Categories: Health

प्याज के फायदे (Benefits of Onion in Hindi) | Onion Properties, Advantages, Disadvantages in Hindi

Benefits of Onion in Hindi - प्याज़ एक वनस्पति है जिसका कन्द सब्जी के प्रयोग में किया जाता है। भारत में महाराष्ट्र में प्याज़ की खेती सबसे अधिक होती है। यह एक शल्ककंदीय सब्जी है। जिसके कन्द सब्जी के रूप में प्रयोग किए जाते हैं। इसका कन्द तीखा होता है। यह तीखापन एक वाष्पशील तेल एलाइल प्रोपाइल डाय सल्फाइड कारण होता है। प्याज का

उपयोग सब्जी, मसाले, सलाद तथा अचार तैयार करने के लिए किया जाता है। इसके कन्द में Iron (आयरन), calcium (कैल्शियम), तथा Vitamin C (विटामिन सी) पाया जाता है। प्याज़ का कन्द तीखा, तेज, बलवर्धक, कामोत्तेजक, स्वादवर्धक, क्षुधावर्धक तथा महिलाओं में रक्त वर्धक होता है।

पित्तरोग, शरीर दर्द, फोड़ा, खूनी बवासीर, तिल्ली रोग, रतौंधी, नेत्रदाह, मलेरिया, कान दर्द तथा पुल्टिस के रूप में लाभदायक होता

है। अनिद्रा निवारक, चक्कर आने पर सुंघाने के लिए उपयोगी होता है। कीड़ों के काटने से उत्पन्न जलन को शान्त करता है। प्याज, एक तना जो कि छोटी-सी तस्तरी के रूप में होता है। जो बहुत ही मुलायम शाखाओं वाली फसल है। जो कि पोले तथा गूदेदार होते हैं। रोपण के 02 से 03 माह पश्चात् तैयार हो जाती है। इसकी फसल अवधि 120-130 दिन है।
औसत उपज 300 से 375 क्विंटल प्रति हेक्टर होती है। फसल मार्च-अप्रेल में तैयार हो जाती है।

प्याज का इस्तेमाल लगभग हर घर में होता है। प्याज का उपयोग सब्जी को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। अनेक लोग प्याज को सलाद के रूप में उपयोग करते हैं। प्याज शाक (सब्जी) के रूप में उगायी जाने वाली एक वनस्पति है। जिसका उपयोग प्राचीन काल से औषधि तथा भोजन के घटक के रूप में किया जाता रहा है। अनेक प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों में प्याज के गुण-धर्मों का वर्णन बताया गया है। यह कई बीमारियों के लिए दवा का काम करता है। आयुुर्वेद में प्याज के बारे में बहुत-सी बातें बताई गई हैं।

This image has an empty alt attribute; its file name is image-56.png

बेशक इसे काटते समय आंखों में पानी आता है, लेकिन इसे खाने से अनगिनत फायदे होते हैं। प्याज खाने से लू नहीं लगती। डायबिटीज व कैंसर जैसी बीमारियों से बचाने में भी सक्षम होता है।

प्याज़ क्या है (what is an onion in Hindi)

प्याज अनेक औषधीय गुणों से भरपूर एक खाद्य पदार्थ है। इसकी दो प्रजातियाँ होती हैं। इसकी जड़ का उपयोग सलाद या सब्जियों के पूरक के रूप में अधिक किया जाता है। प्याज के ऊपरी तने को भी खाया जाता है। इसकी जड़ और तने के रस का उपयोग उपचारों के लिए किया जाता है। रंगों एवं आकार के आधार पर प्याज की कई प्रजातियाँ होती हैं। रंगों में यह सामान्यतः दो प्रकार का होता है। लाल और सफ़ेद। कुछ इसे प्याज और जंगली प्याज के रूप में भी बाँटते हैं, किन्तु औषधि के रूप में प्रयोग के लिए सफ़ेद रंग की प्याज को उत्तम माना जाता है। प्याज को Vitamin A (विटामिन ए) का अच्छा स्रोत माना जाता है।

मूल रूप से प्याज को सब्जी माना जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम (एलियम सेपा) Allium Cepa है। प्याज के पौधे के पत्ते में नीले व हरे रंग के होते हैं। इसे कच्चा भी खाया जा सकता है इसका स्वाद तीखा और तेज होता है।

प्याज के प्रकार (Types of onions in Hindi)

  1. पीला प्याज
  2. मीठा प्याज
  3. सफेद प्याज
  4. लाल प्याज
  5. शैलोट्स
  6. हरा प्याज
  7. लीक

प्याज के पौष्टिक तत्व (Nutritional Elements of Onions in Hindi)

#advanceampadstable0#

प्याज के फायदे (Benefits of onion in Hindi)

  • आंखों के रोग में लाभकारी होता है।
  • नाक के रोग में इस्तेमाल होता है।
  • कान की बीमारी दूर करने में सहायक होता है।
  • दांतों-मसूड़ों के लिए उपयोगी होता है।
  • कील-मुंहासे दूर करने में सहयोगी होता है।
  • गले के रोग में फायदेमंद होता है।
  • कफ दूर करने के लिए उपयोगी होता है।
  • दमा में लाभकारी होता है।
  • पाचनशक्ति बढ़ाता है।
  • बवासीर में लाभदायक होता है।
  • रजोनवृत्ति में सहायक होता है।
  • पेचिश के इलाज में उपयोगी होता है।
  • पीलिया के इलाज में फायदेमंद होता है।
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस का मुकाबला करता है।
  • गुर्दे की पथरी का इलाज करता है।
  • यौन रोग में सहायक होता है।
  • बेहतर श्वासनली बनाता है।
  • मिर्गी में इस्तेमाल किया जाता है।
  • मासिक चक्र विकार में उपयोग होता है।
  • हैजा के उपचार में प्रयोग किया जाता है।
  • खांसी को दूर करने में इस्तेमाल किया जाता है।
  • कामशक्ति बढ़ाने में उपयोग किया जाता है।
  • गठिया का इलाज करने में इस्तेमाल किया जाता है।
  • यूटीआई से राहत (यूरिन ट्रैक इंफेक्शन) दिलाता है।
  • नपुंसकता दूर करने में उपयोगी होता है।
  • चर्मरोगों के उपचार में फायदेमंद होता है।
  • हिस्टीरिया में लाभकारी होता है।
  • अनिद्रा दूर करता है।
  • शारीरिक कमजोरी दूर करता है।
  • खून साफ़ करता है।
  • किडनी में पथरी को दूर करता है।
  • बुखार को कम करने में इस्तेमाल होता है।
  • दमकती त्वचा के लिए उपयोगी होता है।
  • स्वस्थ मस्तिष्क के लिए फायदेमंद होता है।
  • कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करने में सहायक होता है।
  • प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में लाभकारी होता है।
  • कैंसर के इलाज में इस्तेमाल होता है।
  • याद्दाश्त बढ़ाने में मददगार होता है।
  • ब्रेस्टफीड करवाने वाले महिलाओं के लिए आवश्यक होता है।
  • वीर्य की कमी को दूर करता है।
  • फटी एड़ियों के इलाज में सहायक होता है।
  • फेफड़ों के रोग को दूर करने में उपयोगी होता है।
  • लू को बेअसर करता है।
  • सूजन दूर करता है।
  • कीड़ों के काटने पर उपयोग किया जाता है।
  • बिच्छू के काटने पर इस्तेमाल किया जाता है।
  • मस्सों के लिए मददगार होता है।
  • सांसों के रोगों को ठीक करने में उपयोगी होता है।
  • पेट के लिए फायदेमंद  होता है।
  • त्वचा के रोगों को ठीक करता है।
  • संक्रामक रोगों से बचाता है।
  • डायबिटीज को नियंत्रित रखता है।
  • एंटी-एजिंग को दूर करता है।
  • कैंसर रोग को कम करने में मददगार होता है।
  • डार्क स्पॉट व पिगमेंटेशन से राहत दिलाता है।
  • बेहतर ह्रदय स्वास्थ्य रखता है।
  • हड्डियां मजबूत करता है।
  • एलर्जी से राहत दिलाता है।
  • मुंह का स्वास्थ्य ठीक रखता है।
  • लंबे बाल के लिए उपयोगी होता है।
  • डैंड्रफ दूर करता है।
  • बालों का प्राकृतिक रंग लौटाने में मददगार होता है।
  • सफेद बालों से राहत दिलाता है।
  • जूं को खत्म करता है।

प्याज का उपयोग (use of onions in hindi)

  • अगर सलाद खाने के शौकीन हों तो उसमें प्याज का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • प्याज को छोटे टुकड़ों में काटकर पास्ता व सूप आदि में डाल सकते हैं।
  • चावल बनाते समय प्याज व जीरे का तड़का लगा सकते हैं।
  • सब्जी या दाल बनाते समय प्याज का तड़का लगाया जा सकता है।
  • टमाटर व प्याज की सब्जी भी बना कर खा सकते हैं।

प्याज के उपयोग के तरीके (How to use Onion in Hindi)

  1. शल्ककन्द
  2. पत्ते
  3. बीज
  4. वाष्पशील तेल

प्याज के नुकसान (Disadvantages of Onion in Hindi)

  1. यह खून में शुगर की मात्रा को काफी कम कर सकता है।
  2. त्वचा पर प्याज का रस लगाने से कुछ लोगों में खुजली व त्वचा पर रैशेज हो सकते हैं।
  3. प्याज का अधिक सेवन करने से पेट में गैस, जलन, उल्टी व मतली जैसी परेशानियाँ हो सकती हैं।
  4. गर्भवती महिलाओं को प्याज का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए, क्योंकि अधिक मात्रा में इसका प्रयोग करने से सीने में जलन हो सकती है।
  5. प्याज के सेवन से शरीर में लिथियम की मात्रा बढ़ सकती है।
  6. प्याज के सेवन से सिस्टोलिक व डायस्टोलिक रक्तचाप का स्तर कम हो सकता है।
  7. प्याज में तीव्र दुर्गन्ध होती है जिससे यह पुरुषों में कामुकता और महिलाओं में रजोगुण को बढ़ा कर कम भावना को तेज करता है।

यह भी पढ़े :

नीम के पत्तों के फायदे नुकसान | Neem Leaves Hair, skin, Health Benefits and side effects In Hindi
मधुमक्खी के डंक का उपचार और उसके लक्षण | Honey Bee Sting Treatment and Symptoms in Hindi
तन और मन को स्वस्थ रखने के लिए करें प्राणायाम, जानें सही तरीका
शहद के फायदे और नुकसान | Honey Skin, Hair and Health Benefits and Side Effects In Hindi
WORLD HEART DAY विश्व हृदय दिवस

प्याज की खेती (farming of onion in Hindi)

भारत में मुख्यतः Gujarat (गुजरात), Maharashtra (महाराष्ट्र), West Bengal (पश्चिम बंगाल), Uttar Pradesh (उत्तर प्रदेश) एवं South India(दक्षिण भारत) में प्याज की खेती की जाती है।