LLB Full Form in Hindi | एलएलबी का फुल फॉर्म क्या है – Shivira

LLB Full Form in Hindi
LLB Full Form in Hindi | एलएलबी का फुल फॉर्म क्या है

LLB का फुल फॉर्म हिंदी में। (LLB Full Form in Hindi), Bachelor of Laws (कानून स्नातक) होता है | इस पढाई में आपको कानून कैसे काम करता है, इस बारे में बताया जाता है। LLB करने के बाद वकील जैसे व्यवसाय में आप जा सकते हो और किसी निर्दोष की जान बचा सकते हो। बहुत बार ऐसा होता है की किसी निर्दोष को गलत इलज़ाम में फसाकर जेल में डाल दिया जाता है ऐसे स्थिति में उनके पास एक ही उपाय बचता है। किसी अच्छे वकील की मदद लेना | वकील होना भी अपने आप में एक गौरव की बात है क्यूंकि आप दुसरे लोगो की मदद करते हो जब उस निर्दोष की मदद के लिए कोई आगे नही आता।

LLB Full Form in Hindi | एलएलबी से जुडी विशेष जानकारियां।

  • अब तक आपने जान लिया है एलएलबी की फुल फॉर्म LLB Full Form in Hindi के बारे में, अब जानते है एलएलबी से जुडी विशेष जानकारी (LLB Special Information in Hindi) के बारे में।
  • LLB को एक Undergraduate Law Degree के कहा जाता है। इस पाठ्यक्रम को पूरा करने के बाद छात्र LLM (Master of Laws) जैसे स्नातकोत्तर विधि पाठ्यक्रम में admission ले सकते है। LLB degree को कानून और law से जुडी हुई educational degree के रूप में भी जाना जाता है. LLB courses करने के दौरान students को law और कानून की पूरी जानकारी बहुत ही deeply तरह से दी जाती है. इस degree को पूरा करने के बाद आप वकील (Lawyer) बन जाते है और फिर आप court में मुकदमे भी लड़ सकते है।
  • LLB करने के बाद छात्र कानून और नियमो के बारे में समझने लगता हैं. इसके बाद छात्र एक वकील या फिर उससे बढ़कर काफी कुछ बन सकता हैं और अपनी काबिलियत और समझदारी के अनुसार अछि नौकरी प्राप्त कर सकता हैं.
  • LLB के कोर्स 2 तरह के होते हैं जिनमे से पहला 3 साल का होता हैं और दूसरा 5 साल का होता हैं. 3 साल के एलएलबी कोर्स को ग्रेजुएट होने के बाद ही किया जा सकता है जबकि 5 साल के एलएलबी कोर्स को 12वीं पास करने जे बाद से शुरू किया जा सकता हैं.
  • LLB में एडमिशन लेना आसान हैं. अगर आप 12वीं के बाद LLB करना चाहते हो तो उसके लिए आपको 12वीं कक्षा में 50% या फिर इससे अधिक अंको से उत्तीर्ण होना होगा. दीक्षांत समारोह (Graduation )के बाद एलएलबी करने के लिए भी आपके Collage Marks 50% या फिर इससे ऊपर होने चाहिए.
  • Law की बड़ी और प्रोफेशनल Universities में एडमिशन लेने के लिए आपको CLAT, LSAT और AILET जैसे Entrance Exams क्लीयर करने होते हैं. LLB करने के बाद आपके पास वकील बनने के अलावा Legal Advisor, Judge बनने की Preparation, पीएचडी करके किसी कॉलेज में लेक्चरर बनने जैसे कई ऑप्शन रहते हैं.

LLB Full Form in Hindi | How to Become a Lawyer After LLB? | एलएलबी के बाद वकील कैसे बनें?

  • अब तक आपने जान लिया है एलएलबी की फुल फॉर्म (LLB full form in Hindi) के बारे में, अब जानते है एलएलबी के बाद वकील कैसे बने (How to become a lawyer after LLB) के बारे में।
  • आप एलएलबी के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते है। बस आपको सही मार्गदर्शन और मेहनत करने की जरुरत है। Advocate बनने और इसकी पढ़ाई करने के लिए आपको इसकी पूरी तरह से जानकारी होना चाहिए। अगर आप समाज की सेवा करना चाहते है तो LLB Course आपके लिए एक अच्छा विकल्प है। वकील बनने पर हमें सम्मान भी मिलता है और हम किसी निर्दोष के पक्ष में लड़कर उसे भी बचा सकते है।
  • LLB एक बैचलर डिग्री होती है जो भारत के कई प्रसिद्ध कॉलेजों द्वारा उम्मीदवारों को दी जाती है। हालांकि, उम्मीदवार इस लॉ कोर्स को केवल तभी आगे बढ़ा सकते है, जब उनके पास स्नातक (ग्रेजुएशन) की डिग्री हो। भारत के सभी लॉ कॉलेजों में एलएलबी कोर्स की पेशकश बार काउंसिल ऑफ इंडिया (BCI) द्वारा क्रमबद्ध तरीके से की जाती है।
  • Law की पढ़ाई करने के लिए 12वीं पास होना जरुरी है। आप किसी भी विषय में 12वीं कर सकते है। यदि आप आर्ट्स (Arts) पढ़ते है तो आपके लिए यह अच्छा होगा, क्योंकि इस विषय में बहुत कुछ Law के बारे में भी पढ़ाया जाता है। इसके बाद आपको सरकार वकिल परीक्षा देना होती है। मतलब आपको 12वीं के बाद वकील बनने के लिए CLAT 2019 प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam) देना होगी।
  • भारत में LLB Entrance Exam CLAT (Common Law Admission Test) का आयोजन NLU (नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी) और संस्थानों में प्रवेश के लिए किया जाता है। इस परीक्षा में पास होने के बाद आप लॉ कॉलेज में प्रवेश ले सकते है, जो पूरे पांच साल का कोर्स होता है। इस प्रवेश परीक्षा में एक Common Test होता है। जिसमें आपसे अंग्रेजी में, लॉजिकल रीजनिंग, लीगल एप्टीट्यूड, मैथ्स और जनरल अवेयरनेस के प्रश्न पूछे जाते है।
  • CLAT परीक्षा देने के लिए आपकी 12वीं कक्षा कम से कम 50% अंकों के साथ होना अनिवार्य है तथा आपकी उम्र 20 वर्ष से ज्यादा नहीं होना चाहिए। लॉ की पढ़ाई करने के बाद अब आपको इंटर्नशिप (Internship) करना होगा। इसके दौरान आपको कोर्ट के बारे में सब कुछ सिखाया जाता है। जैसे- किस तरह से दो वकील आपस में केस लड़ते है किसी पक्ष के लिए।
  • इंटर्नशिप करने के बाद अब आपको State Bar Council में नामांकन (Enroll) करना होता है। नामांकन करने के बाद आपको All India Bar Examination को Clear करना होता है। जो Bar Council Of India के द्वारा आयोजित किया जाता है। इसे Clear करने के बाद आपको Practice का Certificate मिलता है। इस तरह से आपकी LLB की पढ़ाई पूरी हो जाती है।

यह भी पढ़े –

IAS Full Form in Hindi | आईएएस का फुल फॉर्म क्या है?

NRC Full Form in Hindi | NRC का फुल फॉर्म क्या है?

NEFT Full Form in Hindi | नेफ्ट का फुल फॉर्म क्या है ?

NEET Full Form in Hindi | नीट का फुल फॉर्म क्या है?

KYC Full Form in Hindi | केवाईसी का फुल फॉर्म क्या है ?

GDP Full Form in Hindi | जीडीपी का फुल फॉर्म क्या है?

ICU Full Form in Hindi | आईसीयू का फुल फॉर्म क्या है ?

DNA Full Form in Hindi | DNA का फुल फॉर्म क्या है?

CEO Full Form in Hindi | सीईओ की फुल फॉर्म क्या होती है?

URL Full Form in Hindi | यूआरएल का फुल फॉर्म क्या है?

LLB Full Form in Hindi | Major LLB Courses | प्रमुख एलएलबी कोर्सेज एवम उनकी जानकारी।

LLB Full Form in Hindi | एलएलबी का फुल फॉर्म क्या है?

1. क्रिमिनल लॉ: यह सबको पढ़ना पड़ता है। इसके अध्ययन से ही क्राइम्स और उसके प्रति कानून और प्रावधान की जानकारी मिलती है।

2. कॉरपोरेट लॉ : इसके अंतर्गत कॉरपोरेट और बिज़नेस वर्ल्ड में होने वाली व्यावसायिक समस्याओं और अपराधों को रोकने तथा फाइनेंस प्रोजेक्ट, टैक्स लाइसेंस और ज्वॉइंट स्टॉक से संबंधित काम और कानून की जानकारी होती हैं।

3. बौद्धिक सम्पदा तथा पेटेंट कानून: इसके तहत बताया जाता है कि बौद्धिक सम्पदा और पेटेंट क्या होते हैं, उनसे जुड़े कानून आदि के बारे में बताया जाता है। किसी का आइडिया चुरा कर काम करना बौद्धिक सम्पदा कानून का उल्लंघन माना जाता है।

4. साइबर लॉ: कंप्यूटर जगत में नित नए ईज़ाद, सोशल नेटवर्किंग, नेट बैंकिंग, ऑनलाइन शॉपिंग वगैरह से साइबर क्षेत्र में क्राइम का दायरा बढ़ा है। इस कानून के तहत साइबर क्राइम से जुड़े मुद्दों पर कानून जानकारी देता है कि उनसे कैसे निपटा जाये और उनके लिए सजा का क्या प्रावधान है।

5. फैमिली लॉ: यह महिलाओं के लिए उपयुक्त और पसंदीदा क्षेत्र है। इसके तहत तलाक, गोद लेने, पर्सनल लॉ, शादी, गार्जियनशिप एवं अन्य सभी पारिवारिक मामले आते हैं। पारिवारिक मामलों को उसी स्तर पर सुलझाने के लिए हर राज्य के सभी जिलों में फैमिली कोर्ट की स्थापना हैं।

6. बैंकिंग लॉ: बैंकिंग के तहत लोन, लोन रिकवरी, गिरवी आदि से संबंधित कानून और कार्यों का निपटारा कैसे किया जाए और उससे सम्बन्धित नियम और कानून का क्या प्रावधान है इसपर अध्ययन किया जाता है।

7. टैक्स लॉ: टेक्स लॉ के तहत सभी प्रकार के टैक्स जैसे सर्विस टैक्स, सेल टैक्स, इनकम टैक्स आदि से सम्बन्धित लॉ की जानकारी होती है।

LLB Full Form in Hindi | Salary of Lawyer | लॉयर की सैलरी कितनी होती है?

सरकारी वकील होना कोई सरकारी नौकरी नहीं होती हैं, बल्कि ये सरकार से किया गया एक एग्रीमेंट होता हैं जिसमें हर मुक़दमे की एक फीस निर्धारित होती हैं और इन मुकदमों को लड़ने के लिए ये वकील फीस लेते हैं | सामान्यत: यह एग्रीमेंट 3 वर्ष का होता हैं।

LLB Full Form in Hindi | LLB Eligibility Criteria | एलएलबी के लिये योग्यता।

वकील बनने के लिए या इसकी पढ़ाई करने के लिए आपके पास यह एलएलबी पात्रता होनी चाहिए तभी आप इसकी पढ़ाई कर सकते है। आइये जानते है LLB के लिये योग्यता क्या होना चाहिए है।

  • अगर आप 12वीं के बाद LLB की पढ़ाई करना चाहते है तो आपका 12वीं पास होना बहुत जरूरी है, जो पांच साल की होती है।
  • यदि आप 12वीं के बाद LLB कर रहे है तो 12वीं में आपके 50% होना चाहिए।
  • आप ग्रेजुएशन के बाद भी Law कर सकते है जो 3 साल का होता है।
  • ग्रेजुएशन में कम से कम 50% अंक होना चाहिए

एलएलबी के लिए आयु सीमा (Age Limit )

एलएलबी के लिए अधिकतम आयु सीमा को अब समाप्त कर दिया है। पहले सभी लॉ यूनिवर्सिटी अधिकतम उम्र 20 वर्ष थी, जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट द्वारा समाप्त कर दिया दिया गया, ताकि अधिक से अधिक लोग इस क्षेत्र में आ सके

एलएलबी की फीस (LLB Course fee )

एलएलबी करने के लिए फीस कोई निश्चित नही है। अथार्थ यह कॉलेज to कॉलेज निर्भर करता है। इसके अलावा सभी केंद्रीय सरकारी कॉलेजों में फीस समान होती है और सभी राज्य स्तरीय कॉलेजों में फिर उस राज्य पर निर्भर करती है।

एलएलबी प्रवेश परीक्षा (LLB Admission Process )

एलएलबी में प्रवेश के लिए बहुत से कॉलेज एंट्रेंस टेस्ट लेते है। लॉ करने के लिए एंट्रेस टेस्ट को कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (CLAT) कहते है। कुछ प्राईवेट कॉलेज सीधे भी प्रवेश दे देते है। प्रवेश के लिए समय समय पर कॉलेजों की ऑफिसियल वेबसाइट को चेक करते रहना चाहिए।

एलएलबी करने के फायदे (Benefits of doing LLB)

एलएलबी उत्तीर्ण करने के बाद स्नातकोत्तर 2 वर्षीय एलएलएम मैं प्रवेश ले सकते हैं। एलएलबी पूरा करने के बाद युवा काउंसिल में पंजीकरण करवाकर देश के किसी भी अदालत में वकालत कर सकते हैं। कानून को समझना हर किसी के बस की बात नहीं होती पर इस कोर्स से हम कानून के बारे में अच्छी खासी समझ प्राप्त कर सकते हैं।

कई लोगों को लगता है की एलएलबी करने से एक ही करियर ऑप्शन होता है लेकिन वकील बनने के अलावा कई कैरियर ऑप्शन और होते हैं जैसे वकील भी कई प्रकार के होते हैं। एक अच्छे विधि विशेषज्ञ को समाज में लोग समझदार व्यक्ति के रूप में मानेंगे और इससे आपकी आय में वृद्धि होगी।

वकील का आखिर काम क्या होता है और वकालत किस तरह की होती है ?

  • वकालत का क्षेत्र बहुत बड़ा है उधाहरण के तौर पर आप डॉक्टर को रख सकते है, नाम से सभी लोग उन्हें डॉक्टर समझते है लेकिन सभी डॉक्टर का अपना अपना स्पेशल एरिया होता है या किसी एक चीज़ में एक्सपर्ट होते है ठीक उसी तरह वकील का होता है ।
  • वकील के क्षेत्र की बात करे इनमें कई क्षेत्र है जिनमे से आप कोई एक चुन सकते है उसमें एक्सपर्ट बन सकते है जैसे कि Civil Law, Criminal Law, Income tax Law, Family Law, Constitutional Law, Common Law, administrative Law इत्यादि ।
  • एक वकील अपने क्लाइंट को कायदे कानून के अनुसार मार्ग दिखाते है, कानूनी पेपर तैयार करने से लेकर कोर्ट में अपने क्लाइंट के लिए बहस भी करते है । वकील को भारत के संविधान के अनुसार ही चलना होता है और संविधान में बताए गए नियमो के अनुसार ही अपने क्लाइंट की मदत करे ।

एलएलबी के बाद कि संभावनायें (Career opportunity After LLB)

  • LLB में स्नातक करने के बाद इसी क्षेत्र में और अधिक पढ़ने के लिए 2 वर्षीय एलएलएम पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया जा सकता है। इसके अलावा यदि आप अध्यापन करना चाहते है किसी कॉलेज में तो एलएलएम करने के बाद पीएचडी करके आप ऐसा कर सकते है।
  • इसके अलावा यदि आप प्रैक्टिस करना चाहते है तो आपको पहले युवा बार काउंसिल में पंजीकरण कराना पड़ेगा और उसके बाद आप किसी भी अदालत में पैरवी कर सकते है। पैरवी करने के लिए आप क्रिमिनल, रेवेन्यू या सिविल में से कोई भी क्षेत्र चुन सकते है।
  • इन सबके अलावा हर राज्य अपने स्तर पर न्याययिक सेवाओ के लिए परीक्ष आयोजित करवाता है,जिसे उतीर्ण कर आप जज बन सकते है। और आज के समय मे कॉरपोरेट सेक्टर के विकसित हो जाने से विधि विशेषज्ञ की मांग बहुत बढ़ गई है तो वहा भी कार्य किया जा सकता है।
  • इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए अंग्रेजी भाषा पर ध्यान दे। इस Field में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए आपकी अंग्रेजी अच्छी होना चाहिए, क्योंकि इसमें वकीलों के बात करने की क्षमता अच्छी होती है और कभी-कभी उन्हें अंग्रेजी भाषा का प्रयोग करना पड़ता है। और लोगों को अपनी बातों को समझाने की Practice करना चाहिए।
  • LLB करने के बाद आप LLM और PHD भी कर सकते है। और इसके बाद Judiciary (न्यायपालिका) की परीक्षा देकर जज बनने के लिए भी आवेदन कर सकते है। अब बहुराष्ट्रीय कंपनी अपने ज़रुरी काम को देखने के लिए अच्छे पैकेज पर अपने यहाँ वकील रखती है।
Scroll to Top