Categories: State

Housing Flats News : अब होटल की जमीन पर बना सकेंगे मल्टी स्टोरी रेजिडेंशियल फ्लैट्स

Housing Flats News : राजस्थान में अब होटल की जमीन पर ही मल्टी स्टोरी रेजिडेंशियल फ्लैट्स बनाने की परिकल्पना जल्द साकार हो सकती है। राजस्थान की गहलोत सरकार ने इस निर्णय को मंजूरी दे दी है। इसके तहत अब होटल की जमीन पर मल्टी स्टोरी रेजिडेंशियल फ्लैट्स बनाए जा सकेंगे। ऐसे में होटल की खाली जमीन पर आवासीय फ्लैट्स बनाने की राह देख रहे लोगों के लिए यह राहत की खबर है।

Housing Flats News Rajasthan : राजस्थान बना पहला राज्य

Housing Flats News Rajasthan: आपको बता दें कि होटल हाउसिंग की पहल करने वाला राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य है। इस नियम के तहत अब पुराने बने हुए होटल की जमीन या नये प्रोजेक्ट में होटल के साथ-साथ रहवासीय यूनिट्स बनाकर भी बेचे जा सकेंगे। नए नियम में 65 फीसदी बिल्टअप एरिया में होटल बनाने व 35 प्रतिशत क्षेत्र में रहवासीय फ्लैट्स बनाने की मंजूरी दी जा सकेगी। इसके लिए राजस्थान के नगरीय विकास विभाग ने गुरुवार को आदेश भी जारी कर दिए है।

Housing Flats News : यह होगा फायदा

राजस्थान में इस तरह के निर्णय को लागू करने के लिए बिल्डिंग बायलॉज में प्रावधान जोड़े गए है। नगर प्लानिंग विभाग से जुड़े व राजस्थान टाउन प्लानिंग विभाग के विशेषज्ञ यह मान रहे हैं कि इससे होटल उद्योग में निवेश करने वालों को फायदा मिल सकेगा। क्योंकि कई ऐसे निवेशकर्ता है जो बड़ी रकम लगाकर होटल उद्योग चला रहे हैं। कोरोना काल के चलते होटल उद्योग अभी मंदा चल रहा है।

Housing Flats News सुस्त चाल के चलते होटलों में बड़ा पैसा लगाने वाली कम्पनियों के लिए यह एक बड़ी राहत हो सकती है। इसके तहत अब ऐसे ग्रुप अपने निवेश की रकम की रिकवरी के लिए आवासीय प्रोजेक्ट्स ला सकते है। इससे वह यहां आवासीय फ्लैट्स बनाकर उसे सेल कर मुनाफा कमा सकते है और अपने इन्वेस्टमेंट की रकम की भी रिकवरी कर सकते है।

बायलॉज नियमों के अनुसार मिलेगी अनुमति

Housing Flats News Rules: नगरीय योजना से जुड़े विशेषज्ञों के अनुसार मौजूदा बिल्डिंग बायलॉज में जो प्रावधान निर्धारित किए गए हैं उसके अनुसार ही होटल परिसर की जमीन पर आवासीय फ्लैट्स बनाने की मंजूरी दी जाएगी। इसके लिए 65 प्रतिशत होटल व 35 प्रतिशत क्षेत्र में आवासीय फ्लैट्स बनाए जा सकेंगे। यह नियम अलग-अलग ब्लॉक या एक ही ब्लॉक में लागू हो सकेगा। यानी निवेशक यदि चाहता है तो एक ही ब्लॉक में होटल व आवासीय फ्लैट्स बना सकता है।

यह भी पढ़े :

रोज 10 मिनट तक करें Meditation, बढ़ेगी एकाग्रता, रिर्सच में सामने आई बात
Junk Food Effects On Heart: Heart Problems से बचने के लिए स्मोकिंग व जंक फूड को कहें नो
Rajasthan Agriculture News : कई जिलों में बारिश से खराब हुई फसलें, सीएम ने नुकसान का आंकलन करने के दिए निर्देश
LPG Price Hike : सितम्बर की शुरूआत में ही महंगाई का लगा झटका, गैस कम्पनियों ने फिर बढ़ाए दाम

Agricultural Law Protest: तीसरे दिन भी बंद रहा शाहजहांपुर टोल नाका, बिना टैक्स दिए निकले वाहन
Environmental Science: पर्यावरण से हैं प्रेम तो बनाएं Environmental Science में करियर
School Reopen News : स्कूल खोलने के बाद से बच्चों में लगातार बढ़ रहे Covid संक्रमण के मामले
International News : पाकिस्तान को भारत के मुद्दे पर लगा जोर का झटका
Income Tax Return: भरने के बाद न करें यह गलतियां, हो सकता है नुकसान
Big Controversy : एक्टर नसीरुद्दीन शाह ने मुस्लिमों पर कह दी यह बड़ी बात !
Cow Protection : अब हाइकोर्ट ने भी कहा गाय को घोषित करें राष्ट्रीय पशु

10 हजार वर्गमीटर जमीन होना है जरूरी

Housing Flats Rules : इस प्रस्ताव में 10 हजार वर्गमीटर भूमि होना जरूरी है। इस निर्णय के तहत अब होटल से जुड़े प्रोजेक्ट के लिए मिनिमम 10 हजार वर्गमीटर भूमि होनी आवश्यक है। वहीं जिन जगहों पर

पहले से ही होटल संचालित हो रहे हो वहां पर 8 हजार वर्गमीटर जमीन होना आवश्यक है। इसके साथ ही बड़े शहरों में होटल की जमीन 18 मीटर, 60 फीट चौड़ी रोड़ पर होनी आवश्यक है। वहीं छोटे शहरों में 12 मीटर, 40 फीट चौड़ाई की सड़क होना जरूरी है।

Rera Ragistration : रेरा में होगा पंजीकरण

Housing Flats News : इन नए नियमों के तहत यदि कोई होटल व्यवसायी अपनी होटल में आवासीय फ्लैट्स बनाना चाहता है तो उसे सबसे पहले रेरा (Real Estate Regulatory Authority) में पंजीकरण करवाना होगा। रेरा में पंजीकरण होने के बाद ही आवासीय फ्लैट्स को बेचे जाने के प्रावधान हैं।