आरजीएचएस व राजस्थान मेडिक्लेम पॉलिसी में तुलनात्मक अध्यन | Difference in RGHS and Rajasthan Mediclaim Policy

आरजीएचएस व राजस्थान मेडिक्लेम पॉलिसी में तुलनात्मक अध्धयन(Difference in RGHS and Rajasthan Mediclaim Policy) इस आलेख में किया जा रहा है। वर्तमान सन्दर्भ में 01-04-2004 के पश्चात नियुक्त राज्यकार्मिको द्वारा RGHS अर्थात राजस्थान गवर्नमेंट हेल्थ स्कीम अथवा राजस्थान

मेडिक्लेम पॉलिसी में से एक का चयन करना है अतः यह आवश्यक है कि उसे इन दोनों हेल्थ स्कीम की पूर्ण जानकारी हो ताकि बेहतर तरीके से वह अपनी आवश्यकताओं के आधार पर स्कीम का चयन कर सके। आइये, दोनों के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त करते हैं।

राज्य सरकार ने राज्य के समग्र स्वास्थ्य देखभाल और विकास के दृष्टिकोण से प्रमुख क्षेत्रों में से एक के रूप में चिकित्सा देखभाल की पहचान की है। माननीय मुख्यमंत्री जी पॉइंट

नं. वित्तीय वर्ष 2021 के बजट भाषण के 244 ने नई राजस्थान सरकार स्वास्थ्य योजना (आरजीएचएस) की घोषणा की है ।

Also Read-

राजस्थान मेडिक्लेम पॉलिसी (Rajasthan Mediclaim Policy) की पूर्ण जानकारी

RGHS | राजस्थान सरकार स्वास्थ्य योजना Rajasthan Government Health Scheme

Difference in RGHS and Rajasthan Mediclaim Policy-

क्र.स आर.जी.एच.एस मेडिक्लेम पॉलिसी
1यह स्कीम फैशलेश है अर्थात निःशुल्क है।यह कैशलेश नहीं है इसमें आपको पूर्व में राशि का भुगतान करना होगा। फिर क्लेम को प्राप्त करने हेतु आवेदन को ऑनलाईन प्रस्तुत करना होगा
2इसमें कोई समय सीमा नहीं है।इसमे 90 दिन के अन्दर ऑनलाईन क्लेम प्रस्तुत करना होगा।
3इस स्कीम में एसएसओ आईडी से आरजीएचएस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने स्वतः ही कार्ड तैयार होकर संबंधित को प्राप्त होगा।इस स्कीम में आपको ऑफलाईन प्रिन्टेड कार्ड पर सूचना की पूर्ति कर टीटीओ से हस्ताक्षर करवाकर बीमा विभाग से जारी करवाना पड़ता है।
4इस स्कीम में 05 लाख तक का कैशलेश ईलाज की सुकिया है तथा गंभीर बीमारी होने पर 5 लाख तक की अतिरिक्त सुविधा प्राप्त कर सकते है।मेडिक्लेम पॉलिसी में सरकारी एवं सरकार द्वारा अनुमादित चिकित्सालयों में इन्दोर में इलाज करवाने पर 03 लाख तक का क्लेम आवेदन कर प्राप्त कर सकते है।
5इस स्कीम में 20 हजार तक की कैशलेश ऑपीडी की सुविधा है।जबकि मेडिक्लेम पॉलिसी में ऑपीडी की सुविधा नहीं है। इसमें केवल आईपीठी की सुविधा है |
6इस स्कीम में इण्डोर आउटोर व जाबों की कैशलेश चिकित्सा सुविधा सभी राजकीय चिकित्सालय और अनुमोदित निजी चिकित्सालय तथा निजी जान केन्द्रों में प्रदान की जायेगी।इसमें राज्य सरकार के अनुमोदित अस्पतालों में ही इलाज करवा सकते है.
7 इस स्कीम की सुविधा प्राप्त करने हेतु प्रतिमाह कार्मिक को राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रीमियम का 50 प्रतिशत राशि का भुगतान वेतन से करना होगा | जबकि मेडिक्लेम पॉलिसी में संबंधित बीमा कम्पनी को राज्य सरकार भुगतान करती है |
8इस स्कीम में सभी बीमारियों के साथ - साथ वैश्विक महामारी जैसे कोरोना एव ब्लैक फंगस के ईलाज की भी सुविधा है | जबकि मेडिक्लेम पॉलिसी में बीमा कम्पनियों के साथ हुए करार के अनुसार ही बीमारियों के इलाज का भुगतान किया जाता है। जिसमें रूटिन बैंक एवं लाईफ सपोर्ट मशीनों का खर्चा शामिल नहीं है |
9 जिस कार्मिक ने आरजी एच एस का ऑप्शन लिया है उसको मेडिक्लेम पॉलिसी का फायदा नहीं मिलेगा। जिस कार्मिक ने मेडिक्लेम पॉलिसी का ऑप्शन लिया है उसको आरजीएच एस में फायदा नहीं मिलेगा।