Categories: Articles
| On 3 years ago

Laddu: MohanJi Mithai Wala, Jodhpur, Rajasthan

लडडू: मोहनजी के लडडू नही खाये तो क्या खाया? जोधपुर।

लड्डू: सनातन मिठाई

सनातन समय से कुछ मिठाइयों का प्रचलन समाज में रहा है। पुराने ग्रन्थों में भी खीर-पूड़ी, लडडू, लपसी, हलुआ , जलेबी इत्यादि का बहुधा जिक्र होता है। स्थानीय सामग्री उपलब्धि के आधार पर हर प्रदेश की अपनी पसंदीदा मिठाइयां रही है लेकिन लडडू पूरे भारत व एशिया में सर्वकालिक रहा है।

मोदक :गणेशजी को प्रिय

भारत मे देवी-देवताओं का पूजन व खुशियों की अभिव्यक्ति मिष्ठान वितरण से की जाती है। सर्वप्रथम आराध्य गणेशजी को भी मोदक के लड्डू प्रिय है। पुत्र जन्म पर लड्डू व पुत्री जन्म पर जलेबी वितरण की भी परम्परा है।

खण्डों व खावनखण्डों का शहर

पूरे भारत मे जब मिठाइयों की बात चलती है तो भोजन के प्रति दीवानगी व मिठाइयों के प्रकार व क्वालिटी के मामले में जोधपुर अव्वल नम्बर पर आता है। अपणायत के

लिए इस शहर के लिए कहावत मशहूर है कि " जोधपुर के खण्डों (पत्थर) व खावणखण्डों (भोजन के शौकीन) का मुकाबला नही हैं"।

लड्डू: मोहनजी मिठाईवाला

जोधपुर में एक कहावत सी बन गयी है कि "मोहन जी के लड्डू नही खाये, तो क्या खाया?" शुद्ध देशी घी, बेसन व शक्कर से निर्मित मोहनजी के लड्डुओं का कोई मुकाबला ही नही है। एक बार जो इनको चख ले वो इनका फैन हो जाता है।

त्यौहार के सीजन में मोहनजी के लड्डुओं की मांग खास तौर पर बढ़ जाती है।

कुछ भक्त नियमित रूप से यहाँ के लड्डडुओ का प्रसाद अपने इष्ट देवता को अर्पित करते है।

आप जब भी जोधपुर आये तो यहाँ के गरमागरम मिर्चिबड़ा औऱ मोहनजी के लड्डडुओ का आनंद जरूर उठाएं। मोहनजी मिठाईवाला की दुकान जोधपुर शहर के आड़ा बाजार में स्थित है। दुकान का फोन नम्बर 0291- 2445731 है।