Idioms: People with fate get two-time food.

दो जून की रोटी : दो जून की रोटी मिलती है किस्मत वालों को।

आज दो जून है और दो जून की रोटी किस्मत वालों को मिलती है। यह एक मशहूर मुहावरा है इसका 2 जून (दिनाँक) से कोई मतलब नही है। ऐसा मानना है कि यह मुहावरा बहुत लंबे समय से आम जनता में मशहूर है।

यह तब का मामला है जब आम जनता में काफी गरीबी थी और अगर किसी की मूलभूत आवश्यकताओं यथा-रोटी, कपड़ा व मकान की पूर्ति हो जाती थी तो उसे बड़ा खुशनसीब समझा जाता था और कहा जाता था कि “उसे दो जून की रोटी नसीब है”।

जून अवधी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ वक्त या समय होता है। इससे ही यह कहावत अस्तित्व में आई है। इस मुहावरे से यह आभास होता है की आज से 6 शताब्दी पूर्व से रोटी का बड़ा महत्व रहा है। रोटी का तात्कालिक मतलब सिर्फ भोजन नही अपितु रोजगार है। जिसको रोजगार मिल गया उसे सबकुछ मिल गया।

कैलेंडर के अनुसार वर्ष का १५३वाँ ( लीप वर्ष में 154 वाँ) दिन है। साल में अभी और 212 दिन बाकी हैं। आज महान हिन्दू शासक पृथ्वीराज चौहान का जन्मदिन है। उनका जन्म 1163 ईसवी में हुआ था। आप सभी को 2 जून की शुभकामनाएं। आपको 2 जून की रोटी मुबारक हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here