Israel: The Present Context and the Perspective of Israel

इजरायल: वर्तमान प्रसंग एवम इजरायल का दृष्टिकोण।

येरुशलम और गोलान के लिए प्रतिबद्ध है- इजरायल।

आज विश्व भर में अपनी ताकतवर उपस्तिथि दर्ज करने वाले देश इजरायल ने येरुशलम व गोलान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता व इनके महत्व को पुनः रेखांकित किया है। इजरायल के लिए येरुशलम व गोलान का विशेष महत्व है एवम वह इनके लिए समर्पित हैं।

आइये जानते है येरुशलम के बारे में।

येरुशलम इजरायल की राजधानी होने के साथ ही यहूदी, इस्लामी व ईसाई धर्मो हेतु विशेष महत्व की स्थली हैं। यह विश्व के सर्वाधिक महत्वपूर्ण टूरिस्ट धार्मिक केंद्र के रूप में भी मशहूर है।

दी इजरायल म्‍यूजियम, याद भसीम, नोबेल अभ्‍यारण, अल अक्‍सा मस्जिद, कुव्‍वत अल सकारा, मुसाला मरवान, सोलोमन टेंपल, वेस्‍टर्न वॉल, डेबिडस गुम्‍बद इत्यादि यहाँ के प्रमुख दर्शनीय स्‍थल हैं। इसके अलावा यहाँ सैकड़ो गिरजाघर व मस्जिदों को स्थापित किया गया है।

125 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में स्थापित येरुशलम एक प्राचीन नगर है जिसकी स्थापना अत्यंत प्राचीन है एवम मानवता के विकास के सोपान को यहाँ से समझा जा सकता है। येरुशलम प्राचीन यहूदी राज्य का केन्द्र और राजधानी रहा है। यहीं यहूदियों का परमपवित्र सुलैमान मंदिर हुआ करता था, जिसे रोमनों ने नष्ट कर दिया था। ये शहर ईसा मसीह की कर्मभूमि रहा है। यहीं से हज़रत मुहम्मद स्वर्ग गए थे।

यहाँ ईसाई, इस्लाम व यहूदी धर्म की जुड़े होने एवम एक विराट सांस्कृतिक महत्वपूर्ण स्थान होने के कारण यह सम्पूर्ण विश्व हेतु अत्यधिक महत्वपूर्ण है। 1948 में आज़ादी प्राप्त करने वाले इजरायल की राजधानी होने के बावजूद इजरायल से सम्बंधित देशों के यहाँ सिर्फ कांसलूट है, उनके एम्बेसी कार्यालय इजरायल के तेल-अबीब में स्तिथ है। एम्बेसी कार्यालयों की स्थापना सामान्यतः मेजबान देश की आधिकारिक राजधानी में ही होती है।

आइये, जानते है गोलान व गोलान हाइट्स के बारे में।

गोलान हाइट्स 1800 वर्ग किलोमीटर परिक्षेत्र है जिस की सीमा इजरायल, लेबनान व जॉर्डन से है। इजरायल के अनुसार इस क्षेत्र का 1150 वर्ग किलोमीटर उनके परिक्षेत्र में है। सन 1967 में इस क्षेत्र पर नियंत्रण हेतु इजरायल-लेबनान के मध्य सशस्त्र युद्ध हो चुका है जिसमे दोनों ही पक्षो का बहुत नुकसान हुआ था।
गोलान हाइट्स एक अत्यंत महत्वपूर्ण क्षेत्र है एवम यह क्षेत्र इजरायल के नियंत्रण क्षेत्र में है।शेष क्षेत्र सीरियाई नियंत्रण क्षेत्र में है। इजरायल के इस नियंत्रण क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विरोध भी दर्ज है।

यरुशलम व गोलान हाइट्स पर इजरायल का दृष्टिकोण।

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने हाल ही में एक कार्यक्रम में दृढ़तापूर्वक कहा है कि ” यरूशलेम एक समझौता नहीं है। यरुशलम इजरायल की शाश्वत राजधानी है और 3,000 वर्षों से है – यह अनंत काल का हिस्सा है। हम यरूशलेम के लिए प्रतिबद्ध हैं। ”
इसी प्रकार गोलान हाइट्स के लिए भी उनके विचार स्पष्ट एवं दृढ़ है उन्होंने गोलान हाइट्स के संदर्भ में नही कहा है कि ” “गोलान इजरायल का हिस्सा है; गोलान को हमेशा के लिए इजरायल का हिस्सा रहना चाहिए। मुझे लगता है कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय इस तथ्य को पहचानें और इसे स्वीकार करें, और सबसे विशेष रूप से, हमारे महान दोस्त संयुक्त राज्य अमेरिका।”

इस संदर्भ में अमेरिकी स्तिथी।

अमेरिका इजरायल का अभिन्न मित्र है एवम इजरायल के प्रत्येक कदम को अमेरिका ने समर्थन प्रदान किया है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अभी हालिया समय मे इजरायल स्तिथ अमेरिका के दूतावास को यरुशलम शिफ्ट करने का इरादा अभिव्यक्त किया हैं। अमेरिका के इस कदम से यह स्पष्ट है कि अमेरिका इजरायल को पूर्व के समान भविष्य में पूर्ण समर्थन प्रदान किया है।

इजरायल वर्तमान परिप्रेक्ष्य में।

इजरायल ने इतिहास में स्वयम को अनेक बार सिद्ध किया है एवम स्वयं को विश्व स्तर पर एक विशेष राष्ट्र का दर्जा दिलवाया है। इजरायल एक अत्याधुनिक शक्ति होनेके साथ ही विराट एतिहासिक परम्परा व संस्कृति का संवाहक भी है। विश्व मे आज इजरायल का एक विशेष स्थान है।
इजरायल में अगले माह में चुनाव नियत है व इस दृष्टिकोण से भी इजरायल आने वाले समय मे सुर्खियों में बना रहेगा।

(शेष फिर)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here