| On 4 months ago

Indira Priyadarshini Award 2019

इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार वर्ष 2019

राजस्थान सरकार के परिपत्र के अनुसार माध्यमिक एवं प्रारम्भिक शिक्षा विभाग के अन्तर्गत अध्ययनरत सामान्य, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछडा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग, अति पिछडा वर्ग, बी.पी. एल. एवं निःशक्त वर्ग (दिव्यांग) की ऐसी बालिकाओं को जो राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा 8, 10 एवं 12 (कला, विज्ञान, वाणिज्य तीनों संकाय में अलग-अलग) की परीक्षाओं में प्रत्येक जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली तथा संस्कृत शिक्षा विभाग की कक्षा 8, प्रवेशिका एवं वरिष्ठ उपाध्याय की बोर्ड परीक्षा में उपरोक्त वर्गों में राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली कक्षा 8 की बालिका को 40,000 रूपये, कक्षा 10 की बालिका को 75,000 रूपये एवं कक्षा 12 की सभी वर्गों (संकायों) की बालिकाओं को 1,00,000 रूपये के साथ-साथ स्कूटी 'इन्दिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार' के रूप में दिया जावेगा। इस योजना के अन्तर्गत पुरस्कार राशि का सम्पूर्ण व्यय बालिका शिक्षा फाउण्डेशन द्वारा वहन किया जायेगा।

1. योजना का नाम

इंदिरा प्रियदर्शिनी पुरस्कार

2. योजना का संक्षिप्त परिचय

कक्षा-8, 10 एवं 12 की बोर्ड परीक्षा में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त

करने वाली तथा संस्कृत शिक्षा की कक्षा-8, प्रवेशिका एवं वरि.उपा. परीक्षा में राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली 08 संवर्गों (सामा, अजा, अजजा, अन्य पिव, अति.पिव,अल्पसंख्यक, बीपीएल, निःशक्त वर्ग) की छात्राओं को देय है। पुरस्कार प्रतिवर्ष स्व. श्रीमती इंदिरा गांधी के जन्मदिवस 19 नवम्बर को प्रत्येक जिला मुख्यालय पर समारोहपूर्वक दिया जाएगा तथा नोडल एजेंसी - बालिका शिक्षा फाउण्डेशन है।

3. योजना प्रारम्भ किये जाने का वर्ष

वर्ष 2010-11 (संशोधित 05.03.2019)

4. लाभान्वित वर्ग

कक्षा-8, 10 एवं 12 की बोर्ड परीक्षा में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली तथा संस्कृत शिक्षा की कक्षा-8, प्रवेशिका एवं वरि.उपा. परीक्षा में राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली उक्त संवर्गों की नियमित अध्ययनरत छात्राएं। तथा नोडल एजेंसी - बालिका शिक्षा फाउण्डेशन है।

5.योजना की पात्रता

1. छात्रा ने अपने संवर्ग में कक्षा-8, 10 एवं 12 (कला, विज्ञान, वाणिज्य तीनों संकायों में अलग-अलग) की बोर्ड परीक्षा में जिला स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया हो अथवा संस्कृत शिक्षा की कक्षा-8, प्रवेशिका एवं वरिष्ठ उपाध्याय परीक्षा में राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया हो।
2. छात्रा द्वारा

उक्त परीक्षाओं में न्यूनतम 60 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
3. बोर्ड परीक्षा के लिए प्रस्तुत आवेदनपत्र में छात्रा द्वारा भरा गया जाति/संवर्ग ही अंतिम रूप से मान्य होगा।
4. छात्रा अगली कक्षा में नियमित अध्ययनरत हो।

6. योजना में देय सुविधाएं

* कक्षा 8 (शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा) 40,000/-
* कक्षा 10 एवं प्रवेशिका 75,000/-
* कक्षा 12 एवं वरिष्ठ उपाध्याय | 1,00,000/- एवं स्कूटी

7. योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करने का कार्यालय-

संबंधित विद्यालय जिसमे विद्यार्थी अध्ययनरत है।

8. योजना में आवेदन प्रस्तुत करने के कार्यालय का नाम व पता-

संबंधित विद्यालय जिसमे विद्यार्थी अध्ययनरत है।

9. योजना में आवेदन के साथ संलग्न किये जाने वाले दस्तावेज-

* परीक्षा अंकतालिका की प्रति
* बैंक पासबुक की प्रति
* नियमित अध्ययनरत का प्रमाणपत्र
* जाति/श्रेणी का प्रमाणपत्र

10. योजना का लाभ लेने के लिए सम्पर्क सूत्र-

सम्बन्धित संस्था प्रधान/जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक- मुख्यालय

11 भारत सरकार एवं राज्य सरकार की हिस्सा राशि का अनुपात-

शत-प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा देय।

नोट-

1. कक्षा 12 की बालिकाओं को पुरस्कार राशि के साथ ही स्कूटी भी दी जाती हैं।
2. इस योजना में सम्मिलित बालिकाओं को न्यूनतम 60% अंक प्राप्त करना अनिवार्य हैं।
3. यह पुरस्कार बालिकाओं को नियमित अध्ययन करने पर ही दिया जायेगा। इसके
लिए बालिका को वर्तमान में जहां अध्ययनरत है वहां के संस्था प्रधान द्वारा प्रदत्त नियमित अध्ययन का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
4. पुरस्कार की पात्र बालिका यदि नियमित अध्ययनरत नहीं है अर्थात स्वयंपाठी या कोंचिग कर रही हो ऐसी बालिका को यह पुरस्कार उस वर्ष नहीं दिया जायेगा। यह पुरस्कार बालिका के अगले वर्ष नियमित प्रवेश लेने पर दिया जा सकेगा।
5. उक्त पुरस्कार हेतु पूरक परीक्षा परीणाम को शामिल नहीं किया जावेगा।
6. यह पुरस्कार प्रतिवर्ष स्वर्गीय श्रीमती इन्दिरा गांधी के जन्म दिवस 19 नवम्बर को प्रत्येक जिले में जिला मुख्यालय पर आयोजित समारोह में जनप्रतिनिधियों एवं गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में दिया जावेगा।
7. बोर्ड परीक्षा के लिए भरे गए आवेदन पत्र में जिस जाति/वर्ग का कोड अभ्यर्थी द्वारा भरा गया है वही अन्तिम रूप से मान्य होगा।
8. नोडल अधिकारी पुरस्कार वितरण की सम्पूर्ण व्यवस्था एवं संबंधित संस्था प्रधान के माध्यम से पुरस्कृत होने वाली प्रत्येक बालिका की उपस्थिति सुनिश्चित करेंगे।
9. इस योजना में पुरस्कृत होने वाली बालिका को संबंधित श्रेणी का प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना होगा।
10. सचिव, बालिका शिक्षा फाउण्डेशन द्वारा पुरस्कृत होने वाली बालिकाओं के प्रमाण-पत्र, बनवाकर संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी को उपलब्ध करवाये जावेगें तथा पुरस्कार राशि बालिकाओं के बैंक खातों में हस्तान्तरित की जावेगी।
11. योजना में राजकीय एवं निजी विद्यालयों (राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता
प्राप्त) में अध्ययनरत बालिकाओं को सम्मिलित किया जायेगा।
12. इस योजना पर होने वाला व्यय बालिका शिक्षा फाउण्डेशन द्वारा वहन किया जायेगा।