Categories: ArticlesUncategorized
| On 1 month ago

Independence Day Program Tips ( स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम आयोजन सम्बंधित टिप्स )

स्वतंत्रता दिवस : स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम आयोजन सम्बंधित टिप्स।

स्वतंत्रता दिवस हमारा देश का राष्ट्रीय कार्यक्रम है जिसका आयोजन पूरे राष्ट्र में उत्साहपूर्वक धूमधाम से किया जाता है। विद्यालयों में इसका विशेष आयोजन होता है। स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम आयोजन में निम्नानुसार बिन्दुओ का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए-

  • कार्यक्रम आरम्भ से पूर्व ध्वनि विस्तार यंत्रो द्वारा देश भक्ति के गीत प्रसारित किये जाते है एवं देशभक्ति वातावरण तैयार किया जाता है।
  • मंच संचालक द्वारा स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में पधारे गणमान्य व्यक्तियो के सामान्य परिचय के पश्चात मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि, अध्यक्ष ,संस्थाप्रधान व अन्य को मंच पर स्थान ग्रहण करने हेतु आमन्त्रित किया जाता हैं। उनके बैठने के स्थान पर नेमप्लेट लगाना भी सहायक रहता है।
  • कार्यक्रम का शुभारम्भ माता सरस्वती व भारतमाता के पूजन से किया जाता हैं।
  • सर्वप्रथम झंडारोहण मुख्य अतिथि से (विभागीय निर्देश होने पर निर्देशानुसार) करवाकर बालिकाओं से झंडागीत का गायन करवाया जाता हैं।
  • झंडारोहण के बाद परेड, झण्डा सलामी, डम्बल्स, शारारिक व्यायाम , करतब के सामूहिक व व्यक्तिगत प्रदर्शन किये जाते है।
  • इसके पश्चात मंचासीन अतिथियों का स्वागत, माल्यार्पण, साफा इत्यादि के पश्चात मुख्य अतिथि महोदय का भाषण।
  • इसके पश्चात सांस्कृतिक कार्यक्रम व इसके मध्य अन्य अतिथियों द्वारा सम्बोधन/भाषण स्तिथिनुसार (एजेंडे के अनुसार) किये जाते हैं।
  • इसके पश्चात पुरूस्कार वितरण, अध्यक्षीय भाषण व संस्था प्रधान द्वारा धन्यवाद ज्ञापन दिया जाता है।
  • अंत में राष्ट्रगान के पश्चात मिष्ठान वितरण व विसर्जन।

नोट- यह एक सुझावात्मक प्रारूप है। इस क्रम में विभागीय आदेश/नियम/संहिता ही सर्वोपरि होते है।

स्वतंत्रता दिवस भाषण के लिए शॉर्ट लाइन ( Short Lines for Independence Day Speech)

  1. भारत को 15 अगस्त, 1947 को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता मिली।
  2. आजादी से पहले भारत एक ब्रिटिश उपनिवेश था और उस अवधि के दौरान हमारे लोगों ने बहुत कुछ सहा है और अपने प्राणों की आहुति दी है।
  3. स्वतंत्रता के बाद जन्म लेने वाले लोगों को गर्व महसूस करना चाहिए क्योंकि वे स्वतंत्र भारत में जन्म लेने के लिए भाग्यशाली हैं। इसलिए उन्हें हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को स्वीकार करना चाहिए।
  4. आजादी के बाद, हमें अपना संविधान मिला और हम अपने मौलिक अधिकारों का आनंद लेने में सक्षम हैं।
  5. हम सभी को एक भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए, और हमें अपने भाग्य की प्रशंसा करनी चाहिए कि हम स्वतंत्र भारत की भूमि में पैदा हुए हैं।
  6. 1857 से 1947 तक, इतिहास ने हमारे महान नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों के कई विद्रोह और बलिदान को देखा है।
  7. हमें उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों जैसे महात्मा गांधी, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद और लाखों अन्य लोगों के बलिदानों को नहीं भूलना चाहिए, जिनके नाम भी ज्ञात नहीं हैं, लेकिन उन्होंने भारत को अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासन से मुक्त करने के लिए संघर्ष किया।

स्वतंत्रता दिवस के लिए कुछ शेर इस शुभ अवसर के अनुरूप-

1) कुछ कर गुजरने की गर तमन्ना उठती हो दिल में

भारत मा का नाम सजाओ दुनिया की महफिल में |

2 )हर तूफान को मोड़ दे जो हिन्दोस्तान से टकराए

चाहे तेरा सीना हो छलनी तिरंगा उंचा ही लहराए |

3 )बंद करो ये तुम आपस में खेलना अब खून की होली

उस मा को याद करो जिसने खून से चुन्नर भिगोली |

4 )किसकी राह देख रहा , तुम खुद सिपाही बन जाना

सरहद पर ना सही , सीखो आंधियारो से लढ पाना |

5 )इतना ही कहेना काफी नही भारत हमारा मान है

अपना फ़र्ज़ निभाओ देश कहे हम उसकी शान है |

6 )विकसित होता राष्ट्र हमारा , रंग लाती हर कुर्बानी है

फक्र से अपना परिचय देते,हम सारे हिन्दोस्तानी है |

स्वतंत्रता दिवस के लिए मशहूर शायरी