Categories: Health

आम (Mango) खाने के फायदे, प्रकार, नुकसान एंव उपयोग

Mango (आम) - Mango (आम) की उत्पति अंग्रेजी शब्द मैगों के मैगोस शब्द से हुई हैं। हजारों साल पहले से इसकी खेती का इतिहास है। चौथी और पाचवीं शताब्दी में इसकी खेती दक्षिण एशिया से शुरू होकर 10वीं शताब्दी तक पूर्वी अफ्रीका में भी इसकी खेती शुरू हो गई। जिसकी पुष्टि के रूप में 14वीं शताब्दी में मोरक्कन यात्री इब्न बत्तुता के द्वारा इसके नाम की सूचना मोगादिशु में दी गई। 1498 में पुर्तगालीयों ने केरल के साथ मसाले का व्यापार किया था।

उस दौरान मलयालम के मन्ना शब्द से यह उत्त्पन्न हुआ। सन 1678 में डच के कमांडर हेन्द्ड्रिक वान रहीदे ने अपनी पुस्तक होर्रटस मलाबरिकस में आर्थिक और वैधिक मूल्य के पौधो की चर्चा की जो आम था फिर 17वीं शताब्दी में अमेरिका कोलनियो में इसको एक आचार के रूप में निर्यात किया, और अंततः 18वीं शताब्दी में शब्द का रूपांतरण आम में हो गया।

पहले यह दक्षिण एशिया में पाया गया बाद में इसकी खेती बरमूडा, वेस्ट इंडीज, और मेक्सिको में भी होने लगी, क्योंकि वँहा की जलवायु इसकी खेती के लिए बहुत ही उपयुक्त थी। उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में इसकी खेती बड़े पैमाने पर होती है। दक्षिण एशिया के मूल निवासी द्वारा Mango (आम) को मैग्फेरा इंडिका नाम द्वारा दुनियाभर भर में हर जगह वितरीत किया गया। मैग्फेरा एक बड़े बीज वाला छोटा फल था जिसमें बहुत सारे फाइबर मौजूद थे, जो अब अंग्रेजी नाम Mango (मैंगो) से जाना जाता है, भारत के बाद चीन में इसका स्रोत बहुत ज्यादा है।

हेमलिंतन ने गोवा के आमों को सबसे अच्छा फल बताया है, महात्मा बुद्ध ने आम के पेड़ के नीचे बैठकर ज्ञान की प्राप्ति की थी। इसके पेड़ को भारत में कल्पवृक्ष भी कहते हैं, जिसका अर्थ मनोवांछित फल देने वाला पेड़ होता है। भारत में कोई भी शुभ काम जैसे पूजा, शादी सामारोह या किसी भी मंगल कार्य में इसके पत्तों और लकड़ी का उपयोग शुभ माना गया है, पुरानी कथाओं में भी इनकी चर्चा हुई है। 

health Shivira

Mango (आम) क्या है -

यह एक बीज युक्त रसदार फल है। इसको फलों का राजा कहा जाता है इसमें भर-पुर मात्रा में Minerls (मिनरल्स), Vitamin (विटामिन) और Antioxcident (एंटीओक्सिडेंट) पाए जाते है, जो शरीर को स्वस्थ रखने में सहायक होते है यह भारत का राष्ट्रीय फल भी कहलाता है। इसके अलावा पाकिस्तान, फिल्लिप्पिनस का भी राष्ट्रीय फल है, साथ ही आम बांग्लादेश का राष्ट्रीय पेड़ है।

इसका पेड़ बड़ा और फैला हुआ होता है, इसकी ऊँचाई 30 से 90 फुट तक हो सकती है। इसकी पत्तियां नुकीली और लम्बी होती है, यह मूलतः एक मीठा फल है, यह गर्मियों में ज्यादा पाया जाता है। भारत में इसकी पैदावार होने के साथ ही ये और देशों में भी उपजाये जाते है। यह ब्राजील, मैक्सिको, सोमालिया इत्यादि देशों में भी पाया जाता है।

Mango (आम) के प्रकार -

विश्व में इसकी करीब चार सौ प्रजातियाँ पाई जाती है। यह नारंगी, लाल, और हरे रंगों में पाया जाता है। इसको कच्चे और मीठे दोनों रूपों में प्रयोग किया जाता है। यह हर मौसम में पाए जाते है। यह वार्षिक रूप, मध्य वार्षिक रूप और वर्ष के अंत में भी पाया जाता है। हर मौसम में विभिन्न नामों से जाने जाते है, ऋतू वर्ष में बम्बइया, मालदा, लंगड़ा, राजापुरी, सुंदरी नामों से जाना जाता है।

अर्धवार्षिक ऋतू में इन्हें अलफोंसो, दशहरी, जार्दालू, गुलाब खास, रूमानी नामों से जाना जाता है, तथा मौसम की समाप्ति पर फजली नाम से जाना जाता है। मौसम बदलने के साथ ही इसके स्वाद में भी हल्का सा परिवर्तन आने लगता है। जितने वर्ष के सीजन में मिठास लिये रहते हैं, और भी सीजन में अपने स्वाद की वजह से इसकी मांग हमेशा बनी रहती है।

Mango (आम) में पाये जाने वाले पोषक तत्व -

Carbohydrates (कार्बोहाइड्रेट्स)17 ग्राम
Energy (एनर्जी)70 कैलोरी
Protin (प्रोटिन)0.5 ग्राम
Fat (वसा)27 ग्राम
Vitamin C (विटामिन सी)01 मिलीग्राम
Vitamin A (विटामिन ए)765 आई यू
Vitamin E (विटामिन ई)1.12 मिलीग्राम
Vitamin K (विटामिन के)04.2 माइक्रोग्राम
Sodium (सोडियम)02 मिलीग्राम
Poteshium (पोटैशियम)156 मिलीग्राम
Calcium (कैल्शियम)10 मिलीग्राम
Copper (कॉपर)0.110 मिलीग्राम
Iron (आयरन)0.13 मिलीग्राम
Magnesium (मैग्नीशियम)09 मिलीग्राम
Manganese (मैंगनीज)0.027 मिलीग्राम
Zink (जिंक)0.04 मिलीग्राम

Mango (आम) के फायदे -

  • Vitamin A (विटामिन ए) पाया जाता है।
  • इसमें Vitamin C (विटामिन सी) प्रचूर मात्रा में पाया जाता है।
  • इनमें बहुत सारे फाइबर होते है।
  • इसको खाने से खून की कमी से बचा जा सकता है।
  • इसमें साईट्रिक एसिड पाया जाता है जिससे पाचन तंत्र को ठीक रख सकते हैं।
  • कब्ज और पाइल्स जैसी बिमारियों को रोकने में मदद करता है।
  • इसमें मौजूद फाईबर रोगों से लड़ने वाली प्रतिरोधी क्षमता का भी विकास करती है।
  • कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचाता हैं।
  • इसके सेवन से ह्रृदय की स्थिति को ठीक रख सकते हैं।
  • किडनी की बिमारियों को भी दूर रखने की क्षमता Mango (आम) में होती है।
  • इनमें ग्लुटामिन नामक एसिड पाया जाता है जो याद करने की क्षमता को भी बढ़ता है।
  • इसमें Vitamin A, B, K, E (विटामिन ए, बी, के, इ) के अलावा Magnesium (मैग्नेशियम) भी मिलता है।
  • शरीर में रोगों से लड़ने वाले शक्ति विकसित होती है।
  • त्वचा के लिए लाभदायक होता है-
    • त्वचा पर लगाने से त्वचा के बंद रोमछिद्र खुल जाते हैं जिससे त्वचा साफ़ और चमकने लगती है।
    • इसके सेवन से भूख बढ़ती है, और लगातार सेवन से त्वचा का रंग साफ़ होता है।
    • त्वचा मुलायम बनती है।
    • त्वचा पर उम्र का असर कम दिखता है।
  • बालों के लिए लाभकारी -
    • इसमें Vitamin C (विटामिन सी) पाया जाता है, इसके इस्तेमाल से रूखे, बेजान और झड़ते हुए बाल को ठीक रखने में सहायता मिलती है।
    • इसकी गुठलियों से बने तेल को बाल में लगाने से वो जल्दी झड़ते नहीं है और न जल्दी सफेद होते है।
    • इसमें Vitamin A,C (विटामिन ए, सी) की मात्रा होने के कारण यह बालों के बढ़ने की गति को बढ़ाता है और बालों को मजबूत रखने में सहायक होता है।
    • इसकी गुठलियों को पीस कर आंवले के साथ मिलाकर लगाने से बाल काले होते हैं।
  • आम के रस और पत्ते के उपयोग -
    • इसका रस पीने से कमजोरी दूर होती है।
    • आम का रस शरीर को ठंडक देने के साथ चेहरे पर भी ताजगी को बनाये रखता है।
    • आम का रस पीने से गर्मियों में धूप से लगने वाले Strock (स्ट्रोक) से बचा जा सकता है।
    • आम में Antioxcident (एंटीओक्सिडेंट) पाया जाता है जो त्वचा को ऊम्र के प्रभाव से बचाता है।
    • इसके पत्तों को सुखा कर उनका चूर्ण मधुमेह के रोगियों को खाना चाहिए, जिससे शरीर में Insulin (इन्सुलिन) की मात्रा ठीक रहती है।
  • कच्चे आम के उपयोग -
    • कच्चा आम शरीर में पानी की कमी को पूरी करता है।
    • पाचन क्रिया अच्छी रहती है।
    • आम में एक प्रकार का एसिड होता है जो गर्मी में पाचन संबंधी समस्याओं से बचाता है। जैसे-
      • लू से बचाने में।
      • शुगर स्तर को नियंत्रण करने में।
      • एसिडिटी आदि।
  • आम के पन्ने के फायदे -
    • आम का पन्ना आंखों के लिए काफी अच्छा साबित होता है क्योंकि Mango (आम) में Vitamin A (विटामिन ए) की मात्रा पाई जाती है।
    • आम का पन्ना शरीर में एनीमिया की मात्रा को नियंत्रित करता है।
    • इसका सेवन पाचन क्रिया के लिए लाभकारी होता है।
    • इसके पन्ने में Iron (आयरन) की मात्रा सबसे अधिक होती है, जिससे हीमोग्लोबिन बढ़ता है।
    • इसके पन्ने को पीने से शरीर हाइड्रेटेड रहता है और लू नहीं लगती
  • आम रस के फायदे - इसके रस से Cencer (कैंसर), cholesterol (कोलेस्ट्रॉल), त्वचा, पाचन क्रिया जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
    • मोटापा कम होता है।
    • आम का सेवन व्यक्ति को बिमारियों से निजात दिलाता है।

Mango (आम) का उपयोग कैसे करें -

  1. आम को कच्चे और पके हुए दोनों रूप में खा सकते है।
  2. कच्चे आम को आचार, अमचुर बना कर लम्बे समय तक रख कर खा सकते है।
  3. कच्चे या पके आमों की चटनी के अलावा जैम, जेली, स्क्वाश बनती है।
  4. इसको सलाद के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।
  5. आम पन्ना जो कच्चे आमों से बनता है और मैंगो शेक बना के पीया जाता है
  6. मैंगो शेक को कच्चे या पके दोनों तरह के आमों से बनाया जा सकता है।
  7. आम साथ उसकी गुठलियों
    का भी इस्तेमाल होता है, गुठलियों के ऊपर वाले मोटे मजबूत भाग को फोड़ कर अंदर के भाग को सुखाकर उसका अमचुर पाउडर बनता है, जिसका इस्तेमाल सब्जियों के व्यंजनों में होता है आदि।

यह भी पढ़े :

आम (Mango) खाने के फायदे, प्रकार, नुकसान एंव उपयोग
अनार के फायदे और नुकसान | Pomegranate Benefits and Side Effects in Hindi
केले (Banana) के फायदे, उपयोग, औषधीय गुण और नुकसान
आंवला खाने के गुण फायदे उपयोग | Amla Health, Hair, skin Benefits, gun in hindi
आयरन की कमी | मात्रा, कमी के कारण, लक्षण, बचाव, कमी से होने वाली बीमारी

Mango (आम) के नुकसान -

  • आम के उपरी भाग में एक केमिकल होता है, जोयदि त्वचा या होठों के ऊपर लग जाए तो खुजली होने लगती है।
  • इसमें चीनी की मात्रा अधिक होने से यह वजन को बहुत जल्दी बढ़ा देता है।
  • इसमें फाइबर की मौजूदगी अधिक होती है जिससे ज्यादा खाने से दस्त की बीमारी भी हो सकती है।
  • आम को कृत्रिम तरीके से पकाने के लिए कैल्सियम कार्बाइड का इस्तेमाल किया जाता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
  • केमिकल युक्त फलों के सेवन से मानसिक विकार भी हो सकते है।
  • गर्भवती महिलाओं को भी इसका सेवन हानि पंहुचा सकता है।
  • इसके सेवन से गर्भ में पल रहे बच्चे को शारीरिक और मानसिक विकार भी हो सकता है।