मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना (Mukhyamantri Police Padak Yojana in Hindi)

मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना के तहत प्रदेश में उत्कृष्ट सेवाएं देने वाले पुलिस कर्मियों के लिए यह योजना लागू की गयी है। और साथ ही पुलिस कर्मियों के आवागमन के लिए रोडवेज की बसों में स्थायी पास की योजना भी प्रारम्भ की जाएगी। पुलिसकर्मियों के लिए हाउसिंग बोर्ड, UIT, JDA सहित अन्य संस्थाओं के माध्यम से आवास सुविधा तथा पुलिस लाइन, आर्म्ड बटालियन एवं पुलिस टे्रनिंग सेंटरों में उपलब्ध चिकित्सा सुविधाओं को मजबूत करने के साथ ही पुलिसकर्मियों का निशुल्क वार्षिक चिकित्सा परीक्षण कराया जाएगा।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए पुलिस मुख्यालय के अधिकारियों से थाना स्तर तक के अधिकारियों से संवाद के दौरान ये महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं। यहपहला अवसर है जब किसी मुख्यमंत्री ने थाना स्तर

तक पुलिस कार्मिकों से संवाद किया है। गहलोत ने कहा कि कोरोना के समय संकट के इस दौर में पुलिस ने समर्पण भावना के साथ दायित्वों को अंजाम देकर अपनी मानवीय छवि पेश की है।

मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना के तहत पुलिस कर्मियों को क्या लाभ दिए जाएंगे (What Benefits Will be Given to Police Personnel Under the Mukhyamantri Police Padak Yojana in Hindi) :

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से जंग का अनुभव हम सबके लिए नया था। मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना के तहत पुलिस ने इससे निपटने के लिए जो नवाचार किए, उनमें से कई सफल रहे और सामूहिक प्रयासों से हम इस लड़ाई को सफलतापूर्वक लड़ पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में पूरे प्रदेश में शांति और सद्भाव कायम रहा, उसमें पुलिस की बड़ी भूमिका है।

होमगार्ड एवं पुलिस मित्रों ने भी कोरोना के इस दौर में सराहनीय कार्य किया है। प्रवासियों को सकुशल अपने घर पहुंचाने, सुरक्षित प्रसव, वृद्धजनों को चिकित्सा सुविधा उपल ध करवाने और उनकी देखभाल करने, सुगमता के साथ यात्रा पास जारी करने के साथ ही अन्य कार्यों में पुलिस ने जिस भावना के साथ काम किया है, उससे नए रूप में पुलिस का इकबाल कायम हुआ है।

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में पुलिस ने जिस मुस्तैदी के साथ काम किया, वह तारीफ के काबिल है। इससे जनमानस में उनकी छवि निश्चित रूप से बदली है। परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि देश के विभिन्न राज्यों में श्रमिकों

के आवागमन को लेकर परेशानियों की खबरें आईं, लेकिन राजस्थान ऐसा राज्य रहा, जहां पुलिस एवं प्रशासन के सहयोग से इस काम को सुगमता से अंजाम दिया गया।

पुलिस ने अपनी ड्यूटी के साथ-साथ राशन सामग्री एवं भोजन के वितरण जैसे कामों में भी सहयोग देकर मानव सेवा का उदाहरण पेश किया। मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि जरूरतमंद महिलाओं को सेनेटरी नेपकिन पहुंचाने, भोजन वितरण और कोरोना से मुकाबले के लिए प्रेरणादायक संदेश पहुंचाने तक के कई ऐसे उदाहरण हैं, जिन्होंने पुलिस के प्रति लोगों की धारणा बदली है।

योजना का नाम :मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना
योजन किसके द्वारा शुरू की गयी :राजस्थान सरकार द्वारा
योजन कब शुरू की गयी :2020
योजन का उद्देश्य :पुलिस कर्मियों को कोरोना के दौरान सहायता प्रदान करना
योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए पोर्टल :यहाँ क्लिक करें
Highlights of मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना
Mukhyamantri Police Padak Yojana
मुख्यमंत्री पुलिस पदक योजना आधिकारिक वेबसाइट का Homepage

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार पुलिस के मनोबल तथा सम्मान को ऊंचा रखने में कोई कसर नहीं रखेगी। पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह

ने कहा कि लॉकडाउन के बाद पैदा हुई स्थितियों में पुलिस ने बेहतरीन ढंग से काम करते हुए अपनी जो ‘गुडविल’ बनाई है उसे वे आगे भी बनाए रखें। इस दौरान चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, मुख्य सचिव डीबी गुप्ता और अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह श्री राजीव स्वरूप भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़े :

Deen Dayal Upadhyaya Antyodaya Yojana
Mukhyamantri Laghu Udhyog Protsahan Yojana (MLUPY)
Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना)
PM Mudra Yojana (प्रधानमंत्री मुद्रा योजना)