मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना (Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana in Hindi)

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना : सरकार की ओर से किसानों को कई तरह की सुविधाएं दी जाती हैं। ताकि उन्हें खेती में किसी तरह की दिक्कत न हो। ऐसी कई योजनाएं राजस्थान सरकार द्वारा भी चलाई जाती हैं। आज हम आपको एक ऐसी ही योजना से संबंधित जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं, जिसका नाम है राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना।

इस योजना के तहत कृषि गतिविधियों के दौरान किसी भी दुर्घटना की स्थिति में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करें। जैसे कि राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना क्या है?, इसका उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, लाभ, आवेदन प्रक्रिया आदि। मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना (Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana in Hindi) :

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना की घोषणा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 24 फरवरी 2021 को वित्तीय वर्ष 2021-22 के बजट की घोषणा करते हुए की है।

इस योजना के तहत यदि किसानों की कृषि गतिविधियों के दौरान मृत्यु हो जाती है या उन्हें किसी आंशिक या स्थायी का सामना करना पड़ता है। विकलांग हैं, तो उन्हें इस स्थिति में वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। यह वित्तीय सहायता ₹5000 से ₹200000 तक होगी।

यदि राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ लेना है तो अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसके लिए आवेदन करने के लिए किसी सरकारी कार्यालय में जाने की जरूरत नहीं होगी। आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से घर बैठे आवेदन कर सकते हैं। इससे समय और धन दोनों की बचत होगी और व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी। इस योजना का बजट सरकार द्वारा 2000 करोड़ रुपये निर्धारित किया गया है।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना की मुख्य विशेषताएं (Key Highlights Of Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana in Hindi) :

योजनामुख्यमंत्री कृषक साथी योजना
शुरुआत किसने कीराजस्थान सरकार
लाभार्थीराजस्थान के किसान
उद्देश्यदुर्घटना के मामले में वित्तीय सहायता प्रदान करना
वर्ष2022
सब्सिडी₹5000 से ₹200000
बजट2000 करोड़ रुपए

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत प्रदान की जाने वाली वित्तीय सहायता (Financial Assistance to be Provided Under Rajasthan Chief Minister Krishak Saathi Yojana in Hindi) :

स्थितिसब्सिडी
मृत्यु₹ 200000
2 अंगों में विकलांगता (या तो 2 हाथ या 2 पैर या 2 आंखें या 1 हाथ और 1 पैर)₹ 50000
रीढ़ की हड्डी का फ्रैक्चर, सिर में चोट के कारण कोमा₹ 50000
पुरुष या महिला के लिए पूरे शरीर के बालों को हटाना₹40000
पुरुष या महिला के सिर के बालों को हटाना₹25000
1 अंग (या हाथ या पैर या आंख या टखने) में विकलांगता₹25000
अगर 4 अंगुलियों को काट दिया जाए₹20000
अगर 3 उंगलियां काट दी जाए₹15000
अगर 2 उंगलियां कट जाए₹10000
अगर एक उंगली कट जाए₹5000
दुर्घटना के कारण फ्रैक्चर₹5000

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लाभार्थी कालानुक्रमिक क्रम में (Chief Minister Krishak Saathi Yojana Beneficiaries in Chronological Order in Hindi) :

  • जीवनसाथी : यदि लाभार्थी की मृत्यु हो गई है या लाभार्थी विकलांग हो गया है तो लाभार्थी के जीवनसाथी को लाभ की राशि प्रदान की जाएगी।
  • बच्चे : लाभार्थी के पति या पत्नी के अनुपस्थित होने पर लाभार्थी के बच्चों को लाभ की राशि प्रदान की जाएगी।
  • माता-पिता : लाभार्थी के बच्चे और पति या पत्नी के अनुपस्थित रहने पर लाभार्थी के माता-पिता को लाभ की राशि प्रदान की जाएगी।
  • पोता और पोती : यदि लाभार्थी के पति या पत्नी, बच्चे या माता-पिता नहीं हैं, तो उस स्थिति में लाभार्थी के पोते और पोते को लाभ की राशि दी जाएगी।
  • बहन : यदि लाभार्थी की कोई अविवाहित/विधवा/आश्रित बहन लाभार्थी के साथ रहती है, तो ऐसी स्थिति में लाभार्थी का कोई अन्य रिश्तेदार न होने पर लाभ की राशि बहन को प्रदान की जाएगी।
  • वारिस : यदि लाभार्थी के पति या पत्नी, बच्चे, माता-पिता, बेटा या बेटी और बहन नहीं है, तो इस मामले में, यदि लाभार्थी का कोई वारिस वारिस अधिनियम के तहत है, तो लाभ की राशि उसे दी जाएगी

नोट: आकस्मिक मृत्यु या स्थायी अपंगता की स्थिति में पंजीकृत किसान की संतान या बालिका या पति या पत्नी राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लाभार्थी होंगे। इस योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी की आयु 5 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया (Procedure to get Benefits under Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana in Hindi) :

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत यदि किसान की मृत्यु कृषि गतिविधियों के कारण होती है या आंशिक या स्थायी विकलांगता है, तो ऐसी स्थिति में सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। लाभार्थी की आकस्मिक मृत्यु की स्थिति में आवेदक दुर्घटनाग्रस्त किसान का वारिस होगा और यदि किसान विकलांग हो जाता है तो आवेदक स्वयं विकलांग व्यक्ति होगा।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र संबंधित विभाग को जमा करना होगा। दुर्घटना के 6

महीने बाद आने वाले व्यक्तियों के आवेदनों को इस योजना के तहत लाभ नहीं दिया जाएगा। इसका मतलब है कि दुर्घटना के 6 महीने के भीतर लाभार्थी को इस योजना के तहत आवेदन करना होगा।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का उद्देश्य (Objective of Rajasthan Chief Minister Krishak Saathi Yojana in Hindi) :

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का मुख्य उद्देश्य कृषि गतिविधियों के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं की स्थिति में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से यदि किसानों को कृषि गतिविधियों के दौरान किसी भी प्रकार की दुर्घटना का सामना करना पड़ता है, तो उन्हें सरकार द्वारा ₹5000 से ₹200000 तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे वह अपना इलाज करा सके। राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के माध्यम से राजस्थान के किसान स्वावलंबी बनेंगे और उन्हें दुर्घटना से उत्पन्न आर्थिक संकट से लड़ने में भी मदद मिलेगी।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना की आवश्यकता (Need of Rajasthan Chief Minister Krishak Saathi Yojana in Hindi) :

अब राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के माध्यम से किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। यह वित्तीय सहायता कृषि गतिविधि के दौरान दुर्घटना के मामले में प्रदान की जाएगी। इस वित्तीय सहायता से दुर्घटना के कारण आर्थिक तंगी का सामना करने में मदद मिलेगी। इस योजना के माध्यम से मिलने वाली आर्थिक सहायता से किसान अपना इलाज भी करा सकेंगे।

किसान की मृत्यु होने पर मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। ताकि वह अपना पैसा खर्च कर सके। इस योजना के माध्यम से किसान और किसानों के परिवार आत्मनिर्भर और सशक्त बनेंगे।

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के माध्यम से कृषि क्षेत्र का भी विकास किया जाएगा। यदि इस योजना के तहत पंजीकृत किसान की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को लाभ की राशि प्रदान की जाएगी और यदि किसान विकलांग हो जाता है तो लाभ की राशि पंजीकृत किसान को प्रदान की जाएगी।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लाभ और विशेषताएं (Benefits and Features of Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana in Hindi) :

  • राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है।
  • इस योजना
    को शुरू करने की घोषणा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 24 फरवरी 2021 को की है।
  • इस योजना के माध्यम से यदि किसान की कृषि गतिविधियों के दौरान मृत्यु हो जाती है या उन्हें किसी प्रकार की विकलांगता का सामना करना पड़ता है, तो उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • यह वित्तीय सहायता ₹5000 से ₹200000 तक है।
  • यदि लाभार्थी की मृत्यु हो जाती है तो आवेदक किसान का प्रतिवादी होगा और यदि किसान विकलांग हो जाता है तो आवेदक स्वयं विकलांग किसान होगा।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान को आवेदन पत्र भरकर संबंधित विभाग में जमा करना होगा।
  • यह आवेदन पत्र किसान को दुर्घटना के 6 महीने के भीतर जमा करना होता है।
  • यदि किसान दुर्घटना के 6 माह बाद आवेदन पत्र जमा करता है तो ऐसी स्थिति में उसे इस योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।
  • इस योजना से प्राप्त राशि से किसान अपना इलाज करा सकता है।
  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के माध्यम से किसान को दुर्घटना से होने वाले आर्थिक संकट से लड़ने में भी मदद मिलेगी।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसान की आयु 5 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • यदि किसान की मृत्यु या अपंगता दुर्घटना के कारण होती है, तभी इस योजना का लाभ किसान को प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत आत्महत्या या प्राकृतिक मृत्यु को कवर नहीं किया जाता है।
  • आप इस योजना के तहत ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से आवेदन कर सकते हैं।
  • सरकार की ओर से जल्द ही इस योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया सक्रिय कर दी जाएगी।
  • इस योजना का बजट सरकार ने 2000 करोड़ रुपये निर्धारित किया है।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना की पात्रता (Eligibility of Rajasthan Chief Minister Krishak Saathi Yojana in Hindi) :

  • इस योजना का लाभ पाने के लिए स्थायी रूप से विकलांग व्यक्ति का पंजीकृत किसान होना अनिवार्य है।
  • किसान की मृत्यु के मामले में, लाभार्थी पंजीकृत किसान का बच्चा या बालिका या पति या पत्नी होना चाहिए।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए मृतक या स्थायी विकलांग व्यक्ति की आयु 5 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए दुर्घटना के कारण मृत्यु या स्थायी अपंगता होनी चाहिए।
  • इस योजना के तहत आत्महत्या या प्राकृतिक मृत्यु को कवर नहीं किया जाता है।
  • आवेदक को दुर्घटना के 6 माह के भीतर संबंधित जिला कृषि अधिकारी के कार्यालय में आवेदन करना होगा।

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के महत्वपूर्ण दस्तावेज (Rajasthan Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana Important Documents in Hindi) :

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत आवेदन करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है :

  1. निर्धारित प्रपत्र में आवेदन
  2. प्राथमिकी और समर्थन पंचनामा पुलिस जांच रिपोर्ट
  3. मृत्यु के मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट या मृत्यु प्रमाण पत्र
  4. उम्र का सबूत
  5. अनुमंडल दंडाधिकारी की केस स्वीकृति रिपोर्ट
  6. मेडिकल बोर्ड/सिविल सर्जन से विकलांगता प्रमाण पत्र और स्थायी विकलांगता के मामले में विकलांगता की तस्वीर
  7. क्षतिपूर्ति बांड
  8. बाल विवरण रिपोर्ट
  9. बीमा निदेशक द्वारा मांगे गए अन्य प्रमाण

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया (Process to Apply under Rajasthan Chief Minister Krishak Saathi Yojana in Hindi) :

  • सबसे पहले आपको अपने जिले के कृषि विभाग में जाना होगा।
  • इसके बाद आपको वहां से राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का आवेदन फॉर्म लेना होगा।
  • अब आपको आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे अपना नाम, मोबाइल नंबर, पता आदि ध्यान से दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको आवेदन पत्र से सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज संलग्न करने होंगे।
  • अब आपको इस आवेदन पत्र को कृषि विभाग में जमा करना होगा।
  • इसके बाद आपके द्वारा जमा किए गए दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा।
  • सत्यापन के बाद लाभ राशि किसान के खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी।