Categories: Full Form
| On 4 weeks ago

MLA Full form in Hindi | हिंदी में विधायक का पूर्ण रूप क्या है?

MLA Full form in Hindi | हिंदी में विधायक का पूर्ण रूप क्या है?

  • MLA का पूर्ण प्रपत्र होता है, “Member of the Legislative Assembly” जिसका हिंदी में अर्थ होता है, “विधान सभा के सदस्य” अर्थात “विधायक”| MLA को विधानसभा का सदस्य या विधानमंडल का सदस्य भी कहा जाता है| मराठी में विधायक को “आमदार” कहते हैं| MLA को विधानसभा के लिए उस विधानसभा के मतदाताओं द्वारा चुना जाता है| जिसके बाद विधायक मिलकर उस राज्य के मुख्यमंत्री का चुनाव करते हैं और अगले 5 वर्ष तक सरकार चलाते हैं|

MLA को एक विधानसभा क्षेत्र के मतदाताओं द्वारा चुना जाता है| भारत जो एक विकाशसील देश है, यहाँ की राजनैतिक व्यवस्था के अनुसार प्रशासन को चलने के लिए राजनैतिक नेतृत्व प्रणाली को 3 भागों बांटा गया है —

  • केंद्र स्तर पर संसद और केंद्र सरकार
  • राज्य स्तर पर विधानसभा और राज्य सरकार
  • जिला या तहसील स्तर पर नगर पालिका या नगर निगम

MLA Full form in Hindi | विधायक (MLA) के फुल फॉर्म के अलावा विधायक से जुडी विशेष जानकारियां |

विधायक (MLA) फुल फॉर्म अंग्रेज़ी में - Member of Legislative Assembly (विधान सभा सदस्य)

  • विधायक का कार्य काल 5 वर्ष का होता है। प्रत्येक 5 वर्ष के बाद जनता द्वारा चुनाव के माध्यम से विधायक को चुना जाता है।
  • MLA – विधान सभा का सदस्य होता है, जिसे हम विधायाक भी कहते है। MLA विधान सभा क्षेत्र का प्रतिनिधि होता है। विधान सभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने के लिए जनता द्वारा प्रतिनिधि के रूप में MLA को चुना जाता है।
  • किसी भी विधान सभा में विधायक का चुनाव वहाँ के मतदाताओं द्वारा किया जाता है। उसके बाद सारे विधायकों द्वारा राज्य के मुख्य मंत्री (Chief Minister) को चुना जाता है। आमतौर पर विधायक जिस पार्टी के ज्यादा होंगे मुख्यमंत्री भी उसी पार्टी का बनता है।

MLA Full form in Hindi | MLA के कार्य और जिम्मेदारियाँ |

एक नेता होने के नाते विधायक की भी कुछ जिम्मेदारियाँ होती है जिन्हे पूरा करना जरुरी है। इन्हे हम विधायक के क्या कार्य होते है? इस तरीके से भी समझ सकते है। क्योंकि विधायक जनता के लिए जो कार्य करता है। वहीं उसकी जिम्मेदारियाँ भी होती है।

  • विधायक को उसके स्थानीय निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए मिलने वाले सरकारी फंड का सही से उपयोग करके विकास करवाना चाहिए।
  • उसे अपने निर्वाचित क्षेत्र की समस्याओ और वहाँ की जनता की शिकायतों को राज्य सरकार तक पहुँचना चाहिए।
  • विधायक को अपने निर्वाचित क्षेत्र के विकास के लिए समय-समय पर वहाँ की समस्याओं के बारे में जानकारी लेना चाहिए।

MLA Full Form in Hindi | MLA Salary in Hindi | विधायक का वेतन कितना होता है?

अब तक अपने जान लिया होगा विधायक की फुल फॉर्म (MLA Full form in Hindi) के बारे में अब जानते है विधायक की सैलेरी (MLA Salary in Hindi)के बारे मे। देशभर में सांसदों ( member of parliament) और विधायकों (members of legislative assembly) ने अपनी सेलरी (salary) का कुछ हिस्सा हर महीने कोरोना से मदद के फंड में देने का तय किया है. सांसद करीब 30 फीसदी हिस्सा देंगे तो विधायकों से वेतन में कटौती अलग अलग राज्यों में अलग होगी | आइए जानते हैं कि उनकी सेलरी कितनी होती है |

  • एमएलए का वेतन या भत्ते राज्य सरकार पर निर्भर करते हैं, कई राज्यों में विधायक को पांच लाख से अधिक वेतन दिया जाता है, तो कुछ राज्यों में यह एक लाख है।
  • भारत में में कुल 4120 विधायक हैं. विधायक को हर महीने सेलरी के अलावा क्षेत्र के विकास के लिए फंड दिया जाता है, जो हर साल 1 करोड़ रुपये से लेकर 4 करोड़ रुपये तक होता है |
  • उत्तर प्रदेश में विधायकों को 1.87 लाख रुपये प्रतिमाह मिलते हैं. इसके अलावा महाराष्ट्र में 1.70 लाख रुपये प्रतिमाह, जम्मू और कश्मीर में 1.60 लाख रुपये प्रतिमाह और उत्तराखंड में भी विधायकों को 1.60 लाख रुपये प्रतिमाह सैलरी के रूप में मिलते हैं |
  • विधायकों को सबसे ज्यादा सैलरी देने वाले राज्यों में तेलंगाना सबसे आगे हैं. तेलंगाना में विधायकों की सैलरी 2.5 लाख रुपये प्रतिमाह है. उसके बाद दिल्ली के विधायकों की सैलरी 2.1 लाख रुपये प्रतिमाह है| दिल्ली के विधायकों की सैलरी 2015 में बढ़ी है. इसके पहले उनकी सैलरी 88,000 रुपये हुआ करती थी |
  • सबसे कम सेलरी त्रिपुरा के विधायक को मिलती है. ये महज 34 हजार रुपए प्रतिमाह होती है. नागालैंड के विधायक का वेतन 36 हजार रुपए होता है. वहीं गुजरात में विधायक 60 हजार रुपए सेलरी के रूप में पाते हैं |

MLA Full Form in Hindi | How to become MLA in Hindi | विधायक (MLA) कैसे बने?

अब तक अपने जान लिया होगा विधायक की फुल फॉर्म (MLA Full Form in Hindi) के बारे में अब जानते है (How to Become MLA in Hindi) विधायक कैसे बने? विधायक केवल एक पद नहीं, बल्कि एक स्टेटस आइकन भी है| एक विधायक की शक्तियों को चार भागो में बांटा जाता है, पहला विधान शक्तियां, यानी वो शक्तियां जो भारत के संविधान के अनुसान इन्हें मिली है, जैसे एक विधायक राज्य सूची और समवर्ती सूची पर अपनी विधायी शक्ति |

  • राज्य के शासन व्यवस्था को सुचारू ढंग से चलाने के लिए राज्यों में सरकार का गठन किया जाता है , सरकार का निर्माण विधानसभा और विधान परिषद के सदस्यों से मिलकर होता है | विधानसभा और विधान परिषद के निर्वाचित और मनोनीत सदस्यों को ही विधायक कहा जाता है | भारत के केवल सात राज्यों में ही विधान परिषद का गठन हुआ है | विधानसभा और विधान परिषद सदस्यों द्वारा ही राज्य के विकास की नीति का निर्माण किया जाता है | विधान परिषद को उच्च सदन और विधानसभा को निम्न सदन कहा जाता है | बहुमत प्राप्त
    करने वाले दल के नेता को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया जाता है | विधायक कैसे बनें ? इसके बारे में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है
  • राज्य के प्रत्येक क्षेत्र को विधान सभा क्षेत्र में विभाजित किया गया है, प्रत्येक क्षेत्र से जन प्रतिनिधि के रूप में एक विधायक का निर्वाचन होता हैं, क्षेत्रों की संख्या मतदाताओं की संख्या पर आधारित होती हैं| सभी विधायक अपनें-अपनें क्षेत्र की समस्याओं की जानकारी विधानसभा में उपलब्ध करातें हैं, तथा राज्य सरकार की योजनाओं को नागरिको तक पहुचातें हैं, इसके साथ ही जन समस्या का निवारण करतें हैं |
  • संघीय या केंद्र सरकार के साथ भारतीय प्रशासन प्रणाली का संघीय ढाँचा तीन-तिहाई है जिसमें सबसे बड़ी कार्यकारी स्थिति धारण करने वाले प्रथम श्रेणी का गठन किया जाता है. केंद्र सरकार अपनी कुछ शक्तियाँ राज्य सरकार को सौंपती है जो कि संघीय ढाँचे को दो स्तर बनाती है | राज्यों को सत्तारूढ़ राजनीतिक दल के शासन के तहत विशेष कार्यकारी शक्तियों के साथ अधिकार प्राप्त कराए जाते है | तीसरे और अंतिम चरण में पंचायत और नगरपालिकाएं आती हैं जो स्थानीय स्तर के शासन में शामिल होती हैं |
  • भारत के सभी राज्यों में एक व्यवस्थापिका सभा या विधानसभा, व्यवस्थापिका सभा के सदस्यों विधायक द्वारा संचालित होनी चाहिए | विधायक एक निर्वाचन जिले (निर्वाचन क्षेत्र) के मतदाताओं द्वारा चुने गए लोगों का प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होते हैं | सभी राज्यों में प्रत्येक संसद सदस्य (एमपी) के लिए 7 से 9 विधायक हैं जो कि लोकसभा में हैं और इस तरह से इनकी संख्या 500 से अधिक नहीं हो सकती और न ही 60 से कम हो सकती है. लोकसभा में विधायक संसद के सदस्यों के बराबर होते हैं जो राज्य के सर्वोच्च कानून बनाने वाली संस्था का एक हिस्सा है |

MLA Full form in Hindi | MLA Eligibility Criteria | विधायक बनने के लिए योग्यता |

अब तक अपने जान लिया होगा विधायक की फुल फॉर्म (MLA Full Form in Hindi) के बारे में अब जानते है विधायक बनने के लिए योग्यत (MLA Eligibility Criteria) के बारे में जान लेते है। विधायक बनना आसान नहीं है ये बात तो आपको पता ही है। क्योकि विधायक जनता द्वारा चुना जाता है।

विधायक बनने के लिए उम्मीदवार किसी राजनैतिक पार्टी से भी चुनाव लड़ सकता है। किसी कारण वश अगर किसी पार्टी से चुनाव लड़ने में समस्या होती है। तो उम्मीदवार निर्दलीय भी चुनाव लड़ सकते है।-

  • विधायक बनने के लिए भी उम्मीदवार के अंदर कुछ योग्यताओ को होना जरुरी है। जो निम्नलिखित है –
  • विधायक बनने के लिए उम्मीदवार की उम्र 25 वर्ष होनी जरुरी है।
  • उम्मीदवार को भारत की नागरिकता प्राप्त होनी चाहिये अर्थात वह भारत का नागरिक होना चाहिये।
  • उम्मीदवार का किसी भी निर्वाचन क्षेत्र की मतदाता सूचि में नाम जरूर होना चाहिए।
  • उम्मीदवार सरकार की किसी लाभप्रद योजना का भागीदार नहीं होना चाहिए।
  • उम्मीदवार का मानसिक संतुलन ठीक होना चाहिए। अर्थात मानसिक रूप से पूरा स्वस्थ होना चाहिए।

विधायक को कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती है

  • भारत में लगभग कुल 4120 विधायक है। जिनको सरकार की तरफ से कई सारी सरकारी सुविधाएं प्राप्त होती है। जैसे हर विधायक को सरकार की तरफ से वेतन मिलता है। जो सभी राज्यों में अलग- अलग होता है। जिसमे वेतन के रूप में 75000 हजार रुपये मिलते है।
  • इसके आलावा 2400 हजार रुपये डिज़ल खर्च के और 6000 हजार रुपये PA (Personal Assistace) रखने के मिलते है। और प्रति माह 1200 हजार रुपये मोबाइल खर्च और इलाज खर्च के लिए मिलते है।
  • इसके साथ ही विधायक को फ्री रेलवे यात्रा की आजीवन सुविधा मिलती है। इसके साथ ही विधायाक के रेटायर्मेंट के बाद 30000 हजार रुपये पेंशन मिलती है। और डीज़ल खर्च के लिए 8000 हजार रुपये अलग से मिलते है।
  • सभी राज्यों के विधायकों को अलग-अलग सुविधाएँ मिलती है। जैसे तेलंगान में विधायकों को सबसे ज्यादा सैलरी 2.5 लाख रुपये मिलती है। और त्रिपुता के विधायकों को सबसे कम 34000 हजार रुपये मिलते है।

MLA Full Form in Hindi | विधायक की चुनाव प्रक्रिया |

विधायक सीधे ही एक निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं द्वारा चुने जाते हैं एक विधायक की निर्वाचन प्रक्रिया इस प्रकार है -

  • वर्तमान विधानसभा के कार्यकाल की समाप्ति के बाद, हर पांच साल की अवधि के बाद आम चुनाव होते हैं.
  • हर एक State जनसंख्या के आधार पर अलग-अलग निर्वाचन क्षेत्रों या विशिष्ट क्षेत्रों में विभाजित किया गया है.
  • प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्रों से संबंधित उम्मीदवारों को 18 वर्ष से अधिक आयु के नागरिकों द्वारा वोट दिया जाता है.
  • एक निर्वाचन क्षेत्र से कितने भी उम्मीदवार चुनाव के लिए खड़े हो सकते हैं जब तक उनमें से प्रत्येक योग्यता मापदंडों को पूरा करता है.
  • उम्मीदवार या एक विशिष्ट राजनीतिक दल से संबद्ध हो सकते हैं या फिर स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ सकते हैं.
  • उम्मीदवारों को अपनी योजनाओं और अपने निर्वाचन क्षेत्र के मामलों के लिए आवाज उठाकर स्वयं के लिए रैली करना आवश्यक होता है.
  • विधायक प्रत्यक्ष रूप से मतदाताओं के माध्यम से चुने जाते हैं जो मतदाता विश्वव्यापी वोट देने का अधिकार के अनुसार मतदान देते हैं.
  • मतदान एक गुप्त बैलेट पेपर (Ballot Paper) द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि मतदाता ने जिसको भी मतदान दिया हो वह केवल उसी को मालूम हो.