Categories: News
| On 2 years ago

Bal Sabha Karyakram: Innovative steps taken in Rajasthan.

बाल सभा: विद्यालय परिसर से बाहर बालसभा आयोजन का एक नवाचारी प्रयास।

शिक्षा विभाग के एक नवाचारी प्रयास के तहत शिक्षार्थी, शिक्षक व समाज को सम्वाद हेतु एक मंच देने का प्रयास बृहद बाल सभा है। सम्पूर्ण राजस्थान में बालसभा का आयोजन 9 मई 2019 को विद्यालय परिसर की अपेक्षा सार्वजनिक स्थान पर किया गया।

विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास अतार्थ मानसिक, शारीरिक, नैतिक , चारित्रिक विकास के साथ भावनात्मक विकास में बालसभा का विशेष महत्व है। इस बार बाल सभा का आयोजन सार्वजनिक स्थल पर किया गया।

बालसभा

विद्यालय परिसर से बाहर सार्वजनिक स्थलों पर आयोजित हुई इन बालसभा कार्यक्रमों में विद्यालय परिवार

के अलावा विभागीय प्रतिनिधि मौजूद रहे। इनमें अन्य विभाग के प्रतिनिधियों, ग्रामीणों, अभिभावकों ने बड़े उत्साह से सहभागिता निभाई।

इन बालसभाओं मे विद्यार्थी की अध्यक्षता में छात्र-छात्राओं ने सरस्वती पूजन के पश्चात मनोरंजक व ज्ञानवर्धक प्रस्तुतियां पेश की। विभिन्न विभागों से आए प्रतिनिधि गणों ने छात्रोपयोगी जानकारियां शेयर की।

इस कार्यक्रम के द्वारा समाज मे अनेक सन्देश देने के प्रयास किये। इस कार्यक्रम में अनेक विभाग के अधिकारियों ने भाग लिया। शिक्षा विभाग के अधिकारियों का फोकस नामांकन वृद्धि, ड्राप आउट को मुख्यधारा मे लाने व प्रवेशोत्सव कार्यक्रम के द्वितीय चरण पर रहा।

विभागीय प्रतिनिधियों ने विभिन्न बाल कल्याणकारी योजनाओं यथा निःशुल्क पाठ्यपुस्तक कार्यक्रम, ट्रांसपोर्ट वाउचर,

राजीव गांधी कॅरियर पोर्टल, गार्गी योजना, बालिका प्रोत्साहन योजना, साइकल योजना, मिड डे मील,इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी योजना, ऑनलाइन छात्रवृत्ति योजना आदि के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की।

बालसभा के माध्यम से राजीव गांधी करियर पोर्टल की विस्तार से जानकारी दी गई है। इस पोर्टल में बच्चे अपनी यूनिक आईडी रजिस्टर्ड करके अपने कैरियर के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है।

बैंक अधिकारियों द्वारा सम्बलन

बैंक अधिकारियों ने मोटे रूप में बताया कि 10 साल से अधिक आयु का कोई भी बच्चा अपना खाता खोल सकता है। सरकार 12 रुपये में 2 लाख का बीमा प्रदान किया जाता है। अटल पेंशन योजना में 18 वर्ष से अधिक

आयु के व्यक्ति जुड़ सकते है। एज्युकेशन लोन भी मिलता है। इस लोन से एक विद्यार्थी आगे की पढ़ाई जारी कर सकते है।

चिकित्सा अधिकारियों द्वारा सम्बलन।

चिकित्सा विभाग के प्रतिनिधियों ने रूबेला टीकाकरण, एनीमिया, डी वार्मिंग इत्यादि पर अपने सम्बोधन को केंद्रीत किया। भारत को ओरी से मुक्त करना है। वर्तमान में साल में 50 हजार बच्चों की मृत्यु हो जाती है। हम सभी को एनीमिया के विरुद्ध लड़ाई लड़नी है। विभिन्न स्वास्थय कार्यक्रम के तहत बच्चों के ह्रदय का ऑपरेशन किये जाते है व बच्चों को चश्मे दिए जाते है। बच्चों को टीकाकरण की भी बेसिक जानकारी दी गई है। टीकाकरण जिंदगी की बहुत बड़ी आवश्यकता है।

आयुर्वेद विभाग प्रतिनिधित्व करते हुए वैद्यजी ने अपने सम्बोधन में बताया कि आयुर्वेद एक पौराणिक पद्ति है। आहार, निद्रा व ब्रह्मचर्य आयुर्वेद के स्तम्भ है। सभी बीमारियों की चिकित्सा प्रकति में उपलब्ध है। हर व्यक्ति को जीवन मे एक रसायन का इस्तेमाल करना।चाहिए। प्रत्येक विद्यार्थी को रोजाना योग अवश्य करना चाहिए।

बाल सभा एक ऐसी सहशैक्षिक गतिविधि है जिसके माध्यम से विद्यार्थियों की रचनात्मक गतिविधियों को प्रोतसाहन मिलता है एवं उनमें नेतृत्व, सहभागिता, सामाजिकता, कौशल, गुणग्राहकी इत्यादि गुणों का विकास होता है।

अनुरोध है कि आप भी अपने विद्यालय के बालसभाओं के चित्र मय स्कूल नाम पोस्ट करें।

View Comments

  • मुझे अपने स्कूल की बाल सभा गतिविध पोस्ट करनी है प्लीज मेल id बताए।