Categories: Uncategorized
| On 7 months ago

How government employee prepare online medical bill?

Share

राज्य कर्मचारी ऑनलाइन मेडिकल बिल कैसे बनाए?

कार्मिकों द्वारा सिस्टम पर ऑनलाइन चिकित्सा बिल (जी.ए-36) के के साथ संलग्न परिशिष्ट-VI, VII में तैयार करने, आहरण वितरण अधिकारी को फॉरवर्ड करने तथा आहरण वितरण अधिकारी के स्तर पर नवीन व्यवस्था के अन्तर्गत की जाने वाली प्रक्रिया का पूर्ण विवरण मय स्टेप परिशिष्ट ‘क’ पर उपलब्ध है।

परिशिष्ट "क" में वर्णित व्यवस्था के अनुसार एक कार्मिक को मेडिकल बिल प्रस्तुत करने हेतु निम्न प्रक्रिया अपनानी होती है-

1. सर्वप्रथम कार्मिक को पे मैनेजर साइट paymanager2.raj.nic.in पर एम्पलॉई लॉगिन में अपनी लॉगिन डिटेल एन्टर करनी होगी।

2. बिन्दु संख्या 1 के अनुसार लॉगिन करने के पश्चात् Employee Corner में Employee Medical Bill का चयन करना होगा। जिसके पश्चात् एम्पलाई को Medical Bill के सम्बन्ध में कर्मचारी से सम्बन्धित Basic Detail Option की स्क्रीन प्रदर्शित होगी। जिसमें कर्मचारी द्वारा ऑनलाइन मेडिकल indoor/outdoor बिल तैयार करने हेतु प्रदर्शित स्क्रीन पर indoor/outdoor सलेक्ट करने के पश्चात् बिल के प्रकार (Medical Bill, Medical Advance Bli, Medical Adjustment Bil) के विकल्प का चयन करना होगा। इसी स्क्रीन पर कर्मचारी द्वारा रोगी का नाम (परिवार का विवरण) जो कि सिस्टम में पर उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर प्रदर्शित होगा, का चयन किया जाकर New bill buton पर क्लिक किया जावेगा।

3. बिन्दु संख्या 2 के अनुसार जब बेसिक डिटेल ऑप्शन की पूर्ति के पश्चात् हास्पिटल से सम्बन्धित विकल्प पर Hospital Category, Hospital Sub category, HospitalName, State, Patient Location विकल्प का चयन कर जिस चिकित्सालय में चिकित्सा सुविधा का लाभ लिया गया है, का चयन किया जाकर Submit बटन पर क्लिक किए जाने पर चिकित्सालय से सम्बन्धित सूचनाएं सिस्टम पर प्रदर्शित होगी। वित्त विभाग द्वारा राज्य के भीतर अनुमोदित चिकित्सालय/पब्लिक प्राइवेट भागीदार व्यवस्था के अन्तर्गत सम्बन्धित चिकित्सालयों में अन्तरंग/बहिरंग चिकित्सा परिचर्या और उपचार हेतु अनुमोदित, रैफरल चिकित्सालय की सूची सिस्टम पर उपलब्ध है। आपात परिस्थितियों में राज्य के भीतर और राज्य के बाहर किसी प्राइवेट अमान्यता प्राप्त चिकित्सालय में अन्तरंग उपचार का बिल जनरेट करने हेतु चिकित्सालय से सम्बन्धित विवरण सम्बन्धित कार्मिक द्वारा सिस्टम पर दर्ज
जायेंगे।

4. बिन्दु संख्या 3 के अनुसार कार्यवाही किए जाने के पश्चात् यदि रोगी को कोई Implant लगाया गया है, तो उससे सम्बन्धित सूचनाएं Implantation details विकल्प में दर्ज की जावेगी। वित्त विभाग द्वारा अनुमोदित implant की सूची सिस्टम में Implant type/ Implant name विकल्प में उपलब्ध है, जिसका चयन कर कर्मचारी द्वारा वास्तविक व्यय की गई राशि का इन्द्राज किया जावेगा। सिस्टम द्वारा Hospital की कैटेगरी के अनुसार वित्त विभाग द्वारा अनुमत की गई राशि Sanction amount विकल्प में उपलब्ध होगी।

5. बिन्दु संख्या 4 के अनुसार कार्यवाही किए जाने के पश्चात् मेडिकल विकल्प का चयन किया जावेगा। जिसमें सर्वप्रथम जिस दुकान से दवाई खरीदी गई है उसका विवरण (यथा दुकान का नाम, विल नम्बर, दिनांक आदि) दर्ज किया जावेगा। तत्पश्चात् Medicine type विकल्प में Alopathic, Homeopathis, Unani, Ayourvedic विकल्प में से एक विकल्प का चयन करना होगा। Homeopathie, Unani, Ayurvedic हेतु राजस्थान सिविल सेवा (चिकित्सा परिचय) नियम 2013 में अनुमत की गई दवाईयों की सूची सिस्टम में उपलब्ध है। Alopathic चिकित्सा हेत चिकित्सा परिचर्या नियम2011 में disallow की गई दवाईयों की सूची सिस्टम में उपलब्ध है। Alopathic चिकित्सा के अन्तर्गत दवाईयों पर किए गए व्यय के पुनर्भरण हेतु चिकित्सक द्वारा लिखी गई दवाईयों का नाम मय राशि सम्बन्धित कार्मिक द्वारा सिस्टम में दर्ज की जावेगी।

6. बिन्दु संख्या 5 के अनुसार कार्यवाही किए जाने के पश्चात् Extra Expenditure विकल्प का चयन कर Operational theatre charges, Doctor , room charges,
La Investigation charges and other charges विकल्प में वास्तविक व्यय राशि का इन्द्राज किया जावेगा। सिस्टम द्वारा Hospital की कैटेगरी के अनुसार वित्त विभाग द्वारा अनुमत की गई राशि Sanction amount विकल्प में उपलब्ध होगी।

7. बिन्दु संख्या 6 के अनुसार कार्यवाही किए जाने के पश्चात् Summary विकल्प का चयन करने पर सिस्टम पर बनाये गये चिकित्सा विल की Summary प्रदर्शित होगी। इसी विकल्प में Annexure-VI and VII पर क्लिक करने पर
GA. 36M में चिकित्सा बिल की पी डी .एफ, जनरेट की जायेगी जिसकी नियमानुसार 2 या 3 प्रति का प्रिन्ट लेकर सम्बन्धित कार्मिक द्वारा चिकित्सा व्यय से सम्बन्धित मूल बिल संलग्न कर स्वयं के हस्ताक्षर उपरान्त सम्बन्धित चिकित्सक से हस्ताक्षर कराकर आहरण वितरण अधिकारियों को चिकित्सा व्यय के पुनर्भरण हेतु प्रस्तुत किया जावेगा।

नोट- आपकी सेवा में हम इसी विषय पर लगातार सम्बंधित पोस्ट जारी रखेंगे। आपसे निवेदन है कि आप कमेन्ट जरूर लिखे। यह आपकी स्वयम की वेबसाइट है।

मेडिकल बिल बनाने की प्रोसेस ddo id से

View Comments