Categories: NationalNews

Air India के जल्द आ सकते हैं अच्छे दिन, टाटा ग्रुप ने लगाई बोली

Air India Hindi News : लगभग 68 वर्ष बाद एअर इंडिया की घर वापसी हो सकती है। जानकारी के अनुसार टाटा ग्रुप एवं स्पाइसजेट के चेयरमैन अजय सिंह ने एअर इंडिया को खरीदने के लिए बोली लगाई है। बोली लगाने की बुधवार को अंतिम तारीख थी। बता दें की एअर इंडिया पहले टाटा ग्रुप के पास ही थी। विनिवेश विभाग (Department of Investment and Public Asset Management) ने इसकी जानकारी सोशल मीडिया पर दी है। अब जो भी कम्पनी इसकी अंतिम नीलामी तक जाएगी उसे एअर इंडिया दी जाएगी।

टाटा ने की थी 1932 में एअर इंडिया की शुरुआत

टाटा ग्रुप ने ही ने एअर इंडिया को 1932 में शुरू किया था। टाटा समूह के J R D टाटा इसके फाउंडर थे। वे स्वयं पायलट थे। उस समय इसका नाम टाटा एअर सर्विस रखा गया था । 1938 तक कंपनी ने खुद की घरेलू उड़ानें शुरू कर दी थीं। इसके बाद दूसरे विश्व

युद्ध खत्म होने पर इसे सरकारी कंपनी बना दिया गया। आजादी के बाद सरकार ने इसमें 49 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी।

डील में मुंबई का ऑफिस भी शामिल

इस डील के तहत एअर इंडिया का मुंबई में हेड ऑफिस एवं दिल्ली का एयरलाइंस हाउस भी शामिल है। मुंबई के ऑफिस की बाजार वैल्यू 1,500 करोड़ रुपए से अधिक है। मौजूदा समय में Air India देश में 4400 एवं विदेशों में 1800 लैंडिंग और पार्किंग स्लॉट को नियंत्रित करती है।

कर्ज के बोझ से दबी है कंपनी

बता दें की भारी-भरकम कर्ज से दबी Air India को कई वर्षो से बेचने की योजना में सरकार विफल रही। सरकार ने 2018 में 76 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने के लिए बोली मंगाई थी। हालांकि उस समय सरकार ने प्रबंधकीय कंट्रोल अपने पास रखने की बात कही थी। जब इसमें किसी ने रूचि नहीं दिखाई तो सरकार ने मैनेजमेंट कंट्रोल के साथ इसे 100 प्रतिशत बेचने का निर्णय किया। हाल में

विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी कहा था कि 15 सितंबर के बाद बोली लगाने की तिथि आगे नहीं बढ़ाई जाएगी।

यह भी पढ़ें

Heavy Rain In India : इन राज्यों में बारिश से बदहाल हुए हाल, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
Telecom sector को केंद्र सरकार ने दी खुशखबरी, राहत पैकेज को मंजूरी
School Reopen News : कक्षा 6 से 8 के स्टूडेंट्स को स्कूल खुलने के लिए करना पड़ेगा इंतजार
TIME Influential List : दुनिया के 100 प्रभावशाली नेताओं में फिर आया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम
Rajasthan Assembly News : विधानसभा में उठा परकोटे के अतिक्रमण का मामला
JNVU Jodhpur में नए सत्र से शुरू होगा उर्दू विभाग, हंगामे के बीच मिली सहमति
Farmer's Protest : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब सिंधु बॉर्डर से हटेंगे किसान
NLU Rajasthan Reservation : अब NLU में राजस्थानियों को मिलेगा 25% आरक्षण
Petrol Diesel GST News : अब जीएसटी के दायरे में आ सकते हैं पेट्रोल व डीजल
IIT Kanpur कर रहा रिसर्च, हिंदी में पढ़ने को मिल सकते हैं विकीपीडिया-जर्नल्स

ACB Action In Rajasthan : एसीबी के निशाने पर रहे इन मंत्रियों के विभाग
US India Green Card : भारतीयों को मिल सकती है अमेरिकी नागरिकता, अमेरिका ने दिए संकेत
NEP IN MP : मध्यप्रदेश में स्टूडेंट्स पढ़ेंगे रामायण व महाभारत

इधर बीजेपी सांसद स्वामी ने नीलामी को लेकर लगाया आरोप


उधर, बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इसी सप्ताह सोशल मीडिया पर कहा था कि Air India की नीलामी प्रक्रिया में धांधली हो रही है। इस प्रक्रिया के खिलाफ उन्होंने कोर्ट जाने की बात कही थी। स्वामी ने Air India की नीलामी की प्रक्रिया को रद्द करने की मांग की थी। उनका कहना था कि स्पाइसजेट खुद वित्तीय समस्याओं से घिरी हुई कंपनी है और ऐसे में वह बोली लगाने की उचित अधिकारी नहीं है। सुब्रह्मण्यम स्वामी ने टाटा को भी अयोग्य बताया। स्वामी ने कहा कि Air एशिया के मामले में टाटा संकट में है और कोर्ट में मामला चल रहा है।

2007 से लगातार घाटे में चल रही है Air India


Air India 2007 में इंडियन एयरलाइंस में विलय के बाद से कभी मुनाफे में नहीं रही है। Air India कंपनी को मार्च 2021 में खत्म तिमाही में 9,500-10,000 करोड़ रुपए तक का नुकसान होने की आशंका जताई गई है। Air India पर 31 मार्च 2019 तक कुल 60,074 करोड़ रुपए का कर्ज भी है। जो भी Air India को खरीदेगा, उसे इसमें से 23,286.5 करोड़ रुपए का कर्ज का भार उठाना होगा। बाकी का कर्ज Air India असेट होल्डिंग को विशेष परपज व्हीकल के जरिए ट्रांसफर किया जाएगा।