Categories: Circular
| On 2 years ago

Inter District Educational Tour for students in Rajasthan

Share

अंतर जिला शैक्षिक भ्रमण : विद्यार्थियों के लिए विशेष अवसर।

राजस्थान सरकार द्वारा स्कूल शिक्षा विभाग राजस्थान में कक्षा 7 व 8 में अध्ययनरत विद्यार्थियों हेतु प्रतिवर्ष दीपावली अवकाश के दौरान आयोजित किया जाता है।प्रारम्भिक शिक्षा विभाग के अन्तर्गत अध्ययनरत विद्यार्थियो के लिए राजस्थान दर्शन शैक्षिक एवं सांस्कृतिक यात्रा का आयोजन करके विद्यार्थियो को शैक्षिक ज्ञान के साथ-साथ राज्य के परिवेश, भौगोलिक स्थिति, प्राकृतिक स्थिति ऐतिहासिक स्थल एवं सांस्कृतिक स्थलो की व्यावहारिक जानकारी उपलध करवाने का प्रयास किया जाता है।

इस योजना का उद्देश्य विद्यार्थियों को राज्य के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, प्राकृतिक धरोहरों से परिचित करवाते हुए स्थापत्य कला की जानकारी कराना है। भ्रमण द्वारा विद्यार्थियों को प्राकृतिक धरा का आंनद उठाने का अवसर मिलता है एवं विद्यार्थियों को सामुदायिक जीवन से परिचित होते है। उनके पुस्तकीय ज्ञान के अतिरिक्त अन्य जानकारी भी मिलती है।

राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत कक्षा 7 व 8 के के विद्यार्थियो को प्रतिवर्ष दीपावली अवकाश में राज्य के अन्य जिले में 5 दिवसीय राजस्थान दर्शन कार्यक्रम अन्तर्गत शैक्षिक भ्रमण हेतु भेजा जाता है।राजकीय विद्यालय में अध्ययनरत कक्षा 7 व 8 के 12-12 विद्यार्थी जिन्होने गत परीक्षा कक्षा 6 में न्यूनतम 70 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हो तथा जिन्होंने राष्ट्रीय/राज्य स्तर पर सांस्कृतिक, साहित्यिक,खेलकूद, स्काउट एवं गाइड प्रतियोगिता में विजयी रहे हो अथवा सहभागी रहे हो।अन्तर्जिला शैक्षिक भ्रमण-प्रत्येक जिले के 24 विद्यार्थी (कक्षा 7 के 12 व कक्षा के 12) एवं 02 अध्यापक प्रस्थान करते है तथा 6 विद्यार्थियों की एक आरक्षित सूची भी बना ली जाती है ताकि मूल सूची में से कोई विद्यार्थी किसी अपरिहार्य कारण से यात्रा नही कर सके तो आरक्षित सूची में से चयन कर लिया जाए।

अन्तर्जिला शैक्षिक भ्रमण के लिए विद्यार्थियों का चयन पूर्णत वस्तुनिष्ठ प्रणाली से निर्धारण किया जाता है। प्रतिभावान (Scholar) के आधार पर जिले को वरीयता से प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा के 6+6 कुल 12 (प्रथम एवं द्वितीय तथा तृतीय) का चयन होगा। गतिविधियां (Activities) राज्य पुरस्कार/तृतीय सोपान प्राप्त स्काउट एवं गाईड प्रतियोगिताओं में सहभागिता के आधार पर 12 विधार्थियों का चयन किया जाता है।

विद्यार्थियो की यात्रा का संपूर्ण व्यय राज्य सरकार वहन करती है। इस हेतु बजट राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध करवाया जायेगा । यह बजट संबंधित नोडल अधिकारी को आंवटित किया जायेगा जो संबधित दिशा निर्देशो एवं वित्तीय नियमों की पालना करते हुए व्यय करता है।जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय प्रारम्भिक शिक्षा तथा सर्किल ऑर्गनाईजर स्काउट/गाईड द्वारा भ्रमण की योजना का निर्माण किया जायेगा तथा अपने जिले में आने वाले दल के भ्रमण तथा आवास आदि की व्यवस्था की जाती हैं।

अन्तर्जिला शैक्षिक भ्रमण- जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय प्रारम्भिक शिक्षा तथा सर्किल
ऑर्गनाईजर स्काउट/गाईड द्वारा भ्रमण की योजना का निर्माण किया जायेगा तथा अपने जिले में आने वाले दल के भ्रमण तथा आवास आदि की व्यवस्था की जावेगी।शैक्षिक एवं सांस्कृतिक यात्रा का आयोजन करने के संबंध में अनुमानित व्यय प्रति विद्यार्थी अधिकतम 3286/- हैं।

इस दौरान प्रतियोगिताओं में प्रथम से तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियो को पुरस्कार राशि भी दी जाती है।भ्रमण के दौरान समस्त संभागी विद्यार्थी एवं एस्कोर्ट शिक्षक जिला मुख्यालय पर स्थित स्काउट हैड क्वार्टर पर ठहरते हैं। एस्कॉर्ट अध्यापक स्काउट/गाईड अध्यापक को प्राथमिकता दी जाती हैं ।संभाग स्तर पर संयुक्त निदेशक स्कूल शिक्षा तथा सहायक राज्य संगठन आयुक्त की व्यवस्था (ए-एस-ओ-सी) यात्राओं का अनुमोदन तथा उनके परिक्षेत्र में आने वाले दलों की यात्रा एवं पर्यवेक्षण एवं व्यवस्था का परिवीक्षण करते हैं ।

व्यय का संपूर्ण समायोजन कर अपने कार्यालय के सहायक लेखाधिकारी से जांचोपरान्त प्रेषित करते है ।भ्रमण के दौरान विद्यार्थियो की कुछ प्रतियोगिताए यथा--भ्रमण आलेख, क्विज, सांस्कृतिक प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती है तथा प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियो को पुरस्कार वितरण भी किया जाता है। प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को 350/- द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को 250/- तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थी को 200/- प्रदान किये जाते है।

अन्तर्जिला दर्शन हेतु शैक्षिक एवं सांस्कतिक यात्रा में भाग लेने वाले सभी विद्यार्थी विधिवत यात्रा वृतान्त लिखेगे, इस हेतु उन्हें एक डायरी एवं एक बॉलपैन उपलब्ध कराया जाता है ।सभी अध्यापक संभागीयों में से किसी एक को मुख्य प्रतिवेदक (Chief Reporter) यात्रा के प्रबंधक नोडल अधिकारी द्वारा नामित किया जायेगा जो यात्रा उपरान्त सभी यात्रा सहभागी अध्यापको/विद्यार्थियों से उनकी रिपोर्ट प्राप्त कर समेकित प्रतिवेदन तैयार कर संबंधित नोडल अधिकारी को प्रस्तुत करते हैं ।

इस भ्रमण की सुरक्षा की पूर्ण व्यवस्था की जाती है तथा यह भ्रमण विद्यार्थियों को सीखने का एक बहुत श्रेष्ठ अवसर होता है। इस क्रम में जिला शिक्षा अधिकारी (मुख्यालय) प्रारंभिक शिक्षा कार्यालय में संस्था प्रधान के माध्यम से आवेदन करने की अंतिम दिनाँक 13-9-2019 तक है।शिक्षा सत्र 2019-20 में कक्षा 7 व 8 में अध्ययनरत विद्यार्थियों के राजस्थान दर्शन शैक्षिक एवं सांस्कृतिक यात्रा हेतु छात्र/ छात्रा आवेदन पत्र प्रारूप।

View Comments