| On 4 months ago

CCE: Continuous and Comprehensive Evaluation

CCE: Continuous and Comprehensive Evaluation - Meaning, Objectives and Preparation of Annual Report of Students.

सतत व व्यापक मूल्यांकन का अर्थ, उद्देश्य व वार्षिक प्रतिवेदन का निर्माण।

Meaning of CCE ( सतत तथा व्यापक मूल्यांकन का अर्थ )

सतत तथा व्यापक मूल्यांकन का अर्थ है छात्रों के विद्यालय आधारित मूल्यांकन की प्रणाली जिसमें छात्र के विकास के सभी पक्ष शामिल हैं।"सतत" शब्द से यहां अर्थ है कि निर्धारण की नियमितता, यूनिट परीक्षा की आवृत्ति, अधिगम के अंतरालों का निदान, सुधारात्मक उपायों का उपयोग, पुनः परीक्षा और स्वयं मूल्यांकन। ‘व्यापक’’ का अर्थ है कि इस योजना में छात्रों की वृद्धि और विकास के शैक्षिक तथा सह-शैक्षिक दोनों ही पक्षों को शामिल करने का प्रयास किया जाता है।

संक्षेप में यहाँ विद्यार्थी का मूल्यांकन मात्र किसी एक परीक्षा पर निर्भर नही होकर उसके वर्षपर्यन्त कार्यो का नियमित मूल्यांकन करना है।

Objective of CCE ( सतत तथा व्यापक मूल्यांकन का उद्देश्य )

सतत व व्यापक मूल्यांकन का प्रथमिक उद्देश्य किसी विद्यार्थी का विद्यालय उपस्थिति के दौरान उससे सम्बंधित प्रत्येक पहलु का मूल्यांकन करना है। इस विधा द्वारा विद्यार्थियों का सतत मूल्यांकन करते हुए परीक्षा के भय से मुक्त रखना है।

इसके अन्य उद्देश्य बोधात्मक, साइकोमोटर और भावात्मक कौशलों के विकास में सहायता करना, विचार प्रक्रिया पर जोर देना ना कि याद करने पर व मूल्यांकन को अध्यापन-अधिगम प्रक्रिया का अविभाज्य अंग बनाना है।

Annual report (वार्षिक प्रतिवेदन)

सीसीई के अंतर्गत वार्षिक प्रतिवेदन बनाते समय क्या ना करे

1. नकारात्मक टिप्पणी ना करे, यथा - छात्र अंग्रेजी विषय में कमजोर हैं , पुस्तक पढ़ने में अब भी असमर्थ हैं ।
इसको कुछ इस तरह लिखे -
छात्र का अंग्रेजी विषय के प्रति रुझान कम हैं , पुस्तक पढ़ने में शिक्षक की सहायता की आवश्यकता पड़ती हैं।

2. जोड़-बाकी गुना-भाग की जगह संक्रिया शब्द का इस्तेमाल करे।

3. वार्षिक प्रतिवेदन हिंदी भाषा में हैं अतः वार्षिक प्रतिवेदन का लेखन हिंदी भाषा मे ही करे।

4. समग्र टिप्पणी अंकित करे। उपविषयों पर अधिक टिप्पणियां नही करे।

5. प्रतिवेदन की टिप्पणी में छात्र के नाम का उल्लेख बार-बार नही करे क्योकि उसका नाम पहले से दर्ज है।

6.छात्र के व्यवहार पर उनुचित टिप्पणी ना करे ।

7. छात्र की ग्रेड

के उलट टिप्पणी ना करे जैसे छात्र के अगर हिंदी में B ग्रेड हैं तो टिप्पणी में ये ना लिखे की ,
-छात्र का हिंदी के प्रति रुचिपूर्ण द्रष्टीकोण हैं व् शब्द भण्डार प्रशंसनीय हैं ।

अभिलेख पंजिका में समेकित टिप्पणी-

✍बालक रमेश ने सभी विषयों मे अच्छी प्रगति की है ।

✍हिन्दी विषय मे पठन व लेखन मे उत्कृष्ट कार्य कर लेता है।

✍सीखने की गति ठीक है ।

✍कक्षा मे शिक्षण के दॊरान सहभागिता अच्छी है ।

✍ साथियों के साथ अच्छा तालमेल रखता है।

✍सहशैक्षिक गतिविधियों मे रूचि रखता है।

✍गृहकार्य एवं कक्षाकार्य समय पर पूरा करता है ।

✍गणित विषय मे विशेष रूचि होने के साथ ही अंग्रेजी विषय मे कम रूचि लेता है ।

✍सृजनात्मक कार्यों मे खास रूचि है।

✍खेलों और सांस्कृतिक कार्यों में रूचि से भाग लेता है।

✍कक्षा में व्यवहार उत्तम है।

✍परिवेशीय सजगता बढी है।

✍बालक में आत्मविश्वास की भावना बढ़ी है।

✍बालिका में साहित्यिक रूचि बनी है।

✍व्यक्तिगत,घरेलू और विद्यालय में चीजों के व्यर्थ इस्तेमाल को रोकने की समझ है।

✍प्रजातांत्रिक मूल्यों (समानता,भाईचारा,बन्धुता) का विकास हुआ है।

✍राष्ट्रीयता व सांस्कृतिक धरोहरों की जानकारी।

✍विद्यालय कार्यक्रमों में अच्छी भागीदारी है।

इसके साथ साथ बच्चें की शैक्षिक स्तिथि,कक्षा कार्य उपस्तिथि,व्यवहार,खेल,विद्यालय प्रोग्राम,स्वच्छता व स्वास्थय,सामान्य ज्ञान, परिवेशिय सजगता तथा विशेष रूचि आदि को ध्यान में रखकर समेकित टिप्पणी की जाए।

अभिभावक टिप्पणी -

✍बच्चे ने पढाई के स्तर मे अच्छी प्रगति की है
✍पाठ्य पुस्तक पढने लगा है ।
✍अपने शब्दों मे वाक्य निर्माण करलेता है ।
✍जोड़ बाकि गुणा भाग ,पहाड़े , एवं गणितीय सवाल लिखित एवं मॊखिक हल करने लगा है ‌।
✍अंग्रेजी मे आसान sentences पढ लेता है
✍अंग्रेजी की पाठ्यपुस्तक पढने मे ओर अभ्यास की आवश्यकता है ।
✍लेख भी सुन्दर लिखने लगा है ।
✍पढने लिखनें में रूचि बढी है।
✍अनुशासन,नियमितता,स्वच्छता व परिवेशिय सजगता का विकास हुआ है ।
✍बच्चे का कार्य संन्तोषजनक /उत्कृष्ट रहा है
✍घर पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
✍विद्यालय में शैक्षिक वातावरण अच्छा है ।
✍बच्चे ने वर्षभर कठीन मेहनत कर शैक्षिक प्रगति हासिल की है।
✍बच्चे की प्रगति से मैं संतुष्ट हूं।
अभिभावक टिप्पणी यदि गार्जन स्वयं लिखे तो बहुत अच्छा, नही तो जो अभिभावक मौखिक रूप से बालक की वार्षिक शैक्षिक और सहशैक्षिक प्रगति के बारे में बताए उस आधार पर टिप्पणी लिख देवे।

अध्यापक योजना डायरी में संस्था प्रधान का अभिमत- ये अभिमत दे सकते हैं।

✍1 बच्चे की सीखने की प्रक्रिया के मजबूत पक्ष को ध्यान में रखकर पाठ योजना का निर्माण किया गया है ।
✍2 रचनात्मक और सकारात्मक तरीके से पाठ योजना का निर्माण कर संप्रेषित किया गया है ।
✍3 विध्यार्थी के व्यक्तित्व के भिन्न-भिन्न पहलुओं को ध्यान में रखकर पाठ योजना बनाई है।
तदनुरूप क्रियान्वयन भी किया गया है ।
✍4 प्रत्येक स्तर केबच्चे को ध्यान में रखकर सीखने की प्रक्रिया को संमुन्नत करने के उद्द्येश्य से उन्हें अधिक अर्थपूर्ण अवसर तथा अनुभव प्रदान कर पाठ योजना का निर्माण किया गया है ।
✍5 सीखने के क्षेत्र के विशेष संकेतकों ;सूचकों के आधार पर अच्छी पाठ योजना का निर्माण कर अधिगम करवाया गया है ।
✍6 बच्चों का आकलन ज़्यादातर क्षेत्रों में कर सीखने के अधिक अवसर देकर एक अच्छी योजना का निर्माण किया गया है। बच्चों ने अच्छा सीखा है ।
✍7 विद्यार्थियों को पाठ्य पुस्तक के अतिरिक्त भी सीखने को प्रोत्साहित कर विषय वस्तु को का दायरा बढाया गया है।
ये एक बेहतर पाठ योजना साबित हुई है ।

आप सभी अध्यापकों से निवेदन हैं की इस पर चर्चा करे ,अपने सुझाव देवे , और गलतियों के प्रति ध्यान आकर्षित करे । यह लेख मात्र सुझाव प्रस्तुत कर रहा है। एक शिक्षक होने के नाते आपका निर्णय व प्रक्रिया/तरीका ही श्रेष्ठ है।

सीसीई

राजस्थान