Categories: Kitchen
| On 2 weeks ago

मिर्चीबड़ा | मिर्चीबड़ा बदल देगा आपका मूड | Mirchibada may change your mood

मिर्चीबड़ा (Mirchibada / Mirchibara ) यानी एक मिर्च को मसालों से भर के उसे बेसन के पेस्ट में डुबाकर गरमागरम तेल की कड़ाही में तलकर आपके समक्ष पेश हुआ व्यंजन । इसकी बात अलग है, यह स्पेशल है, जी हाँ। यह राजस्थान के जोधपुर की जान है । आइये, मिर्चीबड़ा के बारे में जोधपुर के बाशिंदों की बात सुनते हैं। Come, let's listen to the people of Jodhpur about Mirchibara.

I Love Mirchi Bada. Www.shivir.com

क्या कहते है जोधपुर के वाशिंदे मिर्चिबड़े के बारे में | What do the residents of Jodhpur say about Mirchibde?

हमारे मारवाड़ का ज़ायका "उतरते पाये का मिर्चीबड़ा"।

यह कहना है फेसबुक के एक ग्रुप " जोधपुर की गलियां " के एक लेखक का।

पाया किसी कहते है?

"पाया" या पावा यानी कढ़ाही से ताजा तलकर निकाला हुआ गरमागरम मिर्चीबड़ा (Fresh batch of fried "MIRCHI BADA")

इसी संदर्भ में एक मारवाड़ी कहावत | In this context a Marwari proverb

हमारे मारवाड़ में ये एक लोकोक्ति है कि
"बड़ौ-पकोड़ौ बांणियौ, तातौ लीजै तोड़", यानी कि बड़ा-पकौड़ा का असली ज़ायका तो गरम गरम खाने पर ही मिलता है और ठीक उसी तरह व्यापार में भी तुरत-फुरत हिसाब चुकता करने पर ही व्यवहार बना रहता है.

जी, हां…. हम मारवाड़ियों में एक ख़ास सनक होती है कि मिर्चीबड़ा तो ताजा तले हुए उतरते पाये का ही खायेंगे.. अब उसमें भी अगर सुबह सुबह पहले पाये का मिल जाये तो सोने में सुहागा… चाहे उसके लिए पाया निकलने तक थोड़ा इंतजार ही क्यों न करना पड़े।

(यहाँ पर बात यह है कि सुबह पहले पाये का मिर्चीबड़ा ताजे तेल का होता है तथा संध्या होने तक काम मे लिये जाने वाले तेल का स्वास्थ्य स्तर खराब होने लगता हैं.)

Mirchibada With Tomato Sauce Is In Trend Www.shivira.com टमाटर सॉस के साथ मिर्चीबाड़ा ट्रेंड में है Www.shivira.com

दरअसल, काउंटर पर ट्रे में पहले का रखा हुआ पिचका हुआ, दबा हुआ, दुबला पतला सा या माइक्रोवेव ओवन में गर्म किया हुआ या दुबारा तेल में तला हुआ मिर्चीबड़े को हम मारवाड़ी लोग बहुत कम पसंद करते हैं.

हम सभी ज़ायके के कद्रदानों के लिए मिर्चीबड़े को गरम गरम बनते देखना तो और भी खतरनाक है. कहीं भी कितने जरूरी काम से जा रहे हो, सड़क या गली मोहल्ले के किनारे किसी दुकान की कढाई मे गरम गरम तेल मे छनछनाते, झूमते सुनहरे मिर्चीबड़े अपने गबरू पहलवान वाले रंग रूप से सम्मोहित कर आपकी आंखों को इशारे से आपके पाँवों रोक ही देंगे.

और फिर आपके कदम बढ़ जाते हैं मिर्चीबड़े की दुकान की तरफ, और वहाँ आप तब तक इंतजार करके खड़े रहते है जब तक कि कारीगर द्वारा खोलते तेल में से मिर्चीबड़ों का पाया झारे से निकालकर काउंटर के थाल में नही आ जाये… और दुकानदार दया करके सबसे पहले आपको मिर्चीबड़े की प्लेट ना थमा दें. (उस पर भी आपकी पैनी नज़र कि कहीं दुकानदार आपकी प्लेट में काउंटर पर ताजे पाये के आने से पहले का पड़ा हुआ मिर्चीबड़ा नही टिका दे.)

एक बात सच कहूं कि हमें तो मिर्चीबड़ा कोरा ही खाने का परम आनंद आता है, ब्रेड के साथ मिर्चीबड़ा खाना मतलब मिर्चिबड़े का अपमान करना लगता है. और कम से कम दो मिर्चीबड़ा तो एकसाथ खाना ही चाहिए।

मिर्चीबड़ा खाने का तरीका | How to eat Mirchibada

  • ये आपके शौक को दर्शाता है कि आप मिर्ची बड़ा कैसे खाते हैदुकान पर खाते हैं फिर घर ले जाकर परिवार के साथभी खाते हैं
  • सिर्फ दुकान पर ही एक दो तीन खाते हैं
  • पूरी मिरची के साथ खाते हैं
  • ब्रैड के साथ सैंडविच बनाकरचाय का ग्लास एक हाथ में लेकर चाय सिप करते हुए
  • दही चाट के साथ इसको अरोगते (खाते है) है
  • कढ़ाही से निकला हुआ हाथ जलाते हुए फूँक मारते हुए…
Mirchibada Is Not Eat With Onion. Www.shivira.com मिर्चीबड़ा तो बनता ही प्याज या बिना प्याज के साथ फिर प्याज क्यों? Www.shivira.com

मिर्चीबड़ा जोधपुर की पहचान | Mirchibada is an identity of Jodhpur

"मिर्ची बड़ा" जोधपुर की अपनी एक पहचान है… जिस प्रकार "बीकानेरी भुजिया" बीकानेर के अलावा कहीं ओर वैसे नहीं बनते (जल वायु का प्रभाव है), ठीक उसी प्रकार मिर्चीबड़ा भी जोधपुर के अलावा और कहीं भी उतना जायकेदार नही बनता है..

मिर्चीबड़ा" औषधि है | Mirchibada is the medicine

जोधपुर का "मिर्चीबड़ा" औषधि है !, किसी भी प्रकार का व्यायाम (शारीरीक श्रम, घूमना, जागिंग -> चेतन होना, जिम इत्यादि ) "पसीना/स्वेद" निकालता है, जो शरीर मे अपच हानिकारक तत्व "गुर्दों" द्वारा "मूत्र" व मल मार्ग से नहीं निकलता वो मिर्ची या मिर्चीबड़ा खाने से "पसीने" में निकलता है, जो कि शरीर को डिटॉक्स करके स्वस्थ रखता है.

Mirchi Bada Is A Medicine Too. Www.shivira.com मिर्चीबड़ा एक दवाई जैसा। Www.shivira.com

"एसी", कूलर, पंखे इत्यादि "पसीना" बनने ही नही देते इस कारण विभिन्न रोग होते है. पश्चिमी राजस्थान मे "गर्मी" अधिक रहती है, बिना श्रम के भी "पसीने" से तर होते रहते है, फिर भी अन्यों से अधिक स्वस्थ रहते है, कारण कि मारवाड़ में मिर्ची का प्रयोग अधिक होता है.

"पहले पाये का मिर्ची बड़ा" कम से कम सप्ताह मे "दो बार" तो खाना ही चाहिए और "पसीने" से "तर" होने चाहिए, फिर कोई "शारिरिक श्रम/ योग / भोग" की आवश्यकता नहीं रहेगी.

"मिर्चीबड़ा" का "भोग" अन्य स्वास्थ्यवर्धक "योगों " से श्रेष्ट व "मानसिक तृप्ति कारक" है. खाने के बाद "थकान" नहीं होती, शरीर मे "स्फूर्ति"आती है.

अगर आपको तेज जुकाम है नाक में से पानी बह रहा हो तो एक मिर्ची बड़ा गरमा गरम मिर्ची के साथ खा लीजिए तो जो काम कोई गोली नही कर सकती वो काम एक मिर्चीबड़ा कर देगा.

बळबळतो मिर्चीबडों.. जोधपुर वालो के लिए तो संजीवनी है एक तरह की !

अब मौसम चाहे तपती चिलचिलाती धूप में 50+ डिग्री हो या मूसलाधार बारिश हो या कड़कड़ाती सर्दी हो, एक असली मारवाड़ी इसकी परवाह नहीं करता…. तो देर किस बात की… आप भी उतरते पाये का मिर्चीबड़ा खाने के लिए अपनी पसंदीदा दुकान पर पहुंचिये।

मिर्चीबड़ा जोधपुर में कहां मिलेगा | Where to find mirchibara in jodhpur

जोधपुर में मंडोर से बोरानाडा तक, आड़ा बाजार से पावटा सर्कल तक, जालोरी गेट सर्किल से किले के दरवाजे तक, पांचवी रोड़ से चौपासनी तक जालोरी गेट से झालामंड तक और सालावास से सूरसागर तक की कई प्रसिद्ध दुकानों पर सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक ताजा पाये वाले मिर्चिबड़े मिल जाते हैं.

Jodhpur City, The City Of Mirchi Bada Www.shivira.com जोधपुर की शान की है मिर्चीबड़ा। Www.mirchibada.com

मिर्चीबड़ा की महिमा | Glory of Mirchbada

सबसे बड़ा विचित्र प्रश्न है कि सबसे बढ़िया मिर्चिबड़े किस दुकान के है. और इसका जवाब आज तक कोई सही नही दे पाया. अगर यक्ष ये प्रश्न युधिष्टर को भी पूछते तो वे भी इस प्रश्न का सही उत्तर नही दे पाते. जिस प्रकार प्रभु एक है पर कोई श्रीराम को भजते है तो कोई श्रीकृष्ण को तो कोई महादेव को तो कोई बजरंगबली को और अपने इष्ट को श्रेष्ठ समझते है. ठीक उसी प्रकार सबसे अच्छे मिर्चिबड़े की दुकान पर भी एकमत नही हुआ जा सकता. नाना प्रकार की दुकानें है और नाना प्रकार के ज़ायका चाहने वाले लोग. पर परम सत्य जोधपुर में केवल एकमत है मिर्चिबड़ा. अतः आप इस उलझन में न पड़े और जहाँ के मिर्चिबड़े में आपको आनंद की प्राप्ति होती है आप वही के मिर्चिबड़े को प्रभु का प्रसाद समझ कर ग्रहण करे एवं अपना कल्याण करे. दुकान ब्रांड सब मोहमाया है, मिर्चिबड़े से ऊपर कुछ नही जहाँ मिले जैसा मिले जब मिले मिर्चिबड़ा मिर्चिबड़ा ही रहेगा.

धन्यवाद मिर्चीबड़ा Www.shivira.com Thanks Mirchibada. Www.shivira.com

यही तो शास्वत है जोधपुर में, इस सत्य को कौन नकार सकता है. बहुत पुण्य किए हो तभी जोधपुर में जन्म मिलता है और परम आनन्ददायी मिर्चिबड़े की प्राप्ति होती है. इस पर तनिक भी शंका नही करनी चाहिए.

किसी ने सही कहा आपने पिछले जन्मों के पुण्य स्वरूप ही हमे इस पावन धरती से जुड़ने का अवसर मिलता है, जो अमृत के समान स्वाद वाले मिर्चिबड़े का भोग करने का एक मात्र धाम है.

अब तो उतरते पाये के मिर्चीबड़े का आनंद ले ही लीजिए..

और हाँ, कोरोना का रोना न रोयें, घर पर भी मिर्चीबड़ा का ताजा पाया बनाकर आनंद लेने से किसने रोका हैं..?

सावधान..!
साथ में दी गई खतरनाक तस्वीरें आपके मन को विचलित कर उतरते पाये के दो चार मिर्चीबड़ा खाने को मजबूर कर सकती हैं..

Mirchibada Is One Of The Best Food In Jodhpur. Www.shivira.com मिर्चीबाड़ा जोधपुर में सबसे अच्छे भोजन में से एक है। Www.shivira.com

मोहन जी के लड्डू | Laddu

बात शुरू हुई है मिर्चिबड़े से लेकिन अब बात करनी ही पड़ेगी भगवन श्री गणेश जी के प्रिय लड्डू की। जोधपुर के लड्डू आपको सिर्फ जोधपुर में मिलेंगे। जोधपुर के बेस्ट लड्डू है मोहन जी के।

Read more about Mohan ji ke laddu