैटिक्स में स्कोप।
35. स्टैटिकल अधिकारी की पोस्ट।
36. एनिमल हसबेंडरी।
37. हॉर्टिकल्चर क्षेत्र में भर्ती।
38. प्राइवेट क्षेत्र में मार्केटिंग अधिकारी की पोस्ट। फर्टिलाइजर कम्पनियों में।
39. पोल्ट्री, डेयरी फील्ड में जॉब।
40. कंसल्टेंसी सर्विसेज में सलाह, लेक्चर इत्यादि के कार्य।
41. अब फर्टिलाइजर क्षेत्र में दुकान खोलने हेतु इस फील्ड की डिग्री आवश्यक है।
42. इन्क्यूबेशन सेंटर की स्थापना।
43. प्रोसेसिंग सेंटर्स।
44. खाद मैनेजमेंट एरिया।
45. फार्मिंग कंसल्टेंसी।

46. एग्रीकल्चर माइक्रोबायोलॉजी।

कृषि शिक्षा में प्रवेश प्रक्रिया-

स्नातक स्तर की शिक्षा प्राप्ति हेतु विद्यार्थियों के पास दो तरीके है।

1. आईसीआर के माध्यम से। 2. राज्यस्तरीय प्रवेश परीक्षा के माध्यम से।

आईसीआर के माध्यम से

न्यूनतम आयु-

विद्यार्थी की आयु न्यूनतम 16 वर्ष हो।

शिक्षा

विद्यार्थी के 10 प्लस 2 में सामान्य सीट हेतु 50 प्रतिशत नम्बर प्राप्त होने आवश्यक है।

प्रवेश परीक्षा

आईसीआर की प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन कम्प्यूटर टेस्ट द्वारा होगा। फिजिक्स, बायलॉजी व केमेस्ट्री के 50 प्रश्न व कुल 150 प्रश्न होगा। समय सीमा ढाई घण्टे होती है। इसमें मूल्यांकन में नेगेटिव मार्किंग होती है।

राजस्थान में प्रवेश।

राजस्थान में कुल 5 यूनिवर्सिटी है। इनके द्वारा संचालित महाविद्यालय में प्रवेश के लिए "संयुक्त प्रवेश परीक्षा" होगी। इसमे विद्यार्थियों को 120 प्रश्नो के उत्तर देने होंगे। इसमे नेगेटिव मार्किंग होती है।

एग्रीक्लचर यूनिवर्सिटी काेटा की ओर से राज्य स्तरीय संयुक्त प्रवेश परीक्षा यानी जेट 29 सितंबर काे छह जिलाें में आयाेजित की जाएगी। परीक्षा दाेपहर 12 से 2 बजे तक हाेगी। कुल 28,327 स्टूडेंट्स के लिए 2560 कमराें की व्यवस्था की गई है।

प्रवेश हेतु पूर्ण जानकारी आप निम्नलिखित लिंक से प्राप्त कर सकते है-

विद्यार्थियों को सुविधा

कृषि शिक्षा में विभिन्न वर्ग के विद्यार्थियों हेतु अनेक प्रकार की छात्रवृत्ति उपलब्ध है।