Categories: NewsSocial Media
| On 1 year ago

Janata Curfew: A way to break the Corona's chain.

जनता कर्फ्यू : कोरोना की चेन को ब्रेक करने का एक तरीका।

नई दिल्ली, 19 जून। रविवार 22 मार्च 2020 को आने वाला है। इस दिन रविवार को सुबह 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक सम्पूर्ण राष्ट्र में एक कर्फ्यू रखा जा रहा है। यह कर्फ्यू भारत के प्रधानमंत्री के आव्हान पर रखा जा रहा है जिसे जनता के लिए जनता द्वारा रखा गया कर्फ्यू कहा जा रहा है।

इस कर्फ्यू का सबसे बड़ा फायदा यह मिल सकता है कि एक तो वायरस की जो चेन बन रही है वह टूट जाएगी। जब सारा भारत जहाँ पर है अगर वही पर ठहर जाएगा तो "वायरस स्प्रेड" की रेट एकदम कम हो जाएगी तथा वायरस ट्रेवल नही कर सकने के कारण "ओटो डेमेज" हो जाएगा। दूसरा यह एक बड़ा लेसन बन कर उभरेगा की हमको "वायरस अटैक" को फेस करने के लिए किस प्रकार कुछ समय के आइसोलेशन में रहना है।

ये बाते आपको फिल्मी लग सकती है लेकिन हमें इस फिल्मी बात को वास्तविक बनाना ही होगा ताकि हम वास्तविक जिंदगी की इस जंग को जीत सके। इस जनता कर्फ्यू या "सेल्फ लॉकडाउन" को अपनाना ही पड़ेगा। आप जितना इसे आसान समझ रहे है उतना आसान यह है नही लेकिन अगर हम सभी "जनता कर्फ्यू" की एडवाइज को समझ कर सफल बना देंगे तो मान कर चलिए कि 22 मार्च हमारा इस जंग में प्रथम बड़ा स्टेप उठा लेंगे ।

आज की हकीकत सिर्फ इतनी ही है कि हमको ज्यादा ज्ञान एकत्र करने की आवश्यकता नही बल्कि सरकार द्वारा जारी हर एडवाइजरी को 100 फीसदी मान लेने की आवश्यकता है। हम सभी मेडिकल की बारीकियां समझ नही सकते एवम इतनी आवश्यकता भी नही है। सरकार एडवाइज जारी करने से पहले बहुत रिसर्च करती है अतः हमको सरकारी एडवाइज पर फोकस करना है।

राजस्थान सरकार ने पूर्ण गम्भीरता पूर्ण प्रयास करते हुए एडवाइज जारी की है कि आम नागरिक यथासम्भव घर पर रहे अतः हमको बिना काम बाहर नही निकलना चाहिए। सरकार ने यह भी एडवाइज किया है कि हम कुछ दिनों तक हाथ को भली प्रकार बार बार साबुन से क्लीन करे, मास्क यूज़ करे, भीड़ से बचे, लोगो से डिस्टेंस रख कर बात करे, बीमारी को छुपाए नही, आवश्यक होने पर तुरन्त मेडिकल एडवाइज लेवे,  घर से बाहर  अनावश्यक मूवमेंट नही करें, ठण्डा सेवन नही करें, गर्म पानी लेवे, ट्रेवल से बचे, सोशल गेदरिंग अवॉयड करे, प्रोग्राम - फ़ंक्शन टाल दे, इत्यादि तो हमको यह सारे कार्य अनिवार्य रूप से करने शुरू कर देने चाहिए।

इन सबके साथ ही यह एक अवसर है जब हम सब मिककर डिसिप्लिन शो करे। जीवन मे भी व सोशल मीडिया पर भी। अनावश्यक खबरे, अनाधिकृत सन्देश, बेहूदा मजाक, बिना सर-पैर के इलाज, बिना पुख्ता जानकारी की सलाहों की अपेक्षा डब्ल्यूएचओ की एडवाइजरी, विभिन्न सरकारों द्वारा एडवाइजरी (केंद्र, राज्य व स्थानीय) को आगे प्रसारित व फॉलो करें।

खैर। बात बहुत लंबी नही करके फिलहाल इतनी ही है कि हम जनता कर्फ्यू को सफल बनायें व सरकार द्वारा जारी समस्त एडवाइज को पूरी तरह माने।