Categories: Articles
| On 3 years ago

Atal Bihari Vajpayee: Memorable photo with Jodhpur's Royal Family

एक स्पेशल मेमोरी फोटो।

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री लौहपुरुष स्वर्गीय श्री अटलबिहारी जी बाजपेयी जोधपुर राजपरिवार के साथ। अटलजी के चेहरे को देखकर आपके उनके अन्तस् के देदीप्यमान चरित्र का आभास पा सकते है। उनके व्यक्तित्व का लोहा सम्पूर्ण विश्व मानता था।

24 जनवरी 1924 को पण्डित कृष्णबिहारी जी व उनकी सहधर्मिणी कृष्णा के घर जन्मे इस विश्वपुरुष ने अपने जीवन के सफर में अनेक माइलस्टोन स्थापित किये। उन्होंने यह सिद्ध किया कि एक ही जीवन मे एक ही व्यक्ति अनेको पैरामीटर्स पर पूर्णतः सफल हो सकता है।

श्री बाजपेयी जी ने एक राजनीतिज्ञ के रूप में नई परम्परायें स्थापित की एवम यह संदेश अपने व्यवहार से स्थापित किया कि प्रत्येक स्थिति में राष्ट्र से बढ़ कर कुछ भी नही है। अपने घोर वैचारिक प्रतिद्वंद्वी विचारों वाले व्यक्तियों व दलों के साथ भी राष्ट्र के मुद्दे पर एक मंच साझा किया जा सकता है।

मानव जीवन में उन्होंने सर्वाधिक महत्वपूर्ण मानवता, राष्ट्र व धर्म की रक्षा की है। आपने दीर्घ राजनयिक जीवन मे अपने विपक्षी दलों के साथ भी मधुर सम्बन्ध बनाये रखे। उनके प्रत्येक वाक्य में राष्ट्रप्रेम झलकता रहा। उनकी सादगी उनके धर्म को गौरान्वित करती रही। उनका व्यवहार मानवीय मधुर सम्बन्धो की पराकाष्ठा सिद्ध होता रहा।

उनके निधन से सम्पूर्ण राष्ट्र व्यथित है। हर मनुष्य को

लगता है कि कहीं कोई एक सरल, सौम्य, सद्चरित्र मानव हमारा साथ छोड़ गया है। श्री बाजपेयी जी ही वह शख्स थे जो कलियों के मुरझाने पर भी दुखी हो सकते थे व दुनिया के सबसे ताकतवर राष्ट्राध्यक्ष को दो टूक मना करके भी सुखपूर्वक शयन हेतु प्रस्थान कर सकते थे।

श्री बाजपेयी जी के चरित्र के अनेक पहलू है जिन पर बहुत विस्तार से लिखा जा सकता है। उनके स्वंय सेवक , भारतीय जनसंघ, कवि, पारिवारिक, नवाचारों इत्यादि के बारे में बहुत कुछ लिखा जाना है।

इस मेमोरियल फोटो में जोधपुर राजपरिवार की एक ऐसी शख्सियत है जिनके बारे में सम्पूर्ण राजस्थान गर्व की अनुभूति करता है। इस फोटो में हमारी सबकी राजमाता हैं। श्रीमती कृष्णा कुमारी जी ने 1951 के पश्चात अनेकों समस्याओं के बावजूद एक संघर्षशील जीवन जिया एवम मारवाड़ की जनता को अपने स्नेह व ममत्व से हर पल गौरान्वित रखा।

जोधपुर राजघराने के दिवंगत महाराजा स्वर्गीय श्री हनवंतसिंह जी के दुःखद असामयिक अवसान के पश्चात राजमाता ने अपनी जनता से सम्वाद बनाये रखा व नाबालिग महाराजा गजसिंह जी का संस्कारमय पालनपोषण किया।

इसी तस्वीर में जोधपुर राजघराने के वर्तमान महाराजा श्री गजसिंह जी व महारानी हेमराजे भी है। यह एक संग्रहनीय तस्वीर है जिसमें चार महत्वपूर्ण इंसान और उनके अपने सँघर्ष है।
सादर।