आज 15 अगस्त 2022 को सफल भाषण देने का तरीका

images28929 | Shivira Hindi News

आज 15 अगस्त 2022 को अगर आपको किसी संस्था, स्कूल, सोसाइटी में भाषण देना हो तो आप निम्नलिखित प्रकार से तैयारी करके एक प्रभावशाली भाषण दे सकते है। इस लेख में आपको टिप्स दी जा रही है। आप स्वयं एक अच्छे वक्ता है लेकिन अगर हम अपने भाषण को पहले से अपने दिमाग मे रखे तो वह अधिक प्रभावशाली भी होगा तथा आप अपना सन्देश भी स्पष्ट रूप से दे सकेंगे। हमने आपके लिए आज के दिवस हेतु महत्वपूर्ण तथ्य, आजादी के तराने व कोटेशन भी इस लेख में रखे है ताकि आप उनकी मदद से अपने भाषण को प्रभावशाली बना सके।

E0A4A1E0A4BEE0A489E0A4A8E0A4B2E0A58BE0A4A1E0A495E0A4B0E0A587E0A4826454090204252279265. | Shivira Hindi News

स्वयं की तैयारी | self preparation

एक अच्छा भाषण देने के लिए आपको स्वयं की कुछ तैयारी अपेक्षित है। कुछ सामान्य तैयारी से आपका आत्मविश्वास बढ़ता है तथा आप अपनी बात को बेहतर तरीके से कम्युनिकेट कर सकते है।

वेशभूषा | dressing sense

आप क्योकि मंच पर होंगे तथा लोगो को सम्बोधित करेंगे तो सबकी नजरें आप पर होगी अतः सबसे पहले आपको अपनी वेशभूषा पर ध्यान देना चाहिए। आपको अपने पद के अनुरूप ड्रैसअप होना चाहिए। आप ऐसे कपड़े हरगिज़ नही चयन करें जिनमे आप अपने आपको सहज अनुभव नही कर रहे हो। आपकी वेशभूषा अवसर के अनुकूल होनी चाहिए।

मंच की जानकारी | platform information

आपको भाषण देने से पूर्व मंच की जानकारी जरूर प्राप्त करनी चाहिए कि मंच पर कौन लोग विराजमान है। ऐसा कई बार देखा जाता है कि लोग सम्बोधित करते समय आसीन मंच की जानकारी नही रखते है। मंच पर बैठे व्यक्तियों के नाम व समारोह में उनके द्वारा धारण किये गए पद (अध्यक्ष, मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि) की आप जानकारी अवश्य प्राप्त कर लीजिए।

संस्थान की जानकारी | Institute Information

आपको सम्बोधन से पूर्व जिस स्कूल, सन्स्था या सोसायटी में भाषण दे रहे है उस सोसायटी की थोड़ी बहुत जानकारी रखनी चाहिए जैसे सन्स्था का पूरा नाम, उद्देश्य, उपलब्धि इत्यादि। अगर किसी संस्था को किसी शार्ट नाम से बुलाया जाता है तो आपको उसका फूल फॉर्म पता होना चाहिए।

आज के दिन 15 अगस्त की जानकारी | Today 15 August information

आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि 15 अगस्त 2022 को हम स्वतंत्रता दिवस मनाते है। आज 76 वाँ स्वतंत्रता दिवस है जबकि 75 वी स्वतंत्रता की वर्षगाँठ है। भारत 2022 में ब्रिटिश शासन से आज़ादी के 75 साल पूरे होने का जश्न मना रहा है। लेकिन अगर हम गिनें कि भारत ने कितने स्वतंत्रता दिवस मनाए हैं, तो यह 76 होगा, क्योंकि 15 अगस्त, 1947 को पहला माना जाएगा।

आपके भाषण की प्लानिंग | planning your speech

images2810297137905455440889603. | Shivira Hindi News

आपको अपने भाषण को पहले से प्लान करना चाहिए। आपको अपने पद के अनुरूप ही इसकी प्लानिंग करनी चाहिए। आपको अपने दिमाग मे पहले से यह योजना बना लेनी चाहिए कि आपको अपने भाषण में कौनसे मुद्दे उठाने है? कई बार व्यक्ति भाषण देते समय मुद्दे से भटक जाते है अथवा अनावश्यक टिप्पणी कर देते है। हमको इनसे बचना चाहिए।

एक सन्स्था प्रधान को अपने भाषण में निम्नलिखित बिंदु इस क्रम में रखने चाहिए-

  1. सम्बोधन के आरम्भ में मंच पर बिराजे व्यक्तियों का नाम, पद व थोड़ा सा सारगर्भित परिचय देना चाहिए।
  2. इसके बाद श्रोताओं- अभिभावकों, ग्रामीणों, अन्य व्यक्तियों व विद्यार्थियों को सम्बोधित करना चाहिए।
  3. अपने भाषण के आरम्भ में आज के दिन का महत्व, स्वाधीनता संग्राम, शहीदों को याद करना चाहिए।
  4. इसके बाद आजादी के 75 वर्षों में देश द्वारा प्राप्त उपलब्धियों यथा शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, सुरक्षा, अंतरराष्ट्रीय सम्मान इत्यादि का जिक्र करना चाहिए।
  5. एक सन्स्था प्रधाननके नाते विद्यालय व विद्यार्थियों की उपलब्धि व भावी रोड मैप को संक्षेप में बताना चाहिए।
  6. स्थानीय समुदाय व जनप्रतिनिधियों से अपेक्षित सहयोग को बताना चाहिए।
  7. राज्य सरकार के विशेष प्रयासों, योजनाओं व उपलब्धियों को अवश्य बताना चाहिए।
  8. विद्यार्थियों को सफल जीवन व योग्य नागरिक बनने हेतु मार्गदर्शन देना चाहिए।

15 अगस्त की कुछ विशेष बातें | some special facts of 15 august

  • भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने लाल किले पर स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा झंडा फहराया था।
  • भारत के आखिरी वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन ने ही 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता दिवस तय करने का फैसला किया था।
  • भारत पर कई सालों तक अंग्रेजों का शासन रहा. लगभग 200 सालों तक भारत पर ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन था।
  • 1857 में भारत ने विदेशी शासन के खिलाफ पहली बार सिर उठाया था और विद्रोह किया. यह भारतीय सैनिक मंगल पांडे के नेतृत्व में सिपाही विद्रोह था जिसमें लगभग पूरा देश अंग्रेजों के खिलाफ एकजुट हो गया. दुर्भाग्य से, भारत हार गया ।
  • भारतीय आजादी के बाद भी गोवा पुर्तगालियों उपनिवेश था जिसे 1961 में भारतीय सेना ने आजाद करा कर भारत में मिला लिया।
  • आज के राष्ट्रिय ध्वज की परिकल्पना मद्रास (वर्तमान में आंध्र प्रदेश) के मछलीपट्नम के रहने वाले महान क्रन्तिकारी और देशभक्त पिंगली वैंकया ने की थी। उन्होंने ही आज के राष्ट्रिय ध्वज जिसमें केसरिया , सफ़ेद और हरे रंग की तीन पट्टियां और सफ़ेद पट्टी में अशोक चक्र स्थित है का Design तैयार किया था।
  • 15 अगस्त 1947 को भारत ब्रिटेन सरकार से आजाद हुआ था। 15 अगस्त का दिन हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों के सर्वोच्च बलिदान की याद दिलाता है। उनके सम्मान में और भारत देश के सम्मान के लिए यह दिन साल के 365 दिन में सबसे अधिक महत्व रखता है।
  • दक्षिण कोरिया व बहरीन भी 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते है।

स्वतंत्रता दिवस हेतु अनमोल कोटेशन | Priceless Quotation for Independence Day

स्वतंत्रता दिवस आए सम्बंधित कुछ अनमोल कोटेशन हमारे पाठकों हेतु प्रस्तुत किये जा रहब है।

मातृभूमि के महत्व पर कोटेशन

अपि स्वर्णमयी लंका न मे लक्ष्मण रोचते।
जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी॥

” है लक्ष्मण! मुझे स्वर्णमयी लंका भी अच्छी नहीं लगती माता और मातृभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर होती हैं।”
-प्रभु श्रीराम

पृथिवीं धर्मणा धृतां शिवां स्योनामनु चरेम विश्वहा।

धर्म के द्वारा धारण की गई इस मातृभूमि की सेवा हम सदैव करते रहें।
-अथर्ववेद (12।1।17)

देश की सेवा करने में जो मिठास है वह और किसी चीज में नहीं है।
-सरदार बल्लभ भाई पटेल (सरदार पटेल के भाषण, पृष्ठ 259)

अपने देश या अपने शासक के दोषों के प्रति सहानुभूति रखना या उन्हें छिपाना देशभक्ति के नाम को लजाना है इसके विपरित देश के दोषों का विरोध करना सच्ची देशभक्ति है।
-मोहनदास करमचंद गाँधी (सम्पूर्ण गाँधी वाङ्मय, खण्ड 41, पृष्ठ 590)

राष्ट्रीयता भी सत्य है और मानव जाति की एकता भी सत्य है इन दोनों सत्यों के सामंजस्य में ही मानव जाति का कल्याण है।
-अरविन्द (कर्मयोगी)

मतभेद भुलाकर किसी विशिष्ट काम के लिए सारे पक्षों का एक हो जाना जिन्दा राष्ट्र का लक्षण है।
-लोकमान्य बालगंगाधर तिलक

ईश्वर जीवन यापन के लिए हमें जिस भूखण्ड पर जन्म देता है उसकी रक्षा व उससे प्रेम करना हमारा कर्तव्य भी है और धर्म भी।

आजादी के तराने | strings of freedom

आजादी के तराने✍🇭🇺🙏

(संकलन)

जहां प्रेम की भाषा है सर्वोपरी,
जहां धर्म की आशा है सर्वोपरि,
ऐसा है मेरा देश हिंदुस्तान जहां,
देश भक्ति की भावना है सर्वोपरी.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

कर जज्बे को बुलंद जवान ,
तेरे पीछे खड़ी आवाम,
हर पत्ते को मार गिरएंगे
जो हमसे देश बंटवाएंगे.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

भले हाथो में खनके,
छन छन करते पायल झुमके,
पर देश की हैं हम प्रचंड नारी,
वक्त पर उठाएंगे तलवारे भारी से भारी.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

धर्म न हिन्दू का है ना मुसलमान का,
धर्म तो बस इंसानियत का है,
ये भूख से बिलकते बच्चो से पूछों.
सच क्या है झूट क्या है,
किसी मंदिर या मस्जिद से नहीं,
बेगुनाह बच्चो की मौत पर किसी माँ से पूछो,
देश का सपूत बनना है तो कर्तव्य को जानो,
अधिकार की बात न करों देश के लिए जीवन न्योछावर करो.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

कीमत करो शहीदों की,
वो देश पर कुर्बान हुए,
सिर्फ दो दिनों की मोहताज नहीं है देश भक्ति,
नागरिकों की एकता ही है देश की असल शक्ति…
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

मोक्ष पाकर स्वर्ग में रखा क्या है,
जीवन सुख तो मातृभूमि की धरा पर है,
तिरंगा कफन बन जाये इस जन्म में,
तो इससे बाद सौभाग्य क्या है?
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

वतन हैं मेरा सबसे महान
प्रेम सोहाद्र का दूजा नाम,
वतन-ए-आबरू पर है हम सब कुर्बान,
शान्ति का दूत है मेरा हिन्दुस्तान…
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

दुश्मनी के लिए यह याद नहीं रहता,
वतन मेरा दोस्ती पर कुर्बान है,
नफरत पाले कोई उड़ान नहीं भरता,
दिलों में चाहत ही मेरे वतन की शान है…
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

खुशनसीब हैं जो वतन पर कुर्बान हुए,
जो तिरंगे में लिपट जिंदगी से आजाद हुए,
मर कर भी अमर हो गए वो,
साधारण मनुष्य से शहीद की शहादत हो गए वो…
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे
तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे
कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ
उन आंखों को फिर दुबारा दुनिया देखने नहीं देंगे
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा,
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलों सीमा पर वीरों ने है प्राण गवाएं,
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के फिर न आये…..
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

तिरंगा है आन मेरी तिरंगा ही है शान मेरी,
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा, तिरंगे से है धरती महान मेरी…
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

जो अब तक न खोला वो खून नहीं पानी है,
जो देश की काम ना आये, वो बेकार जवानी है.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशाँ होगा.
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

खून से खेलेंगे होली अगर वतन मुश्किल में है,
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

कभी ठंड में ठिठुर कर देख लेना,
कभी तपती धूप में जल के देख लेना,
कैसे होती हैं हिफाजत मुल्क की,
कभी सरहद पर खड़े जवानों को जाकर देख लेना।
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

चलो फिर से वो नजारा याद कर लें,
शहीदो के दिल में थी जो ज्वाला वो याद कर लें,
जिसमें बहकर आजादी पहुंची थी किनारे पर,
बलिदानियों के खून की वो धारा याद कर लें।
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top