Categories: Dharma

इन मंत्रों से भगवान विष्णु को प्रसन्न करें | How to Please Lord Vishnu in Hindi

हिंदू धर्म में गुरुवार के दिन भगवान विष्णु की पूजा के लिए बेहद खास माना जाता है. कहते हैं सच्चे मन से उनकी पूजा करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं भगवान विष्णु जरूर पूरा करते हैं हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार गुरुवार को भगवान विष्णु की विधिवत पूजा करने से जीवन के सभी संकटों से छुटकारा मिलता है. भगवान विष्णु जगत के पालनहार कहलाते हैं। तो आइये जानते है कैसे, इन मंत्रों से भगवान विष्णु को प्रसन्न करें।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, गुरुवार के दिन विधि-विधान से भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी कष्ट मिट जाते हैं जिन लड़कियों की शादी में समस्या आती है उन्हें भी भगवान विष्णु जी की पूजा करने और व्रत रखने का सुझाव दिया जाता है

भगवान विष्णु की पूजा का हिंदू धर्म में हमेशा से एक खास महत्व रहा है हिन्दू धर्म में भगवान विष्णु की पूजा के लिए गुरुवार के दिन को पूजनीय माना गया है कहा जाता है कि अगर हर रोज विष्णु भगवान की

पूजा नहीं कर पाते हैं और केवल गुरुवार को सच्चे मन से प्रभु की पूजा अर्चना करते हैं, तो इससे भगवान की कृपा प्राप्त होती है.

भगवान विष्णु की पूजा से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं (Lakshmi Ji is Pleased by the Worship of Lord Vishnu In Hindi) :

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु की पूजा करने से लक्ष्मी जी भी जीवन में हमेशा के लिए कृपा प्राप्त होती है. लक्ष्मी जी के प्रसन्न होने से जीवन में धन से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं. इतना ही नहीं शास्त्रों में लक्ष्मी जी को धन की देवी बताया गया है. वैसे जिन लोगों की कुंडली में बृहस्पति ग्रह कमजोर होता है, उन्हें आज की पूजा से लाभ मिलता है. भगवान विष्णु की पूजा से बृहस्पति ग्रह मजबूत होता है.

यह भी कहा जाता है कि विधि पूर्वक विष्णु मंत्र का जाप मार्गशीर्ष मास में बेहद उत्तम माना जाता है. मार्गशीर्ष मास को भगवान विष्णु का सबसे प्रिय मास माना गया है. इस मास में इन मंत्रों का जाप शुभ फल प्रदान करने वाला माना गया है

भगवान विष्णु के पूजन की विधि(Method of Worshiping Lord Vishnu In Hindi) :

भगवान विष्णु के पूजन के लिए सर्वप्रथम पूजा की थाली में पीले फूल, गुड़, चने की दाल, केले रखें अगर, घर के आसपास कोई केले का पेड़ है तो सुबह उठकर स्नान आदि करके केले के पेड़ के सामने भगवान विष्णु की कथा पढ़ें और गुड़, चने की दाल के प्रसाद को सभी में बांटे केले का पेड़ न होने पर आप घर में भगवान विष्णु का ध्यान करके पूजा कर सकते हुए कथा पढ़ सकते हैं कथा पढ़ने के बाद आरती करें और प्रसाद सभी में बांटें

भगवान विष्णु के प्रभावशाली मंत्र (Influential Mantras of Lord Vishnu In Hindi) :

  • ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
  • श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।
  • ॐ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।।
  • ॐ विष्णवे नम :
  • ॐ हूं विष्णवे नम :
  • ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।

लक्ष्मी विनायक मंत्र (Lakshmi Vinayak Mantra) :

दन्ताभये चक्र दरो दधानं,
कराग्रगस्वर्णघटं त्रिनेत्रम्।

धृताब्जया लिंगितमब्धिपुत्रया
लक्ष्मी गणेशं कनकाभमीडे।।

धन वैभव एवं संपन्नता का मंत्र (Mantra for Wealth and Prosperity) :

ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरि घेदिन्द्र दित्ससि।
ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।

भगवान विष्णु के सरल मंत्र (Simple Mantras of Lord Vishnu) :

  • ॐ अं वासुदेवाय नम :
  • ॐ आं संकर्षणाय नम :
  • ॐ अं प्रद्युम्नाय नम :
  • ॐ अ: अनिरुद्धाय नम :
  • ॐ नारायणाय नम :

विष्णु के पंचरूप मंत्र (Pancharup Mantra of Vishnu) :

ॐ ह्रीं कार्तविर्यार्जुनो नाम राजा बाहु सहस्त्रवान। यस्य स्मरेण मात्रेण ह्रतं नष्‍टं च लभ्यते।।

गुरुवार के दिन करें इन मंत्रों का जाप (Chant these Mantras on Thursday) :

  • ॐ अस्य बृहस्पति नम: (शिरसि)
  • ॐ अनुष्टुप छन्दसे नम: (मुखे)
  • ॐ सुराचार्यो देवतायै नम: (हृदि)
  • ॐ बृं बीजाय नम: (गुहये)
  • ॐ शक्तये नम: (पादयो:)
  • ॐ विनियोगाय नम: (सर्वांगे)

करन्यास मंत्र (Karanyas Mantra) :

  • ॐ ब्रां अंगुष्ठाभ्यां नम:
  • ॐ ब्रीं तर्जनीभ्यां नम:
  • ॐ ब्रूं मध्यमाभ्यां नम:
  • ॐ ब्रैं अनामिकाभ्यां नम:
  • ॐ ब्रौं कनिष्ठिकाभ्यां नम:
  • ॐ ब्र: करतल कर पृष्ठाभ्यां नम:

करन्यास के बाद मन से करें भगवान का आभार (After Karnyasa Thank God Wholeheartedly) :

  • ॐ ब्रां हृदयाय नम:
  • ॐ ब्रीं शिरसे स्वाहा
  • ॐ ब्रूं शिखायैवषट्
  • ॐ ब्रैं कवचाय् हुम
  • ॐ ब्रौं नेत्रत्रयाय वौषट्

पीले वस्त्र धारण करें (Wear Yellow Clothes In Hindi) :

गुरुवार के दिन पीले वस्त्र को धारण करना शुभ माना गया है पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, गुरुवार के दिन पीले वस्त्र धारण करने से बृहस्पति देव प्रसन्न होते हैं और भक्तों की मनकामनाओं को पूर्ण करते हैं भूलकर भी गुरुवार के दिन लाल या काले रंग के वस्त्र नहीं पहनने चाहिए