First April: The most important financial day of the year, it is not the Fool’s day but the most “Genius day”.

फर्स्ट अप्रैल: वर्ष का सबसे महत्वपूर्ण वित्तिय दिन, यह मूर्ख दिवस नही बल्कि सबसे “जीनियस डे” हैं।

जोधपुर। फर्स्ट अप्रैल यानी एक अप्रैल को विश्व भर में मूर्ख दिवस मान कर आपस मे हंसी-मजाक की जाती है। कुछ देशों में तो इस दिन छुट्टी भी घोषित की जाती है। कुछ अखबारों में इस दिन मजाक-मजाक में व्यंग के माध्यम से बड़े लोगों पर मजाकिया टिप्पणी भी की जाती हैं।

इस दिन को मूर्ख दिवस के रूप में मनाने के पीछे की कोई लॉजिकल घटना या वाकया हिस्ट्री में दर्ज नही है लेकिन यह माना जा सकता है मौसम परिवर्तन अथवा खेती का चरण पूर्ण होने के कारण लोग अपने खाली टाइम को पास करने के लिए ऐसा करते होंगे। खैर, आज के दिन को आप एन्जॉय कर सकते है एवम आपकी मजाक को कोई दिल से नही लेगा।

आप एक अप्रैल को “मूर्ख -दिवस” मानने की मूर्खता कदापि नही दिखाए एवम याद रखे कि यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण दिन है खासकर भारतीय सन्दर्भ में, क्योकि आज से नया फाइनेंशियल ईयर शुरू होता है। आज की दुनिया मे फाइनेंस एक अत्यंत महत्वपूर्ण इश्यु हैं।

अतः आप नए फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत बहुत सोच-समझकर करें। इस दिन को सबसे महत्वपूर्ण मानकर निम्नलिखित स्टेप्स लेना सुनिश्चित करे-

1. इस दिन से नया फाइनेंशियल वर्ष शुरू होगा अतः सबसे पहले इस वर्ष की व्यक्तिगत व परिवार की आर्थिक योजना का निर्माण करें। इस हेतु वर्ष में होने वाली आय, सम्भावित व्यय,बचत के मद्देनजर एक कार्ययोजना निर्माण करें।

2. अपनी आर्थिक देयताओं की गणना करे, देय राशियों के वास्तविक आकलन हेतु आवश्यक बैंक स्टेटमेंट एकत्र कर व अधिक ब्याज दर पर लिए गए ऋणों को कम ब्याज दर पर स्विच करें।

3. बाजार में अपने अधूरे कलेक्शन व सम्भावित वसूलियों पर ध्यान देकर उनसे सम्बंधित डॉक्युमेंट्स कलेक्ट करे एवम इन राशियों की प्राप्ति हेतु आवश्यक कदम उठाना सुनिश्चित करें।

4. अपने आवश्यक डॉक्यूमेंटेशन को कम्प्लीट करे यथा- आधार कार्ड, बैंक एटीएम, क्रेडिट कार्ड, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता वोटर कार्ड, पासपोर्ट इत्यादि के ओरिजिनल सर्टिफिकेट को जांच करे व आवश्यक होने पर उनका नवीनीकरण सुनिश्चित करे। इन सभी को डिजिटल लॉकर में संधारित करने की आवश्यक कार्यवाही पूर्ण करें।

5. आप अपनी प्रोपर्टी पेपर्स को जांच करे तथा उनकी लीज को चेक लीजिए। अगर किसी प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंटेशन की चेन कम्प्लीट नही है तो उसे कम्प्लीट कर लीजिए। प्रोपर्टी अगर बैंक में मॉर्गेज है तो बैंक को कॉन्टेक्ट करके शेष ऋण अवधि, बकाया मूल राशी, करंट बैंक इंटरेस्ट रेट व बाजार में अन्य प्रतियोगी बैंक द्वारा उपलब्ध ब्याज दर की तुलना करें। मॉर्गेज प्रोपर्टी को बैंक से रिलीज करवाने की कोशिश करें।

6. व्यक्तिगत ऋण, गोल्ड लोन, कमोडिटी लोन, कार लोन इत्यादि सामान्य से अधिक दर से रिलीज होते है अतः ऋण लेते समय तय दर व वर्तमान दर की जानकारी लीजिए एवम आवश्यक होने पर बेहतर योजनाओं में स्विच होने की तैयारी कीजिये।

7. अनावश्यक रूप से संधारित बैंक एकाउंट्स व लॉकर्स आप पर अनावश्यक वित्तिय भार उतपन्न करते है अतः इनको बन्द करके धरोहर राशि का बेहतर उपयोग सुनिश्चित करें।

8. अपने आईटीआर का अध्ययन करते हुए नए वित्तिय वर्ष में लिए जा सकने वाले टेक्स बेनिफिट्स पर ध्यान फोकस करें। आयकर पेनल्टी से बचने हेतु कर भुगतान की डेड लाइन डेट्स को नोट करें। गैरजरूरी जीएसटी अकाउंट, नम्बरों को सरेंडर करके मानसिक आजादी व कर देयता को समाप्त करे।

9. नवीन वित्तिय वर्ष के सम्बंध में आवश्यक लेखा पुस्तकों को क्रय करे व अपने लेखाकार से इन वाणिज्यिक लेखों को समझने का प्रयास करे। लेखाकार व चार्टर्ड अकाउंटेंट पर पूर्ण निर्भर नही रहकर स्वयम इनको समझने का प्रयास करें। ये अधिक जटिल नही होते एवम व्यापार के मालिक को तुरंत समझ मे आते है।

10. अपनी सम्पतियों की सुरक्षा हेतु वास्तविक प्रयास करे एवम आवश्यक होने पर उनकी सुरक्षा हेतु न्यूनतम निर्माण भी करे।

11. अपने स्वयम व अपने माता-पिता के बैंक एकाउंट्स में नॉमिनेशन कार्य को करवाना व संशोधन करवाना सुनिश्चित करें।

12. नवीन वर्ष हेतु अपने न्यूनतम सेविंग टारगेट को तय करे। अपने बच्चों हेतु मेडिकल प्लान, पेंशन प्लान इत्यादि के विकल्प देखकर आवश्यक प्लान लेकर समयानुसार कार्य आरम्भ करें।

आप एक बात सदैव याद रखे कि वास्तविक बचत ही वास्तविक कमाई है। अतः इस वर्ष का बचत टारगेट आज ही निर्धारित करके योजनानुसार कार्य आरम्भ करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here