ज्योतिष

अनुराधा नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

अनुराधा नक्षत्र, जो वृश्चिक राशि में 03°20' से 16°40' अंश तक है, वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 17वां नक्षत्र है और वृश्चिक राशि का एक हिस्सा है। इस चंद्र भवन के चारों पाद वृश्चिक राशि की वृषिका राशि में हैं। अनुराधा का अनुवाद “राधा का अनुसरण” के रूप में किया जाता है। अनुराधा…

ज्येष्ठा नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

ज्येष्ठ या ज्येष्ठ नक्षत्र, जो वृश्चिक राशि में 16°40' से 30°00' अंश तक है, भारतीय ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 18वां नक्षत्र है। ज्येष्ठ नक्षत्र का प्रतीक एक छाता या एक गोल सुरक्षात्मक तावीज़ है। एक छाता सुरक्षात्मक प्रभाव की छाया डालने के लिए सुरक्षा और क्षमता के लिए खड़ा है। एक तावीज़, गुप्त…

मूल नक्षत्र (मूला) अर्थ और अनुकूलता

मूला नक्षत्र, जो धनु राशि में 00°00' – 13°20' अंश से है, भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 19वां नक्षत्र है। यह चंद्र नक्षत्र अलग-अलग तरीकों से लिखा गया है लेकिन सभी एक ही मूल नक्षत्र का उल्लेख करते हैं। इसे लोकप्रिय रूप से मूल नक्षत्र के रूप में लिखा जाता है, कुछ…

पूर्वा आषाढ़ नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

पूर्वा आषाढ़ नक्षत्र, जो धनु राशि या धनु राशि में 13°20' से 26°40' अंश तक है, भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 20वां नक्षत्र है। पूर्वा आषाढ़ नक्षत्र का प्रतीक पंखा है, विशेष रूप से हाथ का पंखा। पूर्वा आषाढ़ का दूसरा प्रतीक विनोइंग टोकरी है, जिसका उपयोग उनकी भूसी से अनाज को…

उत्तरा आषाढ़ नक्षत्र का अर्थ और अनुकूलता

उत्तरा आषाढ़ नक्षत्र, जो धनु राशि में 26°40' से शुरू होता है और मकर राशि में 10°00' पर समाप्त होता है, वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 21वां नक्षत्र है। उत्तरा आषाढ़ नक्षत्र के लिए शासक देवता या देवताओं का समूह दस विश्व देव या विश्व देव हैं। विश्व देव या विश्व देव शब्द…

श्रवण नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

श्रवण नक्षत्र, जो 10°00' से शुरू होता है और मकर राशि में 23°20' तक होता है, भारतीय वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 22वां नक्षत्र है। श्रवण नक्षत्र को श्रवण नक्षत्र या श्रवण नक्षत्र के रूप में भी लिखा जाता है। श्रवण नक्षत्र में एक असमान पंक्ति में तीन पैरों के निशान का एक…

धनिष्ठा नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

भारतीय ज्योतिष के अनुसार धनिष्ठा नक्षत्र, जो मकर राशि में 23°20' अंश से कुम्भ राशि में 06°40' अंश तक है, राशि चक्र में 23वां नक्षत्र है। धनिष्ठा नक्षत्र को अक्सर 'धनिष्ट' के रूप में उच्चारित किया जाता है, लेकिन इसे धनिष्ठा या धनिष्ठा के रूप में लिखा जाता है। धनिष्ठा नक्षत्र का प्रतीक ड्रम है।…

शतभिषा नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

शतभिषा नक्षत्र, जो कुंभ राशि में 06°40' से 20°00' अंश तक है, हिंदू ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 24वां नक्षत्र है। शतभिषा का अर्थ है सौ वैद्य। शतभिषा शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, इसलिए संस्कृत भाषा में सता या शता का अर्थ सौ और भीष का अर्थ चिकित्सक होता है। इसलिए इस…

पूर्व भाद्रपद नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

पूर्व भाद्रपद नक्षत्र, जो कुम्भ राशि में 20°00' अंश से मीन राशि में 03°20' तक है, भारतीय ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 25वां नक्षत्र है। इस नक्षत्र को पूर्व भाद्रपद नक्षत्र भी कहा जाता है। और इस चंद्र हवेली का संक्षिप्त नाम पूर्वभद्रा नक्षत्र है। भाद्रपद का अनुवाद भाग्यशाली पैर के रूप में किया…

उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र अर्थ और अनुकूलता

उत्तर भाद्रपद नक्षत्र, जो मीन राशि में 03°20' से 16°40' अंश तक फैला है, हिंदू ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र में 26वां नक्षत्र है। उत्तरा भाद्रपद के नक्षत्र का संक्षिप्त नाम उत्तरभद्रा नक्षत्र है। उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र का प्रतीक एक अंतिम संस्कार खाट या अंतिम संस्कार बिस्तर का पिछला पैर है, जिसका उपयोग मृतकों को…

Scroll to Top