Categories: International
| On 1 week ago

Google Strike : तालिबान को गूगल ने दिया झटका, पूर्व अफगान सरकार के ई-मेल अकाउंट्स किए लॉक

Google Strike : अफगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान के कब्जे के बाद अब गूगल ने तालिबान पर एक्शन लेते हुए पूर्व की अफगान सरकार के ई-मेल अकाउंट को लॉक कर दिया है। अब तालिबान इन ई-मेल अकाउंट में मौजूद महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल नहीं कर सकेंगे। आपको बता दें कि 15 अगस्त को तालिबान ने काबुल के साथ ही पूरे अफगानिस्तान पर अपना कब्जा कर लिया था। इसके बाद कई तरह की जानकारियां निकल कर सामने आ रही थी। जिसमें कहा गया था कि तालिबान पूर्व की अफगान सरकार की खुफिया जानकारियां जुटा रहा है। जिसे देखते हुए गूगल ने इन अकाउंट को लॉक कर दिया है।

अन्य देशों के लिए था खतरा

Google Strike On Taliban : अफगान की पूर्व गनी सरकार के समय अफगानिस्तान के कई देशों से बेहतर रिश्ते थे। जिसमें भारत के अलावा ब्रिटेन, अमेरिका व

यूरोपीय यूनियन शामिल हैं। तालिबान अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद इन डिजिटल दस्तावेजों को हासिल करने की फिराक में जुटा हुआ था। कई पश्चिमी देशों को इसकी सूचना मिल चुकी थी।

ऐसे में इस जानकारी को तालिबान के हाथ लगने से बचाने के लिए गूगल ने ई-मेल अकाउंट्स को लॉक कर दिया है। जिससे किसी भी देश को नुकसान नहीं पहुंचे व खुफिया जानकारी तालिबान के हाथ न लग सकें। गूगल की ओर से इस निर्णय के बाद अफगानिस्तान की पूर्व सरकार के साथ मेल पर सूचनाए साझा करने वाले देशों ने भी राहत की सांस ली है।

Google Strike News : कर्मचारियों का जुटा रहा था डेटा

Google Strike News : एक रिपोर्ट के अनुसार तालिबान पूर्व की अफगान सरकार के समय काम कर रहे कर्मचारियों से जुड़ी जानकारिया हासिल करना चाह रहा था। जिसमें उनके वेतन व उनसे संबंधित

जानकारियां थी। इस बात को लेकर यह आशंका भी जताई जा रही थी कि यदि तालिबान यह डाटा प्राप्त कर लेता है तो पूर्व कर्मचारियों की जान जोखिम में पड़ सकती थी। इसलिए गूगल ने यह खाते अब लॉक कर दिए है। जिसकी जानकारी गूगल ने दी है।

Google Strike On Taliban : तालिबान लगातार कर रहा था कोशिश

Google Strike Hindi News : डिजिटल व संवेदनशील डाटा हासिल करने के लिए तालिबान पूरी कोशिश में जुटा हुआ था। इसके लिए तालिबान ने पूर्व की अफगान सरकार में काम कर रहे एक अफसर पर भी इसका डेटा सुरक्षित रखने को लेकर दबाव बनाया गया था। इसके बाद से ही अफसर अपनी जान बचाने के लिए छिप गया है। जानकारों की मानें तो इस डेटा में विभिन्न देशों व अफगान से जुड़ी अति महत्वपूर्ण खुफिया जानकारियां थी। गूगल के इस कदम से उन

कर्मचारियों पर भी छाया संकट टल गया है जो अफगान की पूर्व सरकार के दौरान काम कर रहे थे।

यह भी पढ़ें

Nepal Warns On Anti-India Protests : भारत के खिलाफ किया प्रदर्शन तो होगी जेल
Covid Case Update : बीते 24 घंटे में कोरोना के 30,164 नए मामले, एक्टिव केस घटे
Panchayati Raj Elections 2021 : कांग्रेस ने दिखाया परचम, बहुमत से ज्यादा बनाए प्रधान
CM Gehlot Claimed : 2023 में फिर से बनेगी कांग्रेस सरकार
College Education News : कॉलेजों में नहीं है गुरु, भारत कैसे बनेगा विश्व गुरु
International News : पाकिस्तान को भारत के मुद्दे पर लगा जोर का झटका
Taliban China News : अब चीन के पैसों पर पलेगा अफगानिस्तान
Temple Treasury : भगवान के भंडार से निकला करोड़ों का खजाना
ED Issues Lookout Notice : देशमुख की बढ़ी मुश्किलें, ईडी ने जारी किया लुकआउट नोटिस
Traffic Rules : अब प्रतिबंधित क्षेत्रों में बजाया हॉर्न तो खैर नहीं
LPG
Price Hike : सितम्बर की शुरूआत में ही महंगाई का लगा झटका, गैस कम्पनियों ने फिर बढ़ाए दाम


इसलिए महत्वपूर्ण था डाटा

Google Strike On taliban News Hindi : एक रिपोर्ट के अनुसार 20 वर्ष से डिजिटल डाटा एक्सचेंज हो रहा था। जिसमें सरकार से जुड़ा अति महत्वपूर्ण डाटा शामिल था। तालिबान की नजर लोकल सर्वर पर कब्जा जमाने की थी। इसके अलावा ई-मेल अकाउंट्स व उद्योग, फाइनेंस, उच्च शिक्षा व माइनिंग विभाग से जुड़ी जानकारिया हासिल करना तालिबान का मकसद था। ऐसे में गूगल के इस कदम की खुफिया विभागों से जुड़े विशेषज्ञ सराहना कर रहे हैं।