Categories: Super Teacher
| On 1 year ago

Lalita Dave: A prominent activist of the Janashala program.

ललिता दवे : जनशाला कार्यक्रम की एक प्रमुख कार्यकर्ता ।

सन्दर्भ: सेवानिवृत्त 30-11-2019

सूर्यनगरी जोधपुर शिक्षा क्षेत्र में ऐतिहासिक रूप से आगे रही है। स्वतंत्रता से पूर्व सर प्रताप ने मारवाड़ राज्य के शैक्षिक विकास हेतु उल्लेखनीय कार्य किया था। आजादी के पश्चात अनेक शिक्षको ने भागीरथी प्रयास किये उनमें से एक है "श्रीमती ललिता दवे"।

विभाग में एक जोड़ी थी जो अब रिटायर हो गई है। ललिता जी,

मधुबाला जी पुरोहित व बीना जी बालानी। इन तीनों की कुछ शिक्षिका छोटी बहने भी इनके साथ थी।

इन तीनों ने मिलकर 2001 से 2004 तक विभाग की एक अत्यंत महत्वपूर्ण योजना "जनशाला कार्यक्रम" में जबरदस्त कार्य किया। जनशाला कार्यक्रम राज्य का पहला ऐसा कार्यक्रम था जिसमे शिक्षा के सार्वजनीकरण व गुणवत्तापूर्ण सुधार हेतु शहरी कच्ची बस्तियों में आरम्भ किया गया था।

अपनी सहज प्रवर्ति के कारण इन तीनो ने शिक्षक प्रशिक्षण में रिकॉर्ड वर्क किया। टीएलएम का गजब विस्तार किया। हरिराम की बगेची की क्वीनी राय मैडम, प्रतापनगर स्कूल की रीना जोशी-मीना जांगिड़ मैडम इत्यादि ने जबरदस्त काम किया।

आज का दिन सिर्फ ललिता जी

की बात करूँगा। ललिता जी अत्यंत सौम्य, समर्पित व स्नेहमयी शिक्षिका है। आपने बच्चों के साथ बच्चे बन कर समझदारों के साथ समझदार होकर जीवन मे शिक्षक का कार्य किया।

ये मेरी बड़ी बहन की भूमिका में रही। जब भी कोई काम बताओ ये तुरन्त सहमति देती। एक बार मुझे तीन शिक्षकों को राजकीय कार्य हेतु मध्यप्रदेश भेजना था। उस दौर में महिलाओं हेतु बड़ा मुश्किल था कि घर के कार्य से मुक्त होकर 10 दिनों के लिए बाहर निकले लेकिन ललिता जी निकली।

शिक्षक प्रशिक्षण कार्य के समय मुझे नए ट्रेनर चयनित करके उनके माध्यम से शिक्षक साथियों को प्रशिक्षण में सहयोग करना था। आप विश्वास कीजिये

कि ट्रेनिंग निर्धारित समय पर शुरु होकर निर्धारित समय से बाद तक चलती। इस ट्रेनिंग प्रोग्राम्स को बेहतरीन बनाने में ललिता जी पूर्ण मेहनत करती थी।

मैं इनका बहुत आभारी रहूँगा की इन्होंने सदैव विभाग की दिल से सेवा की व हजारों बच्चों को जीने की राह बताई। मैं इनके स्वस्थ व सुखी जीवन के साथ इनके परिवार की समृद्धि की कामना करता हूँ।
सादर।