विद्यालय संस्था प्रधान हेतु आवश्यक जानकारी ( Important information for the head of the school institution )

विद्यालय संचालन हेतु संस्था प्रधान को कई प्रकार की जानकारी होनी आवश्यक है। इस आलेख में सामान्य लेकिन महत्वपूर्ण जानकारियां सम्मिलित की गई है।

मातृत्व अवकाश सम्बंधित जानकारी | maternity leave information

एक प्रश्न: मातृत्व अवकाश के सम्बन्ध में- बच्चे के जन्म की संभावित दिनांक से कितने दिन पहले से मातृत्व अवकाश शुरू कर सकते है?

एक महिला सरकारी कर्मचारी को सम्पूर्ण सेवा काल में दो बार तथा जीवित बच्चा न हो तो तीसरी बार प्रसूति अवकाश स्वीकृत किया जा सकता है। यह अवकाश चिकित्सा प्रमाण-पत्र के आधार पर प्रारम्भ होने की तिथि से 180 दिन की अवधि तक पूर्ण वेतन पर स्वीकृत किया जा सकता है।

चिकित्सक द्वारा गर्भवती होने के आशय के प्रमाण-पत्र के आधार पर कर्मचारी द्वारा प्रस्तुत अवकाश आवेदन-पत्र में उल्लेखित तिथि से स्वीकृति प्रदान की जा सकती हैं।

जन-अनुशासन दिशा-निर्देश विद्यालय संचालन से सम्बंधित।

शैक्षणिक गतिविधियों के सम्बन्ध में :

प्रदेश के विश्वविद्यालय / महाविद्यालय / विद्यालय (कक्षा 9वीं से 12वीं तक ) एवं कोचिंग संस्थानों में शैक्षणिक गतिविधियां विभाग द्वारा जारी आदेश दिनांक 12.08.2021 द्वारा दिनांक 01 सितम्बर 2021 से एवं आदेश दिनांक 17.09.2021 द्वारा राज्य के सरकारी / निजी विद्यालयों की

कक्षा 6 से 8 तक की नियमित शिक्षण गतिविधियां दिनांक 20.09.2021 से एवं कक्षा 1 से 5 तक की नियमित कक्षा गतिविधियां का संचालन दिनांक 27.09.2021 से 50 प्रतिशत क्षमता के साथ अनुमत किया जा चुके है। उक्त आदेशों की निरन्तरता में निम्नानुसार दिशा-निर्देश जारी किये जाते हैं
  1. विभाग द्वारा जारी समसंख्यक आदेश दिनांक 12.08.2021 एवं आदेश दिनांक 17.09.2021 की निरन्तरता में राज्य के समस्त सरकारी / निजी विश्वविद्यालय / महाविद्यालय / विद्यालयों (कक्षा 1 से 12वीं तक) की नियमित शिक्षण गतिविधियों का संचालन 100 प्रतिशत क्षमता के साथ दिनांक 15 नवम्बर 2021, सोमवार से प्रारम्भ किया जा सकेगा।
  2. विभागीय समसंख्यक आदेश दिनांक 12.08.2021 के बिन्दु संख्या 3 की निरन्तरता में प्रदेश के समस्त कोचिंग संस्थान अपने शैक्षणिक व अशैक्षणिक स्टाफ के वैक्सीन की दोनों खुराक (1nd and 2nd dose) की अनिवार्यता की शर्त के साथ दिनांक 15 नवम्बर 2021 सोमवार से 100 प्रतिशत के साथ संचालित हो सकेंगे।
  3. शेष सभी दिशा-निर्देश पूर्व में जारी आदेशों अनुसार यथावत् रहेंगे।
20211109 123922 Shivira
जन-अनुशासन दिशा-निर्देश विद्यालय संचालन से सम्बंधित आदेश। www.shivira.com

विद्यार्थी कल्याणकारी योजनाओं की सूची | List of Student Welfare Schemes

प्रत्येक संस्था प्रधान को निम्नलिखित विद्यार्थी कल्याणकारी योजनाओं की आरम्भिक जानकारी अवश्य रखनी

चाहिए तथा इन जानकारियों को प्रचार प्रसार करना चाहिए ताकि नामांकन बढ़े व जनकल्याणकारी योजनाओं का अधिकतम लाभ विद्यालयों को मिल सके।

प्रमुख विद्यार्थी कल्याणकारी योजनाएं :

चिरंजीवी स्वास्थ्य कैम्प के लिए स्कूल के विद्यार्थियों की स्वास्थ्य जांच एवं उपचार

परिचय

  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिनांक 14 नवम्बर 2021 से प्रदेष में प्रत्येक ग्राम पंचायतवार चिरंजीवी स्वास्थ्य षिविरों का आयोजन किया जा रहा है।
  • उक्त चिरंजीवी स्वास्थ्य षिविरों में विद्यालय जाने वाले छात्र-छात्राओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाना है।
  • षिविरों में इस स्वास्थ्य परीक्षण के पूर्व विद्यालय स्तर पर अध्यापकों द्वारा प्रत्येक छात्र / छात्रा की स्वास्थ्य की प्री-स्क्रीनिंग की जायेगी। प्री-स्क्रीनिंग में विद्यार्थियों में चिन्हित स्वास्थ्य समस्याओं के
    लक्षण पाये जाने पर ग्राम पंचायत स्तर पर होने वाले चिरंजीवी षिविरों में उनकी स्वास्थ्य जांच की जायेगी एवं तद्नुसार उपचार सुनिष्चित किया जायेगा।

पूर्व तैयारी व प्रशिक्षण

पूर्व तैयारी एवं प्रशिक्षण

कार्यक्रम के लिए आईईसी सामग्री एवं विजन चार्ट सभी जिलों को प्रेषित की जा रही है।

प्रशिक्षण:

  • यह प्रषिक्षण ब्लॉक स्तर करवाया जायेगा।
  • प्रषिक्षण कार्यक्रम में प्रत्येक पीईओ स्तर से स्वयं पीईओं एवं 2 विज्ञान के अध्यापकों एवं शारीरिक षिक्षा के षिक्षक का चुनाव किया जायेगा।
  • प्रषिक्षण कार्यक्रम, प्री-स्क्रीनिंग एवं डेटा अपलोड आदि समस्त गतिविधियों हेतु सम्बंधित ग्राम पंचायत के पीईओ नोडल होंगे।
  • अध्यापकों का प्रषिक्षण एनएचएम के अर्न्तगत राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम एवं राजस्थान स्टेट हैल्थ एश्योरेंस एजेंसी में कार्यरत मेडिकल ऑफिसर्स द्वारा किया जायेगा।
  • यह प्रषिक्षण दिनांक 10.11.2021 से प्रारंभ किया जाना है।
  • जिन ब्लॉक में चिरंजीवी षिविरों का आयोजन दिनांक 14 नवम्बर से प्रारम्भ हो रहा है, उन ब्लॉक में प्रषिक्षण प्राथमिकता से करवाना है।
  • ट्रैनर्स द्वारा प्रशिणार्थियों को बच्चों में पाई जाने वाली सामान्य एवं जटिल बीमारियों एवं उनके लक्षणों की पहचान के संबंध में प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।
  • लक्षणों की पहचान के सम्बंध में कार्यक्रम की आईईसी सामग्री में जानकारी प्रदान की गई है।

प्री-स्कीनिंग

  • प्रशिक्षण उपरांत संबंधित पीईओ, विद्यालय से
    चुने गये विज्ञान / शारीरिक षिक्षा के 02 षिक्षकों द्वारा विद्यालय में प्रत्येक छात्र / छात्रा का प्री-स्वास्थ्य परीक्षण किया जायेगा।
  • प्रषिक्षण उपरांत संबन्धित टीम द्वारा तय कार्यक्रम के अनुसार 7 से 10 दिवस में विद्यालय के प्रत्येक छात्र / छात्रा का प्री- स्वास्थ्य परीक्षण किया जायेगा।
  • प्री-स्वास्थ्य परीक्षण प्रत्येक विद्यालय में पंजीकृत छात्र / छात्राओं की सूची शाला दर्पण द्वारा ली जायेगी जिससे सभी छात्र / छात्राओं की स्क्रीनिंग सुनिष्चत हो सकेगी।
  • जो छात्र / छात्रा प्री-स्कीनिंग के दौरान विद्यालय में अनुपस्थित रहते है, उनको घर पर सम्पर्क करके उनकी प्री-स्क्रीनिंग सुनिष्चित की जायेगी।