Categories: Astrology
| On 3 weeks ago

ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा का फल | स्वास्थ्य, करियर और धन | Moon in 11th House in Hindi

ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा के जातक राजा का धनाध्यक्ष (खजांची या ट्रैजरी आफिसर) होगा। राज्यकार्यदक्ष होगा। राजा के द्वारा प्रभुत्व प्राप्त होगा। एकादश भाव में चन्द्रमा यथालाभ सन्तुष्ट रहने वाली होगा। चाँदी आदि मूल्यवान् धातुएँ प्राप्त होंगी। लाभभाव में चन्द्रमा के होने से पृथ्वी में गाड़ी हुई-छुपी हुई वस्तुओं का लाभ होगा।

ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा का फल

ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा का शुभ फल (Positive Results of Chandra in 11th House in Astrology)

  • ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा (Chandra in 11th House) में दिन को जन्म होने से जातक धनी, यशस्वी, लोकरंजक, सार्वजनिक कार्यकुशल होगा।
  • एकादस्थ चन्द्र से संतान (पुत्र)-भाई या बहिन, इनमें से कोई एक त्रासदाता, दुराचारी अथवा निरुपयोगी होगा अथवा किसी व्यंग के कारण उसे सारा जीवन घर में ही व्यतीत करना पड़ेगा।
  • एकादश चन्द्र हो तो संतति, भाई-बहनें बहुत नहीं होंगे, अधिक से अधिक संख्या चार-पाँच तक होगा। ग्यारहवें भाव में चन्द्र दीर्घायुता का सूचक है। जातक सुन्दर, श्रेष्ठ मार्ग पर चलने वाली, लज्जाशील, प्रतापी और भाग्यवान् होगा।
  • ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा के जातक बोलने में निर्भय तथा चतुर होगा। सदैव प्रसन्नमूर्ति रहेगी। मनस्वी, बुद्धिमान्, प्राज्ञ, मधुरभाषी और निर्दोष काम करने वाली होगा।
  • जातक चंचल बुद्धि, कल्पनाशील होगा। उदारचित्त, रूपवान्, बहुगुणी, मन्त्रज्ञ, दाता होगा। जातक बहुश्रुत होगा अर्थात् श्रवण द्वारा बहुत से शास्त्रों का ज्ञान होगा। बहुत-सी विद्याओं की ज्ञाता होगा। दूसरों पर उपकार करने वाली होगा। बहुत से लोगों का पालन करने वाली होगा।
  • ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा के जातक राजा का धनाध्यक्ष (खजांची या ट्रैजरी आफिसर) होगा। राज्यकार्यदक्ष होगा। राजा के द्वारा प्रभुत्व प्राप्त होगा। राज्य द्वारा सम्मानित होने का अवसर आयेगा। राजदरबार से
    प्रतिष्ठा-अधिकार और बहुमूल्यवान् वस्त्र का लाभ होगा। जातक के घर में प्रमुदिता (प्रसन्नमना🙂 लक्ष्मी तथा उत्तम सुन्दर स्त्री निवास करेगी। कई प्रकार के भोग भोगने को प्राप्त होंगे।
  • जातक की प्रतिष्ठा (कीर्ति) दिगन्तव्यापिनी, स्थिर होगा। जातक सर्वत्र लोकप्रिय, प्रसिद्ध होगा। यशस्वी और कीर्तिमान होगा। श्रेष्ठ-आप्तजनों से आदर और मान प्राप्त होगा।
  • एकादश भाव में चन्द्रमा के जातक शुभकर्म करेगी और जनहित के काम करेगी जिससे लोग इसका गुणगान करेंगे। जातक को सभी तरह का लाभ होता रहेगा। धनवान् होगा।
  • एकादश भाव में चन्द्रमा के जातक को नाना प्रकार के पदार्थों के व्यापार से लाभ होगा।जातक धन से युक्त होगा। धनाढ़्य, और धनिक होगा। कई प्रकार से धन की प्राप्ति होगा और धनोपलब्ध सुखों का भोग प्राप्त होगा। यथालाभ सन्तुष्ट रहने वाली होगा। चाँदी आदि मूल्यवान् धातुएँ प्राप्त होंगी। लाभभाव
    में चन्द्रमा के होने से पृथ्वी में गाड़ी हुई-छुपी हुई वस्तुओं का लाभ होगा। भूमि के अन्दर गुप्त रखे हुए रुपये-हीरे, मोती, जवाहरात की प्राप्ति हो सकती है।
  • ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा के जातक उत्तम मित्रों से युक्त होगा। जातक के पास सवारी के लिए सुन्दर-सुन्दर वाहन-घोड़ा-गाड़ी-मोटर आदि होंगे अर्थात वाहनसुख मिलेगा। उत्तम-उत्तम भोगों की भोक्ता होगा। नौकर का भी सुख प्राप्त होगा।
  • ग्यारहवेें स्थान का चन्द्रमा जातक के कन्या सन्तान अधिक होने का सूचक है। पुत्र संतति होगा। पचास वर्ष की आयु में पुत्र-प्राप्ति होगा-जिससे पितरों के ऋण से मुक्ति पा लेगी। बहुत से पुत्रों के होने का सौभाग्य मिलेगा। ज्ञान प्राप्ति के लिए मुख्य साधन तीन हैं-श्रवण-मनन और निदिध्यासन। शास्त्र बहुत हैं सभी का अध्ययन गुरुमुख से नहीं हो सकता है श्रवण करने से मनुष्य बहुत से शास्त्रों
    का ज्ञाता हो सकता है-अत: श्रवण साधन को प्राथमिकता और मुख्यता दी गई है। खेती-बाड़ी की स्वामी होगा। ससांर सुख अच्छा मिलेगा। सार्वजनिक संस्था में यह नेता होगा।    
  • एकादश भाव में चन्द्रमा के पुरुष राशियों में होने पर उपर दिये शुभ फल अधिक अनुभव में आयेंगे।

ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा का अशुभ फल (Negative Results of Chandra in 11th House in Astrology)

  • ग्यारहवें भाव में चन्द्रमा (Chandra in 11th House) के किए हुए काम बिगड़ जायेंगे अर्थात् किया हुआ उद्यम और यत्न विफल रहेगा।
  • एकादश भावस्थित चन्द्रमा हीनबली होने से, नीचराशि में, पापग्रह की राशि में तथा शत्रुग्रह की राशि में होने से जातक सुखों से वंचित रहेगी। रोगी, मूर्ख और अज्ञानी होगा।