Facebook Live: Message by Shri Govind Singh Dotasara, Minister of Education, Government of Rajasthan.

फेसबुक लाइव : शिक्षा मंत्री, राजस्थान सरकार श्री गोविंद सिंह डोटासरा द्वारा प्रसारित सन्देश।

15 अप्रेल , जयपुर। शिक्षा मंत्री श्री गोविंद सिंह डोटासरा ने राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग के कार्मिकों व अन्य नागरिको के साथ फेसबुक लाइव में चर्चा कर महत्वपूर्ण सन्देशों का प्रसारण किया।

शिक्षा मंत्री ने अपने सन्देश के आरम्भ में ही सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन रखते हुए कार्य व विकास जारी रखने का जिक्र किया। मंत्री जी ने सभी वर्गों-शिक्षको, निजी विद्यालय संचालको, अभिभावकों, भावी शिक्षको व आम नागरिकों को अपने सम्बोधन में सम्मिलित किया।

आरम्भ में उन्होंने माननीय मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की पहल पर  माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा 10 वी तथा कक्षा 12 वी के अलावा सभी अन्य विद्यार्थियों हेतु इस सत्र में उन्हें कक्षोउन्नति करने सम्बंधित राजकीय आदेश की जानकारी प्रदान की।

इसी क्रम में कोरोना वायरस के विरुद्ध 1 लाख 76 हजार से अधिक शिक्षको द्वारा इस आपदा के विरुद्ध सीमित संसाधनों के बावजूद ड्यूटी करने पर शिक्षको की हौसलाअफजाई की तथा मुख्यमंत्री सहायता कोष में 300 करोड़ से अधिक योगदान करने का जिक्र बहुत प्रशंसा भाव से किया। शिक्षक की समाज निर्माण में प्रभावी भूमिका व वर्तमान में दायित्व निर्वहन सम्बंधित सजगता का विवरण दिया। वर्तमान में हेडक्वार्टर पर उपलब्ध 1,65,000 से अधिक शिक्षा विभागीय कार्मिक भी कोरोना ड्यूटी करने हेतु ततपर है।

img pms59l5106109296898542718 Shivira

"स्माइल प्रोजेक्ट" के माध्यम से विद्यार्थियों को घर पर रहकर ऑनलाइन अध्ययन करने की की सुविधा के सम्बंध में शाला दर्पण पर उपलब्ध लिंक, व्हाट्सएप ग्रुप निर्माण, NCERT पुस्तको की उपलब्धि इत्यादि महत्वपूर्ण विषयों पर महत्वपूर्ण जानकारी शेयर की। स्माइल कार्यक्रम में उपलब्ध शैक्षिक सामग्री तथा पाठ्यपुस्तक लिंक उपलब्धि

से विद्यार्थियों की शिक्षा को अनवरत जारी रखने सम्बंधित राजकीय कार्ययोजना को बताया।

लोकडाउन पश्चात मेडिकल एडवायजरी की पूर्ण पालना करते हुए शेष बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन सम्बंधित जानकारी प्रदान की तथा राजीव गांधी केरियर गाइडेंस पोर्टल माध्यम से कक्षा 9 से 12 के विद्यार्थियों हेतु नियमित रूप से उपलब्ध करवाई जाने वाली केरियर, छात्रवृत्ति, शिक्षा अवसर इत्यादि छात्रोपयोगी जानकारी का विवरण दिया गया। शाला दर्पण पर कोविड 19 सम्बंधित उपलब्ध जानकारी के उपयोग हेतु भी आव्हान किया गया।

कोविड ड्यूटी के साथ ही शिक्षा के सार्वजनीकरण के क्रम में शिक्षको के प्रयासों का भी विस्तृत उल्लेख किया गया। शिक्षा मंत्री द्वारा इन्ही प्रयासों के साथ ही शिक्षको व अभिभावकों को गत सत्र में किये पौधारोपण को सुरक्षित रखने का आव्हान भी किया गया।

इसके साथ ही 50 वर्ष से अधिक आयु के शिक्षको व छोटे बच्चे की माता शिक्षिकाओं को भी यथासम्भव हार्ड कोरोना ड्यूटी से सलग्न नही करने के प्रयासों पर भी प्रकाश डाला गया। माननीय मुख्यमंत्री के इस सन्देश को भी स्पष्ट किया गया कि किसी भी गरीब विद्यार्थी को कोई भी निजी शिक्षण संस्थान फीस जैसे कारण से शिक्षा सुविधा से वंचित नही करेंगे।

लाइव प्रसारण व अन्य स्रोतों से प्राप्त विभिन्न प्रश्नो के उत्तर दिए गए। इनमे नए शिक्षा सत्र के समायोजन पर विचार करने का मानस बताया तथा 14 अप्रेल को राज्य भर में सोशल डिस्टेंसिंग सहित आयोजित अम्बेडकर जयंती पर प्रकाश डालते हुए वर्तमान परिस्थितियों में बाबा साहेब द्वारा बताए रास्ते पर आगे चलने की आवश्यकता को इंगित किया।

यह भी बताया कि जिन वर्तमान में विद्यालयों में बने आइसोलेशन सेंटर्स को पूरी तरह सेनेटाइज़ करके ही आगे

प्रयुक्त किया जाएगा। नए सत्र को आरंभ करने से पूर्व वरिष्ठ अध्यापकों के पद भरने की कार्ययोजना को बताया गया। अभिभावकों को आश्वस्त किया गया कि फीस या अन्य कारणों के चलते राज्य में किसी भी विद्यार्थी का नाम विद्यालय से नही काटा जाएगा।

अभिभावकों द्वारा सप्ताह के एक दिन " नो बेग दिवस" एवम पाठ्यपुस्तकों में सम्मिलित "संविधान की उद्देशिका"   को सकारात्मक बताया गया। रीट के सम्बंध में NCT के सिलेबस  2011 की गाइडलाइंस के आधार पर परीक्षा आयोजन को स्पष्ट किया गया। इसके सेलेब्स में परिवर्तन हेतु अभी कोई विचार नही किया जा रहा है।  रीट व व्याख्याता भर्ती हेतु पूर्व में प्रस्तावित सितम्बर को आयोजित करने का प्रयास किया जा रहा  है अतः परीक्षार्थी इनकी तैयारियों में जुट जाएं। मंत्री जी ने कोचिंग सेंटर्स से भी उम्मीद जताई कि वे परीक्षार्थियों के हितार्थ पूर्ण प्रयास करेंगे।

मंत्रीजी ने आने वाले भविष्य में विभाग द्वारा ऑनलाइन शिक्षा पर विभागीय तैयारियों को भी इंगित किया। कोरोना ड्यूटी में सलग्न शिक्षको को भविष्य में पुरस्कृत करने तथा इस सम्बंध में प्रशासन को ऐसे शिक्षको के चयन का भी आधार प्रदान किया। यह भी स्पष्ठ किया गया कि कोरोना ड्यूटी करने वाले हर कार्मिक को पर्याप्त सुरक्षा उपकरण/संसाधन दिए जाएंगे।

सरकार एसटीसी परीक्षा के सम्बंध में ऑनलाइन आवेदन करने की तैयारी में जुटी है। यह भी बताया कि दसवीं व बारहवीं में NCERT सिलेबस लाने से पहले कक्षा 9 व 11 में NCERT सिलेबस लाया जाएगा।

विद्यार्थियों को लैपटॉप व साइकल की तरह भविष्य में एंड्रॉयड फोन देने के सुझाव के सम्बंध में मंत्रीजी ने इस प्रकार सकारात्मक विचार करने हेतु आश्वासन दिया। मंत्रीजी ने "2 बिस्कुट

पैकेट" के कारण जारी नोटिस को भी संज्ञान में लेकर ग्राम विकास अधिकारी के विरुद्ध उचित कार्यवाही की बात की। मंत्री जी ने सक्षम अभिभावकों से आग्रह किया कि वे समयानुसार फीस जमा करवाकर स्कूल संचालकों को सहयोग देवे।

बोर्ड उत्तरपुस्तिकाओं का जाँचकार्य यथासम्भव शीघ्र करवाने हेतु बोर्ड प्रयासरत है व सभी परिणाम शीघ्र जारी करने की कोशिश की जाएगी। कोरोना वायरस सम्बंधित लम्बी ड्यूटी देने वाले कार्मिकों को रोटेट करने  का प्रयास करेंगे। जिन शिक्षकों को एक माह से अधिक समय से कुछ कारणों से वेतन नही मिल रहा है उनके सम्बंधित अधिकारियों को शीघ्र कार्यवाही हेतु निर्देशित करने का कार्य किया जाएगा।

मंत्री नई ने शिक्षको व विद्यार्थियों के गणवेश सम्बंधित सुझावों/प्रश्नो पर भविष्य में विचार हेतु आश्वस्त किया। ग्रीष्मावकाश के सम्बंध में उच्च स्तर पर चर्चा पश्चात निर्णय करने का कार्य किया जाएगा।  मंत्रीजी ने शिक्षक समुदाय से अपेक्षा जाहिर की कि वे वर्तमान समय मे कोरोना वायरस सम्बंधित ड्यूटी पर पूर्ण ध्यान देवे तथा कोई भी प्रकार की समस्या हो उचित माध्यम से उन तक पहुँचावे जिनके निराकरण का हर सम्भव प्रयास किया जाएगा।

शिक्षा मंत्री महोदय ने अनेक सुझावों प्रश्नो का सटीक व सामयिक उत्तर प्रदान करते हुए सबको सकारात्मक रूप से मेडिकल एडवाइजरी अनुपालन करते हुए तथा जागरूकता जगाने का आव्हान कर कोरोना से युद्ध के प्रति आगाह किया। नवीन शिक्षा सत्र में शिक्षा सार्वजनीकरण को सुनिश्चित करने हेतु ड्रॉपआउट व आउट ऑफ स्कूल समेत अधिकतम बच्चों को सरकारी स्कूलों से जोड़ने हेतु सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए प्रयास करने की बात भी की गई।

भविष्य में शिक्षको हेतु ट्रांसफर पॉलिसी लाने हेतु भी सरकार की सकारात्मक सोच को जाहिर किया

गया। इस पॉलिसी में अच्छे कार्य करने वालो को तरजीह की बात भी कही गई। इसी क्रम में विशेष आवश्यकता वाले विद्यार्थियों हेतु ऑनलाइन शिक्षा पर भी शीघ्र कार्यवाही का भरोसा दिलवाया गया। नए शिक्षा सत्र के कैलेंडर पर भी शीघ्र निर्णयन की बात करते हुए सभी के सहयोग की मांग की गई। माननीय मुख्यमंत्री महोदय के निर्देशों के अनुसार मिड डे मील योजना की भी भविष्य में सकारात्मक समीक्षा की जाएगी व इस आर्थिक कठिनाई के समय मे भी समस्त बकाया राशि पुनर्भरण का कार्य शीघ्र पूर्ण किया जाएगा।

मंत्रीजी की इस लाइव टेलिकास्ट के दौरान बहुत बड़ी संख्या में शिक्षको, अभिभावकों व आम नागरिकों ने शिरकत की तथा बहुउपयोगी सुझाव भी दिए। मंत्री जी द्वारा संतोषजनक जबाब देते हुए सभी का आभार देते हुए शेष सुझावों का प्रत्युत्तर विभिन्न माध्यमों से देने का विश्वास व्यक्त किया।

अंत मे मंत्रीजी ने निम्नलिखित शब्दो के साथ अपनी बात पूर्ण की।

" दो कदम आप चले ,
  दो कदम हम चले।
  लॉकडाउन का फासला यूं खत्म हो जाएगा।।
  "स्माइल" के जरिये आपकी स्माइल बरकरार रहे।

" सब मिलकर कोरोना को हराएंगे।
   हिंदुस्तान से भगाएंगे।।"