Categories: Health

घी के फायदे (Ghee Benefits in Hindi)

घी के फायदे - घी जिसे संस्कृत में घृतम कहा जाता है। घी एक विशेष प्रकार का मख्खन Butter (बटर) है। जो प्राचीन काल से भोजन के एक अवयव के रूप में प्रयुक्त होता आ रहा है। घी भोजन और खाद्य तेल के स्थान पर प्रयोग किया जाता है। घी दूध के मक्ख़न से बनाया जाता है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए घी का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। घी के अनगिनत फायदे होने के कारण ही इसे इतना महत्व दिया जाता है। घी का सेवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए ही अच्छा है।

घी एक वसा का पदार्थ है, जो गाय, भैंस के दूध से बनता है, और भेड़ और बकरी के दूध से भी बनाया जाता है। दूध से पहले मक्खन और फिर मक्खन से घी बनाया जाता है। घी बनाने की देशी रीति दूध का दही जमाकर किया जाता है, उसकी मलाई को मथकर घी निकालते हैं।

घी का उपयोग वैदिक काल के पूर्व से होता आ रहा है। पूजा पाठ मे घी का उपयोग लिया जाता है। ओषधियों के निर्माण में घी काम आता है। पुराना घी, आयुर्वेदिक चिकित्सा में दवा के रूप में भी व्यवहृत होता है। मक्खन और घी आहार के अत्यावश्यक अंग होते हैं। घी से आहार में पौष्टिकता और गरिष्ठता आती है तथा भार की दृष्टि से ऊर्जा उत्पन्न होती है।

health Shivira

घी का स्वाद और गंध ग्राह्य होती है। यह जल्द पचता भी है। घी में Vitamin A (विटामिन ए), Vitamin D (विटामिन डी) और Vitamin E (विटामिन ई) होते हैं। Vitamins (विटामिनों) की मात्रा

सब ऋतुओं में एक सी नहीं होती। जब पशुओं को हरी घास अधिक मिलती है तब बरसात और सर्दी/जाड़े के घी, में, Vitamin (विटामिन) की मात्रा बढ़ जाती है। घी की विशेष प्रकार की गंध होती है, जो दूध में नहीं होती। यह गंध किण्वन और ऑक्सीकरण के कारण डाइऐसीटिल नामक कार्बानिक यौगिक बनने के कारण होती है।

घी क्या है (What is Ghee in Hindi) :

जब मक्खन को अच्छी तरह पकाते हैं, तथा पकने के बाद छाछ के भाग को अलग करके जो पदार्थ तैयार किया जाता है, उसे घी कहते हैं। सभी प्रकार के तैलीय व चिकने पदार्थों में घी को सबसे अच्छा माना गया है, क्योंकि घी में औषधियों के साथ पकाने से घी उनके बल को बढ़ा देता है। इसके अलावा अन्य किसी भी चिकनाई युक्त खाद्य पदार्थ में घी जैसे गुण नहीं मिलते हैं। गाय का घी सबसे अच्छा माना जाता है।  

घी के पोषक तत्व (Ghee Nutrients in Hindi) :

Ghee Nutrients (घी के पोषक तत्व)
Nutrients (पोषक तत्व)Nutritive Value (पोषक मूल्य)
Water (पानी)0.5  ग्राम
Calories(कैलोरी)900 कैलोरी
Energy (ऊर्जा)3766 किलोजूल
Fat (वसा)100 ग्राम
Vitamin (विटामिन)
Vitamin A (विटामिन ए)4000 IU (आईयू)
Lipid (लिपिड)
Fatty Acids, Total Saturated (फैटी एसिड, कुल सैचुरेटेड)60.000 ग्राम
Fatty Acids, Total Polyunsaturated (फैटी एसिड, कुल पोलीअनसैचुरेटेड)4.000 ग्राम
Cholesterol (कोलेस्ट्रॉल)300 MG (एमजी)

घी के गुण (Properties of Ghee in Hindi) :

घी भारी, चिकनाई से भरा मधुरविपाक व शीतवीर्य होता है। घी बुद्धि, याददाश्त, बल, शुक्र, चमक और स्वर में वृद्धि करने वाला अच्छा रसायन होता है। घी से ह्रदय को ताकत मिलती है और यह वृद्धों के लिए भी काफी फायदेमंद रहता है।

Names Of Acids (अम्लों के नाम)
Cow (गाय)
Buffalo (भैंस)
Butyric (ब्यूटिरिक)02.6-04.4 04.1-04.3
Caproic (कैप्रॉइक)01.4-02.2 01.3-01.4
Caprylic (कैप्रिलिक)0.8-02.4 0.4-0.9
Capric (कैप्रिक)01.8-03.8 01.7
Lauric (लौरिक)02.2-04.3 02.8-03.0
Myristic (मिरिस्टिक)05.8-12.9 07.3-10.1
Palmitic (पामिटिक)21.8-31.3 26.1-31.1
Stearic (स्टीएरिक)0.0-01.0 0.9-03.3
Oleic (ओलिइक)28.6-41.3 33.2-35.8

घी के प्रकार (Types of ghee in Hindi) :

  1. आयुर्वेद और पुराणों के अनुसार दस साल तक सुरक्षित/संरक्षित करके रखा गया घी पुराना घी कहलाता है।
  2. 100 साल तक संरक्षित रखे गए घी को कुम्भघृत कहते हैं।
  3. 100 साल से अधिक समय तक रखे गए घी को महाघृत कहते हैं।
  4. पुराने घी की गंध तीव्र होती है वह मिरगी, बेहोशी, मलेरिया एवं सिर, कान, आंख व योनि से जुड़े रोगों में फायदेमंद रहता है।
  5. गाय और भैंस के दूध से तैयार घी का अलग महत्व है। भैंस के घी की तुलना में गाय का घी पौष्टिक और स्वादिष्ट माना जाता है।

कैसा घी नहीं खाना चाहिए :

कांसे के बर्तन में 10 दिन या अधिक समय से रखा हुआ घी नहीं खाना चाहिए और ना उपयोग में लेना चाहिए, क्योंकि वह घी विषैला हो जाता है।

घी के फायदे (Ghee Benefits in Hindi) :

  • मानसिक रोगों में फायदेमंद होता है।
  • बुखार में लाभदायक होता है।
  • वात के प्रभाव को कम करने में मदद करता है।
  • पाचन में सुधार करने में मददगार।
  • कमजोरी दूर करने में सहायक होता है।
  • खांसी में फायदेमंद होता है।
  • शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करता है।
  • टीबी में लाभदायक होता है।
  • इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आवश्यक होता है।
  • कब्ज की समस्या के लिए उपयोगी होता है।
  • त्वचा के लिए फायदेमंद होता है।
  • सिर दर्द के लिए उपयोगी होता है।
  • हड्डियों के लिए लाभदायक होता है।
  • कोशिका के विकास के लिए मददगार होता है।
  • वज़न बढ़ाने के लिए फायदेमंद होता है।
  • हृदय के स्वास्थ्य के लिए सेहतमंद होता है।
  • कैंसर की रोकथाम के लिए उपयोगी होता है।
  • कोलेस्ट्रॉल के नियंत्रण के लिए आवश्यक होता है।
  • मस्तिष्क स्वास्थ्य में सुधार के लिए उपयोगी होता है।
  • घाव, निशान, सूजन की रोकथाम के लिए मददगार।
  • गर्भावस्था में फायदेमंद होता है।
  • आंखों के लिए लाभकारी होता है।

बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में घी का उपयोग (Use of Ghee in the Physical and Mental Development of Children in Hindi) :

  • वसा का बेहतरीन स्रोत घी बच्चों के शारीरिक विकास में बेहद उपयोगी होता है। इसके उपयोग से बच्चों की हड्डियां मज़बूत होती हैं। घी में Vitamin K2 (विटामिन K 2) होता है, यह शरीर में Calcium (कैल्शियम) पहुंचाने का काम करता है।
  • बच्चा कमजोर है तो हर दिन गिलास में दूध के साथ एक चम्मच गाय का घी मिलाकर उसे पीलाएं इससे कमजोरी दूर होती है।
  • बच्चों को एनर्जेटिक बनाता है, बढ़ते बच्चों के विकास के लिए ऊर्जा बेहद जरूरी है।
  • पाचन ठीक रखता है।
  • याददाश्त दुरुस्त रहेगी।
  • बच्चों की इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग करता है

घी का उपयोग (How to Use Ghee in Hindi) :

  • रोटी पर घी का उपयोग करना।
  • पकवान और मिष्ठान बनाने के लिए।
  • तड़का लगाने के लिए।
  • पानी, काली मिर्च, चीनी और अदरक की चाय में घी मिलाकर पीने से खांसी और गले की समस्या में लाभ मिलता है।
  • डोसा, इडली व उत्तपम जैसे स्वादिष्ट खाद्यों को बनाने के लिए किया जाता है।
  • एक चम्मेच घी में थोड़ी शक्कर को मिलाकर उपयोग में लेने से गर्मी के प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है।
  • घी को कई जड़ी-बूटियों के साथ मिलाकर प्रयोग में लेने से कई रोगों को दूर कर सकते हैं।
  • खाद्य पदार्थ को बनाने में तेल के स्थान पर घी का उपयोग कर सकते हैं।
  • किसी औषधि में मिला कर या पका कर उपयोग करना
  • घी से मालिश करना।
  • नस्य ( नाक में डालने की प्रक्रिया) में।
  • अनुवासन बस्ति (एनिमा) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़े :

सेहत के लिए लाभकारी है अदरक Ginger is beneficial for health
तुलसी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण (Tulsi benefits in hindi)
वजन कम करने के लिए आहार में यह शामिल करें (Weight loss diet in hindi)
(Liver Abcess in hindi) लिवर एब्सेस क्या है और इसका ट्रीटमेंट कैसे होता है ?

घी के नुकसान (Disadvantages Of Ghee in Hindi) :

  • घी में Vitamin A (विटामिन ए) की अच्छी मात्रा पाई जाती है। Vitamin A (विटामिन ए) का अधिक मात्रा में सेवन करने से सिरदर्द, भूख में कमी और उल्टी के साथ श्वास नली के जाम होने का खतरा हो सकता है।
  • घी के अधिक उपयोग से शरीर में उच्च स्तर के सैचुरेटेट फैटी एसिड और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ सकती है, बढ़ी हुई मात्रा को हृदय रोगों के लिए हानिकारक है।
  • अधिक मात्रा में किया गया घी का उपयोग अपच और दस्त की समस्या का कारण बन सकता है।
  • ज्यादा मात्रा में घी के सेवन से हाजमा बिगड़ सकता है।