Categories: Health

कटहल के बीज के फायदे और नुकसान (Jackfruit Seeds Benefits and Harms in Hindi)

कटहल के बीज के फायदे और नुकसान - कटहल को (Artocarpus Heterophyllies) रूप में जाना जाता है यह जैक पेड़ की एक प्रजाति है अंजीर, शहतूत, इसकी ही प्रजाति के भाग है इसका उद्गम दक्षिणी भारत के पश्चिमी घाटों और श्रीलंका तथा मलेशिया के वर्षावनों के बीच में हुआ है कटहल का वृक्ष उष्णकटिबंधीय तराई क्षेत्रों के लिए अनुकूल है, और दुनिया के सभी उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में व्यापक रूप से कटहल की खेती की जाती है ।

कटहल सभी पेड़ों में सबसे बड़ा फल देता है, इसका वजन 55 किलो (120 पाउंड), इसकी लंबाई 90 सेमी (35 इंच) और इसका व्यास 50 सेमी (20 इंच) तक होता है। एक परिपक्व कटहल का पेड़ प्रति वर्ष लगभग 200 फल देता है, पुराने पेड़ों में एक वर्ष में 500 फल लगते हैं। कटहल सैकड़ों से हजारों अलग-अलग फूलों से बना हुआ एक बहुफल होता है, इसके कच्चे फल की मांसल पंखुड़ियों को खाया जाता है। पका हुआ फल मीठा होता है और इसका उपयोग मिठाइयों के लिए भी किया जाता है। हरे कटहल में हल्का-सा स्वाद और मांस जैसी बनावट होती है

कटहल आमतौर पर दक्षिण और दक्षिण पूर्वी एशिया में व्यंजनों के रूप में उपयोग किया जाता है । कटहल का पके और कच्चे दोनों तरह के फलों का सेवन किया जाता है। बांग्लादेश और श्रीलंका का कटहल राष्ट्रीय फल है और कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु का राज्य फल है कटहल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डिब्बा बंद या जमे हुए और ठंडे भोजन में उपलब्ध होता है।

कटहल एक ऐसा फल होता है जो कच्चा हो तो कटहल की सब्जी के रूप में और पका हो तो फल के रुप में खाया जाता है। कटहल के पक जाने पर उसका कोवा निकालकर खाया जाता है। इसमें Vitamin A, C, B6 (विटामिन ए, सी, बी6), Calcium (कैल्शियम), Poteshium (पोटैशियम), Iron (आयरन), Pholic Acid (फोलिक एसिड), Megnesium (मैग्नेशियम) आदि तत्व पाए जाते हैं।

कटहल क्या है? (What is Jackfruit in Hindi?)

कटहल एक ऐसा फल है जो आकार में सबसे बड़ा होता है। फणस फल ( मीठा कटहल) हजम करने में मुश्किल, शक्ति प्रदान करने वाला, शुक्राणु (स्पर्म) की संख्या बढ़ाने वाला और कफ और वातपित्त को कम करने के साथ जलन कम करने में भी फायदेमंद होता है। कच्चा कटहल मीठा होता है।कटहल को हजम (पचना) करना मुश्किल होता है, जिससे यह वजन कम करने में मदद करता है।

कटहल की जड़ घाव को ठीक करने में सहायक होती है। कच्चा कटहल का फल मीठा होने के बावजूद इसका फूल कड़वा होता है। पका हुआ कटहल खाने में स्वादिष्ट होता है। यह शरीर का वजन बढ़ाने वाला, शक्तिवर्द्धक, देरी से पचने वाला, शुक्राणु (स्पर्म) बढ़ाने वाला और कफ पित्त कम करने में लाभदायक होता है। कटहल के बीज को एस्ट्रीजेंट प्रकृति वाला, शीतल, मधुर और कफ पित्त को ठीक करने वाला माना गया है

कटहल के अन्य भाषाओं में विभिन्न नाम (Different Names of Jackfruit in Other Languages in Hindi) :

  • कटहल Moraceae (मोरेसी) कुल का है। कटहल का वानस्पतिक नाम Artocarpus heterophyllus Lam.  (आर्टोकार्पस् हेटेरोफाइलस्) Syn-Artocarpus maximus Blanco है। कटहल को अंग्रेज़ी में Jackfruit (जैकफ्रूट) कहा जाता है। भिन्न-भिन्न भाषाओं में कटहल का नाम अलग है, जैसे-
  • Sanskrit (संस्कृत)– पनस
    • कण्टकिल
    • अतिबृहत्फल
    • आमाशयफल
    • स्कन्धफल
    • महासर्ज
  • Hindi (हिंदी) – कटहर
    • कटहल
    • कठैल
  • Assamese (असम) – कान्थल (Kanthal)
  • Urdu (उर्दू) – कटहल (Kathal)
  • Oriya (ओरिया) – मनस (Manas)
    • पोनसो (Ponaso)
  • Konkani (कोंकणी) – पोन्नोसं (Ponnossam)
  • Kannada (कन्नड़ा) – हलसु (Halasu)
  • Gujrati (गुजराती) – फनस (Fanas)
    • मनफनस (Manfanas)
  • Tamil (तमिल) – मटुकमारम (Matukamaram)
    • पलमपला (Palampala)
  • Telugu (तेलुगु) – पनसकायि (Panaskai)
    • बेरूपनस (Berupanas)
  • Bengali (बंगाली) –  कांटाल (Kaantal)
    • कटहल (Kathal)
  • Nepali (नेपाली) – रुख कटहर (Rukh kathar)
  • Marathi (मराठी) - फणस (Fanas)
    • मनफनस (Manfanas)
  • Malayalam (मलयालम) – चक्का (Chakka)
    • पिलावु (Pilawu)।
  • English (इंग्लिश) – जैकफ्रूट ट्री (Jackfruit tree)
  • Persian (पर्शियन) – चाकेय (Chakye)

कटहल के बीज के फायदे और नुकसान (Jackfruit Seeds Benefits and Harms in Hindi)

कटहल की सब्जी एक ऐसी सब्जी होती है, जो शाकाहारी होती है कुछ लोगों में बहुत मतभेद होता है की यह मांसाहारी है। लेकिन इसके अन-गिनत पोषक तत्वों के कारण कटहल के फायदे भी अन-गिनत हैं। आयुर्वेद के अनुसार कटहल बीमारियों के लिए औषधि के रूप में काम करता है-

  1. सिरदर्द में राहत दिलाता है
  2. नकसीर (नाक से खून निकलना) को रोकने में सहायक
  3. भूख बढ़ाने में करे मदद करता है
  4. अतिसार या दस्त रोकने में उपयोगी
  5. विसूचिका रोग और हैजा रोग को रोकने में मददगार होता है
  6. दर्द से आराम दिलाता है
  7. लिम्फडानाइटिस या लिम्फ नोड्स का सूजन कम करने में फायदेमंद होता है
  8. खुजली से राहत दिलाने में उपयोगी
  9. फोड़े सूखाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है
  10. त्वचा रोग (डर्माटाइटिस) में लाभकारी
  11. सूजन कम करने में फायदेमंद
  12. अपस्मार या मिर्गी में लाभदायक
  13. गठिये के दर्द से आराम दिलाता है
  14. कमजोरी दूर करता है
  15. एनीमिया दूर करने में सहायक होता है
  16. अस्‍थमा नियंत्रण करने में सक्षम होता है
  17. थायराइड में फायदेमंद होता है
  18. हड्डियों के लिए फायदेमंद होता है
  19. प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए उपयोगी होता है
  20. आँखों के लिए गुणकारी होता है
  21. वजन कम करने में कटहल के बीज के फायदेमंद होता है
  22. कटहल का सेवन कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है
  23. कटहल में पाया जाने वाला पोटैशियम हृदय से जुड़ी बीमारियों से सुरक्षित रखता है
  24. उच्च रक्तचाप के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होता है
  25. ये आयरन का एक अच्छा उदाहरण है जिससे एनीमिया से बचाव होता है, इसके प्रयोग से रक्तगति भी नियंत्रित रहती है
  26. अस्थमा के इलाज में भी एक कारगर औषधि की तरह काम करता है
  27. इसमें पाए जाने वाले कई खनिज हार्मोन्स को नियंत्रित करते हैं
  28. कटहल में मैग्नीशियम पर्याप्त मात्रा में होता है, जिससे हड्डियां स्वस्थ और मजबूत रहती हैं
  29. कटहल में पाए जाने वाले Vitamin C (विटामिन सी) रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाये रखते हैं
  30. कटहल में भरपूर रेशे होते हैं जो पाचन क्रिया को बेहतर बनाए रखते हैं

कटहल के उपयोगी भाग (Useful Parts of Jackfruit in Hindi) :

आयुर्वेद में Jack fruit के फल, बीज,पत्ता, तना और छाल का औषधि के रुप में इस्तेमाल किया जाता है। 

यह भी पढ़े :

कटहल के नुकसान (Disadvantages of Jackfruit in Hindi) :

  • Jack fruit के फल का अधिक मात्रा में उपयोग नहीं करना चाहिए।
  • इसका अत्यधिक मात्रा में प्रयोग करने से अपच की समस्या हो सकती है।
  • खाली पेट Jack fruit का सेवन कभी नहीं करना चाहिए।
  • Jack fruit के उपयोग के बाद पान खाने से शरीर में विष जैसा प्रभाव पड़ता है।
  • Jack fruit का फल कब्ज दूर करने में सहायता करता है। इसलिए इसका सेवन उचित मात्रा में करना चाहिए।
  • मधुमेह की आशंका हो सकती है।
  • एलर्जी हो सकती है
  • इसके अधिक प्रयोग से डायरिया हो सकता है