Categories: Astrology

दसवें भाव में मंगल का फल | स्वास्थ्य, करियर और धन | Mars in 10th House in Hindi

दसवें भाव में मंगल
दसवें भाव में मंगल

ज्योतिष में दसवें घर में मंगल एक ग्रह स्थिति है जो किसी भी अन्य ग्रह के उच्च बिंदु से अधिक है। यदि मंगल दसवें भाव में है जबकि अन्य ग्रह कमजोर हैं, तब भी जातक जीवन के सभी पहलुओं में जबरदस्त सफलता प्राप्त करेंगे क्योंकि सफल होने की इच्छा महान है। यह स्थिति सबसे अच्छा व्यापारिक भागीदार बनाती है, और जातक किसी भी क्षेत्र में सफल हो सकता है, चाहे वह कानून, राजनीति, कला, चिकित्सा, या व्यवसाय हो।

दसवां घर बाहरी दुनिया का प्रतिनिधि है क्योंकि यह चौथे घर के विपरीत है, जो घर और मातृभूमि का प्रतिनिधित्व करता है। यह मकर राशि का मूल घर है जिसका अर्थ है कि मंगल युद्ध के मैदान में उत्तरजीवी के रूप में यहां उत्कृष्ट प्रदर्शन करेगा।

यहां मंगल इच्छाशक्ति का प्रतीक है और एक क्रिया प्रधान ग्रह है। मंगल ऊर्जा, क्रिया, फिटनेस, स्वार्थ, आक्रामकता, नेतृत्व और प्रतिस्पर्धा का प्रतिनिधि है।

दसवें भाव में मंगल का महत्व और विशेषताएं :

  • दसवें भाव में मंगल जातक की क्रिया-उन्मुख स्थिति का प्रतिनिधि होता है। जातक वॉलीबॉल, बास्केटबॉल, क्रिकेट या फुटबॉल जैसे खेल और शारीरिक गतिविधियों में शामिल होगा। वह एक प्रसिद्ध मार्शल आर्टिस्ट भी हो सकते हैं।
  • दसवें भाव में मंगल के जातक में जबरदस्त इच्छाशक्ति होती है, जो उसे किसी भी गंभीर बीमारी या कठिनाइयों सहित किसी भी चीज से लड़ने में मदद करेगी। इस ग्रह की स्थिति
    में जातक को अत्यधिक कठिनाइयों, संघर्षों और उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ेगा क्योंकि दशम भाव में मंगल श्रेष्ठ है, और इसलिए इसे अन्य स्थानों की तुलना में अधिक परखा जाता है।
  • जातक को अपने जीवन में सच्ची कठिनाइयों, संघर्ष और शत्रुता का सामना करना पड़ेगा और सफलता और उत्थान के लिए प्रत्येक संघर्षरत कदम से गुजरना होगा। कॉर्पोरेट जगत में जातक एक कार्यकारी नेता या सरकारी एजेंसियों में एक आधिकारिक नेता भी हो सकता है।
  • हालाँकि, यदि मंगल को शनि द्वारा देखा जाता है, तो यह उसे सभी कठिनाइयों को दूर करके जल्दी सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा। जातक रासायनिक व्यवसाय में हो सकता है, अधिकृत व्यक्ति हो सकता है या पेट्रोलियम इंजीनियर हो सकता है। इसी तरह, जब मंगल वृश्चिक लग्न के साथ होता है, तो जातक तेल या खनन व्यवसाय में होगा, और वह प्रबंधकीय या कार्यकारी स्थिति में होगा।
  • जातक का अपने पिता के साथ स्नेही और सम्मानजनक संबंध होगा। जातक को अपने पिता से ज्ञान और शिक्षा की पेशकश की जाएगी, जो अपने कार्यस्थल में प्रबंधकीय पद पर भी होंगे।
दसवें भाव में मंगल

ज्योतिष में दसवां भाव क्या दर्शाता है?

दसवां भाव बाहरी दुनिया में आपकी छवि दिखाता है, जैसे आपके कार्यस्थल और समुदाय, क्योंकि यह 4 वें घर के विपरीत है जो आपके घर और आपके निजी जीवन का प्रतिनिधित्व करता है।

दसवां घर कामकाजी वर्षों का प्रतिनिधित्व करता है, जीवन का वह समय जब

कोई पूरी तरह से उत्पादक और करियर उन्मुख होता है। दसवां घर आजीविका के स्रोत का प्रतिनिधित्व करता है, जो हमारे द्वारा किया जाने वाला दैनिक कार्य है। यह सबसे सक्रिय घर है और आम तौर पर हमारे काम करने के तरीके से जुड़ा होता है और बाहरी दुनिया हमें कैसे लेबल करती है।

शारीरिक रूप से, 10 वां घर पैरों के दूसरे भाग, यानी घुटनों से मेल खाता है। मकर 10 वें घर से मेल खाता है।

ज्योतिष में मंगल क्या दर्शाता है?

मंगल एक सैनिक की तरह है जो अपने विश्वासों के लिए खड़ा है। यह आपकी कुंडली में जहां कहीं भी स्थित होता है, आप उन मान्यताओं के लिए खड़े होते हैं, और वहीं आपकी ऊर्जा जाती है। मंगल ऊर्जा है। यह आपकी इच्छाशक्ति और जीवन शक्ति है। मंगल किसी चीज के प्रति कार्रवाई करने की आपकी क्षमता का प्रतिनिधित्व करता है।

यह उस क्रोध का भी प्रतिनिधित्व करता है जो हम अपने भीतर रखते हैं, क्योंकि एक सैनिक को लड़ाई लड़ने और जीतने के लिए उसके भीतर एक निश्चित स्तर का क्रोध होना चाहिए। मंगल पुलिसकर्मियों, सैनिकों, एथलीटों, सरदारों, हथियारों के सौदागरों और लड़ाकों का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अलावा, मंगल दुर्घटनाओं, चोटों और विस्फोटकों से निपटने से भी संबंधित है।

ज्योतिष में मंगल ऊर्जा, मुखरता और कार्रवाई करने की क्षमता का प्रतिनिधित्व करता है। यह दर्शाता है कि कोई व्यक्ति विभिन्न स्तरों पर ऊर्जा का उपयोग

कैसे करता है। सामाजिक क्षेत्र में, मंगल उन रिश्तों का प्रतिनिधित्व करता है जो किसी की ताकत का परीक्षण करते हैं, जैसे कि प्रतिस्पर्धियों और दुश्मनों के संबंध। व्यक्तिगत कुंडली में मंगल की स्थिति व्यक्ति की ऊर्जा और महत्वाकांक्षा के स्तर का संकेत देगी।

ज्योतिष में दसवें भाव में मंगल में शुभ फल :

  • दसवें घर में मंगल बहुत शुभ माना जाता है क्योंकि यहां का मंगल बहुत मजबूत है।
  • एक अपने परिवार में प्रसिद्ध है।
  • जातक अपने पराक्रम, मेहनत की कमाई और स्थायी संपत्ति से परिवार का नाम रोशन करता है।
  • एक स्वस्थ, मजबूत और प्रबुद्ध होगा।
  • एक संतुष्ट, परोपकारी और उत्साही होगा।
  • कोई पुण्य कर्म करेगा।
  • एक परोपकारी, चतुर, सतर्क और लोगों द्वारा पूजे जाने वाला होता है।
  • कोई ध्यानी हो सकता है, एक अच्छा चरित्र हो सकता है, और अपने शिक्षक के प्रति समर्पित हो सकता है।
  • एक हमेशा सक्षम है।
  • न्यूनतम प्रयास से किसी का काम सफलतापूर्वक पूरा हो जाता है।
  • एक स्वनिर्मित है।
  • व्यक्ति को समाज में प्रसिद्धि और सम्मान की प्राप्ति होती है।
  • व्यक्ति बहुत धन अर्जित करेगा, सांसारिक सुख प्राप्त करेगा और आनंदमय जीवन व्यतीत करेगा।
  • एक के कई नौकर होंगे।
  • कोई अपनी मातृभूमि से बहुत दूर रह सकता है।
  • एक बहुत भाग्यशाली होगा।
  • किसी के उत्कृष्ट बच्चे होंगे, और वे उसके लिए खुशी लाएंगे।
  • कोई व्यवसाय में कुशल होगा।
  • कोई बैंक या एसोसिएशन चला सकता है।
  • अग्नि संबंधित कार्य या शस्त्र व्यवसाय से धन की प्राप्ति हो सकती है।
  • 26वें वर्ष से भाग्य अनुकूल होगा और 36वें वर्ष में स्थिरता आएगी।
  • किसी के भाई दीर्घायु होते हैं।
दसवें भाव में मंगल

ज्योतिष में दसवें भाव में मंगल में अशुभ फल :

  • कोई क्रूर, दुष्ट, चरित्रहीन और दसवें घर में मंगल के साथ निम्न वर्ग के लोगों की संगति में हो सकता है।
  • कोई क्रूर, दुष्ट, चरित्रहीन और निम्न-वर्ग के लोगों की संगति में हो सकता है।
  • व्यक्ति अहंकारी, अधीर और लालची होगा।
  • किसी के पास चोर का दिमाग और व्यवहार हो सकता है।
  • किसी के पास धन होगा, और वह खर्च होगा।
  • सुख-दुःख दोनों को प्राप्त होगा और स्थिरता का अभाव रहेगा।
  • कोई दत्तक पुत्र हो सकता है।
  • किसी का बेटा मर सकता है।
  • कोई प्रसिद्धि प्राप्त नहीं कर सकता है।

नोट: शुभ और अशुभता की डिग्री कुंडली (जन्म-चार्ट) के संपूर्ण विश्लेषण पर निर्भर करेगी।

अंग्रेजी में दसवें भाव में मंगल के बारे में ओर ज्यादा रोचक और विस्तारपूर्वक जानने के लिए, जाये : Mars in 10th House

पाएं अपने जीवन की सटीक ज्योतिष भविष्यवाणी सिर्फ 99 रुपए में। ज्यादा जानने के लिए : यहाँ क्लिक करे