किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi)

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना : किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (केवीपीवाई) विज्ञान स्ट्रीम में स्नातक और मास्टर डिग्री करने वाले छात्रों के लिए एक अवसर है। चयनित उम्मीदवारों को प्रति माह INR 7,000 तक की छात्रवृत्ति और एक आकस्मिक अनुदान (प्रति वर्ष चार महीने की फेलोशिप के बराबर) प्राप्त होगा।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा शुरू की गई एक योजना है। KVPY योजना पहली बार वर्ष 1999 में शुरू की गई थी। इस योजना के पीछे सरकार का उद्देश्य विज्ञान स्ट्रीम के प्रतिभाशाली और प्रेरित छात्रों को अनुसंधान में अपना करियर बनाने के लिए पहचानना और प्रोत्साहित करना है।

यह योजना भारत सरकार और विज्ञान एवं तकनीकी संस्था ने मिलकर उन छात्रों के लिए बनाई है। जिन छात्रों का विज्ञान के प्रति झुकाव या रूचि है इस योजना का मकसद विज्ञान में रुचि रखने वाले विद्यार्थियों को प्रेरित कर उन्हें विज्ञान का ज्ञान प्राप्त करने का मौका प्रदान और प्रोत्साहित भी करती है।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना में तकनीकी विभाग व केंद्र सरकार उन छात्र-छात्राओं का पहचान कर या फिर उनकी प्रतिभा को जानकर उनको विज्ञान के प्रति और प्रेरित करना जिससे वह अपनी करियर शोधविज्ञान में बना सकें।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य (Objective Of Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi) :

• विज्ञान के क्षेत्र में रुचि रखने वाले उन छात्र-छात्राओं की पहचान करना और उनको विज्ञान के क्षेत्र में अपने करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करना।

• उन छात्र-छात्राओं को विज्ञान में रुचि रखते हैं उनका आत्मविश्वास बढ़ाना जिससे वह विज्ञान रिसर्च तथा विकास के क्षेत्र की तरफ अपना कदम बढ़ा सकें।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के मुख्य बिंदु (Key Highilights Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi) :

योजना का नाम : किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना
योजना कब शुरू की गयी :1999
योजना किसके द्वारा शुरू की गयी : केंद्र सरकार द्वारा
योजना का उद्देश्य :विज्ञान वर्ग छात्रों को प्रोत्साहित करना
योजना की अधिकारिक पोर्टल : यहां क्लिक करें

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के फायदे (Benefit Of Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi) :

• इस योजना में चुने गए छात्र-छात्राओं को केंद्र सरकार के द्वारा पीएचडी के स्तर पर या 5 साल की फ़ेलोशिप एवं कांटिन्जेंसी दी जाएगी।

• इस योजना को भारत सरकार और तकनीकी विभाग के द्वारा 1999 में शुरू किया गया था जिससे जो विद्यार्थी बेसिक विज्ञान की पढ़ाई कर रहे हैं या फिर उन्हें विज्ञान के प्रति रुचि है या फिर वह अपना करियर रिसर्च में बनाना चाहते हैं तो इस योजना के तहत सरकार उनको मदद प्रदान करती है।

• इस योजना में जो छात्र छात्राओं चुने जाते हैं उन्हें प्रतिष्ठित रिसर्च और तकनीकी संस्थानों में समर कैंप में जाने का मौका मिलता है।

Also Read :

Mahatma Gandhi Adarsh Gram Yojana (महात्मा गांधी आदर्श ग्राम योजना)
Rajiv Gandhi Jal Sanchay Yojana (राजीव गांधी जल संचय योजना)
Mukhyamantri Yuva Sambal Yojana (राजस्थान मुख्यमंत्री युवा सम्बल योजना)
राजस्‍थान स्वजल योजना (Rajasthan Swajal Yojana)
Indira Gandhi Matritva Poshan Yojana: (इंदिरा गांधी मातृत्व पोषण योजना 2021)

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना की योग्यताएं (Eligibility Of Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi) :

  • • जिन विद्यार्थियों ने अपने 10वीं कक्षा के बाद 11वीं कक्षा में विज्ञान को अपना विषय चुना है तथा दसवीं कक्षा में उनके गणित व विज्ञान के अंक 75% प्राप्त किए थे (एसटी / एससी / पीडब्लूडी के लिए 65% अंक) वह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • • जो विद्यार्थी 12वीं कक्षा में है उनको फैलोशिप के लिए अपने बारहवीं कक्षा के बोर्ड में विज्ञान तथा गणित विषय में 60%(एसटी / एससी / पीडब्लूडी के लिए 50% ) तक अंक होना आवश्यक है।
  • • जिन विद्यार्थियों ने अपना अंडर ग्रेजुएशन बेसिक साइंस के अंदर पूर्ण किया है वह विद्यार्थी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको 12वीं कक्षा में विज्ञान तथा गणित के विषय में 60%(एसटी / एससी / पीडब्लूडी के लिए 50% ) अंक की आवश्यकता होगी।
  • गणित और विज्ञान विषयों में कुल मिलाकर 75% (एससी / एसटी /
    पीडब्ल्यूडी के लिए 65%) अंकों के साथ 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण आवेदक और 11 वीं कक्षा में प्रवेश लेने वाले आवेदक एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। फेलोशिप के हकदार तभी होंगे जब वे B.Sc./ B.S./ B.Stat./ B.Math./ Int में प्रवेश लेंगे। एमएससी / इंट। एमएस। विज्ञान विषयों से 12वीं बोर्ड परीक्षा में 60% (एससी/एसटी/पीडब्ल्यूडी के लिए 50%) अंक हासिल करने के बाद।
  • आवेदक जो भौतिकी / रसायन विज्ञान / गणित और जीव विज्ञान विषय के साथ 12 वीं कक्षा में हैं, जो B.Sc./ B.S./ B.Stat./ B.Math./ Int. एमएससी / इंट। एमएस। पाठ्यक्रम भी योग्यता परीक्षा के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। सशर्त रूप से आवेदक को 10 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में गणित और विज्ञान विषयों में कुल मिलाकर 75% (एससी / एसटी / पीडब्ल्यूडी के लिए 65%) अंक प्राप्त करने होंगे। फेलोशिप तभी मिलेगी जब वे B.Sc./ B.S./ B.Stat./ B.Math./ Int में प्रवेश लेंगे। एमएससी / इंट। एमएस। 12 वीं बोर्ड परीक्षा में 60% (एससी / एसटी / पीडब्ल्यूडी के लिए 50%) अंक हासिल करने के बाद।
  • जो छात्र B.Sc./ B.S./ B.Stat./ B.Math./ Int में प्रथम वर्ष में हैं। एमएससी / इंट। एमएस। और 12वीं बोर्ड परीक्षा में 60% (अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/पीडब्ल्यूडी के लिए 50%) अंक हासिल करने के लिए भी आवेदन करने के पात्र हैं।
  • आवेदक एक पीडब्ल्यूडी / एससी / एसटी उम्मीदवार होना चाहिए।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के दस्तावेज(Document for Kishore Vaigyanik Protsahan Yojana in Hindi) :

• आवासीय प्रमाण पत्र : इस योजना में दाखिल होने के लिए आपको भारत का नागरिक होना अति आवश्यक है इसके लिए आप अपना जन्म प्रमाण पत्र का भी उपयोग कर सकते हैं।

• पासपोर्ट साइज फोटो : इस योजना में दाखिल होने के लिए आपको पासपोर्ट साइज फोटो की आवश्यकता होगी।

• जाति प्रमाण पत्र : इस योजना में दाखिल होने के लिए जाति प्रमाण पत्र होना आवश्यक है जो हमने योग्यता में हमें आपको बताया है।

• 10वीं व 12वीं कक्षा की मार्कशीट : इस योजना में दाखिल होने के लिए आपको 10वीं व 12वीं की अंकतालिका की आवश्यकता पड़ेगी।