राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension Scheme in Hindi)

राष्ट्रीय पेंशन योजना : एनपीएस एक सरकारी निवेश योजना है। इस योजना के माध्यम से सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन दी जाती है। यह योजना सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए 2004 में शुरू की गई थी। 2009 से यह योजना सभी वर्ग के लोगों के लिए खोली गई थी। कोई भी व्यक्ति अपने कामकाजी जीवन के दौरान पेंशन खाते में योगदान करके इस योजना का लाभ उठा सकता है।

जमा राशि का कुछ हिस्सा सेवानिवृत्ति से पहले भी निकाला जा सकता है और शेष राशि का उपयोग सेवानिवृत्ति के बाद नियमित आय प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है। नियोक्ता और कर्मचारी दोनों राष्ट्रीय पेंशन योजना में निवेश करते हैं। NPS के तहत कर्मचारी रिटायरमेंट के समय कुल जमा राशि का 60% निकाल सकते हैं और शेष 40% पेंशन योजना में जाता है।

प्रबंधन के तहत संपत्ति 6 लाख करोड़ के पार (Assets Under Management Cross 6 Lakh Crore in Hindi) :

केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों को पेंशन प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय पेंशन योजना शुरू की गई थी। लेकिन बाद में यह योजना भारत के सभी नागरिकों के लिए शुरू की गई। इस योजना के माध्यम से निवेश पर 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर पेंशन प्रदान की जाती है। इस योजना के तहत प्रबंधन के तहत पेंशन संपत्ति 13 साल के अंतराल के बाद राष्ट्रीय पेंशन और अटल पेंशन योजना के तहत 6 लाख करोड़ का आंकड़ा पार कर गई है।

  • वित्त मंत्रालय की ओर से 26 मई 2021 को जानकारी दी गई है कि पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी की ओर से घोषणा की गई है कि पेंशन एसेट अंडर मैनेजमेंट में पिछले 7 महीनों में 1 लाख करोड़ की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. पिछले वर्षों में, लगभग 74.40 लाख सरकारी कर्मचारियों ने इस योजना के तहत सदस्यता ली है और 28.37 लाख गैर-सरकारी कर्मचारियों ने इस योजना की सदस्यता ली है।
  • जिससे पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण के करीब 4.28 करोड़ अंशधारकों की संख्या में इजाफा हुआ। राष्ट्रीय पेंशन योजना और अटल पेंशन योजना के तहत प्रबंधनाधीन संपत्ति बढ़कर ₹ 603667.02 करोड़ हो गई है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना नया अपडेट (National Pension Scheme New Update in Hindi) :

अब तक सरकारी कर्मचारियों का राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत शारीरिक रूप से पंजीकरण किया जाता था। जो सेंट्रल रिकॉर्ड कंपनी एजेंसी या सरकार के नोडल कार्यालयों द्वारा अपनाए गए एक ऑनलाइन मॉड्यूल के माध्यम से किया गया था। अब पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड विकास पाधिकरण द्वारा राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत पंजीकरण करने की ऑनलाइन सुविधा शुरू की जा रही है।

इसके तहत अब कर्मचारी अपना एनपीएस खाता ऑनलाइन खोल सकते हैं। ऑनलाइन प्रक्रिया को ई-एनपीएस के रूप में जाना जाएगा। ई-एनपीएस की मेजबानी सीआरए करेगा। जिसके तहत अभिदाता अपना पंजीकरण कराकर एनपीएस के तहत अंशदान कर सकता है।

ई-एनपीएस पंजीकरण (E-NPS Registration in Hindi) :

अभिदाता ई-एनपीएस के तहत पंजीकरण कर सकता है और इसके साथ प्रान नंबर भी जेनरेट कर सकता है। वे सभी अभिदाता जिनका एनपीएस खाता पहले से खुला है, वे भी ईएनपीएस के माध्यम से योगदान कर सकते हैं और अपना टियर-2 खाता भी खुलवा सकते हैं। निजी क्षेत्र के कर्मचारी आधार ऑफ़लाइन ई-केवाईसी या पैन और बैंक खाते के माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं। ईएनपीएस के माध्यम से योगदान करने के कुछ लाभ इस प्रकार हैं।

  • खाता खोलने पर कोई खर्च नहीं होगा क्योंकि पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी।
  • नोडल अधिकारियों का काम होगा आसान
  • नामांकन प्रक्रिया पेपरलेस होगी।
  • फॉर्म भरने में गलती की संभावना कम होगी क्योंकि कर्मचारी अपना फॉर्म खुद भरेंगे।
  • अधिक से अधिक एनपीएस खाते आसानी से खोले जा सकेंगे।

राष्ट्रीय पेंशन योजना की मुख्य विशेषताएं (Key Highlights Of National Pension Scheme in Hindi) :

योजना राष्ट्रीय पेंशन योजना
योजना किसने शुरू कीभारत सरकार
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्यसेवानिवृत्ति के बाद निवेशकों को पेंशन प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइटक्लिक करें
वर्ष2022
योजना उपलब्ध है या नहींउपलब्ध

राष्ट्रीय पेंशन योजना का उद्देश्य (Objective of National Pension Scheme in Hindi) :

राष्ट्रीय पेंशन योजना का मुख्य उद्देश्य सभी निवेशकों को सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन राशि प्रदान करना है। राष्ट्रीय पेंशन योजना के माध्यम से सभी नागरिक सेवानिवृत्ति के बाद भी आत्मनिर्भर रहेंगे और उन्हें किसी प्रकार की आर्थिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। इस योजना के तहत निवेशक अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार निवेश कर सकते हैं।

ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस योजना के तहत आवेदन कर सकें। राष्ट्रीय पेंशन योजना में दो तरह के खाते हैं जिन्हें टियर वन और टियर टू कहा जाता है। राष्ट्रीय पेंशन योजना में निवेश करने से आप सेवानिवृत्ति के बाद भी आर्थिक रूप से स्वतंत्र रहेंगे।

PFRDA द्वारा शुरू की जाने वाली राष्ट्रीय पेंशन EKYC सेवाएं (National Pension EKYC Services to be launched by PFRDA in Hindi) :

राष्ट्रीय पेंशन योजना संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए शुरू की गई है। राष्ट्रीय पेंशन योजना और अटल पेंशन योजना पेंशन कोष नियामक और विकास प्राधिकरण की दो प्रमुख योजनाएं हैं। इन दोनों योजनाओं के माध्यम से असंगठित क्षेत्र और संगठित क्षेत्र दोनों में कार्यरत कर्मचारियों की जरूरतों को पूरा किया जाता है। पेंशन कोष नियामक एवं विकास प्राधिकरण द्वारा राष्ट्रीय पेंशन योजना और अटल पेंशन योजना के अंशधारकों के लिए ईकेवाईसी सेवा शुरू करने का निर्णय लिया गया है।

  • इस सेवा को शुरू करने की मंजूरी राजस्व विभाग से मिल गई है। ऑनलाइन ईकेवाईसी के जरिए एनपीएस खाता खोलने की प्रक्रिया आसान हो जाएगी। अब नागरिकों को इस योजना के तहत आवेदन करने और प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए किसी भी सरकारी कार्यालय में जाने की आवश्यकता नहीं होगी। क्योंकि अब सरकार की ओर से eKYC प्रक्रिया शुरू कर दी गई है, ताकि आवेदन प्रक्रिया पूरी तरह से डिजिटल हो सके.
  • इस प्रक्रिया से समय और धन दोनों की बचत होगी और व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी। अब नागरिक कागजी कार्रवाई की लंबी प्रक्रिया से बच सकेंगे जिससे अधिक से अधिक लोग इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए प्रेरित होंगे।
  • पीएफआरडीए द्वारा ओटीपी आधारित प्रमाणीकरण, पेपरलेस ऑनबोर्डिंग, ई-साइन आधारित प्रमाणीकरण, ग्राहक पहचान की सुविधा के लिए वीडियो ऑनबोर्डिंग, ऑनलाइन निकास उपकरण, सरकारी क्षेत्र के ग्राहकों के लिए ऑनलाइन नामांकन आदि जैसी सुविधाएं प्रदान की गई हैं। NSDL ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर को सेंट्रल रिकॉर्ड कीपिंग एजेंसी बनाया गया है। जो ग्लोबल आधार यूजर एजेंसी के तौर पर काम करेगी।

राष्ट्रीय पेंशन योजना को आधार सीडिंग करना हुआ महत्वपूर्ण (National Pension Scheme Aadhaar Seeding Became Important in Hindi) :

राष्ट्रीय पेंशन योजना भारत सरकार द्वारा चलाई जाती है। यह एक निवेश योजना है जिसके माध्यम से ग्राहक विभिन्न प्रकार के निवेश कर सकता है। यह योजना वर्ष 2004 में सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू की गई थी और वर्ष 2009 में इसे आम जनता के लिए भी शुरू किया गया है। एनपीएस के तहत दो तरह के खाते खोले जाते हैं जो टियर-1 और टियर-2 हैं।

टियर-1 एनपीएस खाता पेंशन खाता है और टियर-2 खाता भारतीय पेंशन नियामक प्राधिकरण से जुड़ा एक निवेश खाता है। अब सरकार की ओर से एनपीएस ग्राहक के वित्तीय लेनदेन पर नजर रखने और करदाताओं को छूट प्रदान करने के लिए एनपीएस खाते को आधार से जोड़ने के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

ग्राहक आधार सीडिंग के माध्यम से केवाईसी मानदंडों को तुरंत पूरा कर सकता है। EKYC आधार संख्या के माध्यम से किया जाता है। ताकि

ग्राहक को काफी कागजी कार्रवाई से बचाया जा सके। क्योंकि आधार ओटीपी के जरिए वेरिफिकेशन की प्रक्रिया तुरंत की जा सकती है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना के लाभ और विशेषताएं (Benefits and Features of National Pension Scheme in Hindi) :

  • इस योजना के निदेशकों को सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन प्रदान की जाएगी।
  • अगर आपने एन्युइटी की खरीदारी में निवेश किया है तो आपको पूरी टैक्स छूट मिलेगी।
  • धारा 80CCE के तहत ₹ 50000 तक की अतिरिक्त कटौती का दावा किया जा सकता है।
  • राष्ट्रीय पेंशन योजना का अभिदाता आयकर अधिनियम की धारा 80सीसीडी(1) के तहत सकल आय के 10% की कटौती का दावा कर सकता है, जो कुल रु. धारा 80 सीसीई के तहत यह सीमा 1.5 लाख है।
  • राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत न्यूनतम निवेश सीमा ₹6000 है।
  • यदि आप राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत न्यूनतम सीमा तक निवेश नहीं कर पाते हैं, तो आपका खाता फ्रीज हो जाएगा और खाता अनफ्रीज कराने के लिए आपको ₹100 का जुर्माना देना होगा।
  • पहले इस सीमा में योगदान 10 प्रतिशत हुआ करता था, जिसे अब सरकार ने 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत कर दिया है।
  • यदि निवेशक की मृत्यु 60 वर्ष से पहले हो जाती है तो पेंशन की राशि नॉमिनी को दी जाएगी।
  • भारत के वित्त मंत्री ने राष्ट्रीय पेंशन योजना ट्रस्ट को पेंशन कोष नियामक और विकास प्राधिकरण से अलग करने का निर्णय लिया है।
  • राष्ट्रीय पेंशन योजना के निदेशकों को एक स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्या प्रदान की जाती है जो 12 अंकों की संख्या होती है। इस नंबर से निवेशक लेनदेन कर सकते हैं।
  • राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत एक से अधिक खाते नहीं खोले जा सकते हैं।

राष्ट्रीय पेंशन योजना खाता प्रकार (National Pension Scheme Account Types in Hindi) :

राष्ट्रीय पेंशन योजना में दो प्रकार के खाते हैं जो इस प्रकार हैं: -

  • टियर 1- इस खाते में जो भी पैसा जमा होगा, मैं समय से पहले नहीं निकाल सकता। यह खाता खोलने के लिए आपके लिए टियर 2 खाताधारक होना अनिवार्य नहीं है। आप पैसे तभी निकाल सकते हैं जब आप इस योजना से बाहर हों।
  • टियर 2- इस अकाउंट को खोलने के लिए आपको टियर 1 का अकाउंट होल्डर होना जरूरी है। आप अपनी इच्छा के अनुसार पैसे जमा या निकाल सकते हैं। यह खाता खोलना सभी के लिए अनिवार्य नहीं है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना पात्रता मानदंड (National Pension Scheme Eligibility Criteria in Hindi) :

  • आवेदक भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  • दोनों निवासी अनिवासी नागरिक इस योजना में निवेश कर सकते हैं।
  • योजना में निवेश करने के लिए निवेशक की आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • केवाईसी प्रक्रिया के बाद ही नागरिक इस योजना से जुड़ सकते हैं।

राष्ट्रीय पेंशन योजना के लाभार्थी (Beneficiaries of National Pension Scheme in Hindi) :

इस खाते में निम्नलिखित लोग निवेश कर सकते हैं :

  • केंद्र सरकार के कर्मचारी
  • राज्य सरकार के कर्मचारी
  • निजी क्षेत्र के कर्मचारी
  • आम नागरिक

राष्ट्रीय पेंशन योजना के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र (Sectors covered under National Pension Scheme in Hindi) :

  • केंद्र सरकार
  • राज्य सरकार
  • निगमित
  • देश के सभी नागरिक
  • एनआरआई द्वारा भी राष्ट्रीय पेंशन योजना का लाभ उठाया जा सकता है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना में निवेश के लाभ (Benefits of investing in National Pension Scheme in Hindi) :

  • आकर्षक बाजार से जुड़े रिटर्न
  • आसानी से पोर्टेबल
  • पेशेवर रूप से अनुभवी पेंशन फंड द्वारा प्रबंधित
  • कम लागत का लाभ
  • व्यक्तियों, कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए टैक्स ब्रेक
  • नौकरी या पता बदलने पर दूसरा एनपीएस खाता खोलने की जरूरत नहीं है।
  • शुद्ध संपत्ति मूल्य की गणना विभाग द्वारा प्रतिदिन की जाती है।

टियर II खाते के लाभ (Benefits of Tier II Account in Hindi) :

  • कोई अतिरिक्त वार्षिक रखरखाव शुल्क नहीं होगा
  • जरूरतों के लिए दिन-प्रतिदिन की बचत संभव होगी
  • निकासी किसी भी समय की जा सकती है
  • पेंशन खाते में किसी भी समय फंड ट्रांसफर किया जा सकता है
  • कोई न्यूनतम शेषराशि की आवश्यकता नहीं
  • एक्जिट लोड की कोई वसूली नहीं की जाएगी
  • अलग से नामांकन की सुविधा मिलेगी
  • टियर 1 से अलग निवेश पैटर्न चुनने का विकल्प

राष्ट्रीय पेंशन योजना में कहां निवेश किया जाएगा? (Where will the fund be invested in the National Pension Scheme in Hindi) :

  • इक्विटी
  • कॉर्पोरेट ऋण
  • सरकारी सुरक्षा
  • वैकल्पिक निवेश कोष

राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत निवेश विकल्प (Investment options under National Pension Scheme in Hindi) :

  • सक्रिय विकल्प : इस विकल्प के तहत निवेश राशि का चयन लाभार्थी द्वारा स्वयं किया जाता है।
  • ऑटो चॉइस : इस विकल्प के तहत निवेश राशि का चयन पूर्व निर्धारित मेट्रिक्स के आधार पर किया जाता है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत कर लाभ (Tax benefits under National Pension Scheme in Hindi) :

  • खाताधारक को आयकर अधिनियम की धारा 80सीसीडी(1) के तहत कर लाभ प्रदान किया जाएगा। जिसकी सीमा धारा 80 सीसीई के तहत 1.5 लाख रुपये है।
  • अतिरिक्त कटौती विकल्प उपलब्ध है यदि लाभार्थी ₹ 50000 तक निवेश करता है। यह विकल्प आयकर अधिनियम की धारा 80सीसीडी (1बी) के तहत उपलब्ध है।
  • इस कर लाभ का लाभ उठाने के लिए खाताधारक द्वारा लेनदेन विवरण प्रस्तुत किया जा सकता है।

राष्ट्रीय पेंशन योजना आवश्यक दस्तावेज (National Pension Scheme Required Documents in Hindi) :

राष्ट्रीय पेंशन योजना में नामांकन के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता है :

  • पते का सबूत
  • आधार कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र यह 10 वीं कक्षा का प्रमाण पत्र
  • ग्राहक पंजीकरण फॉर्म

राष्ट्रीय पेंशन योजना अपडेट (National Pension Scheme Updates in Hindi) :

2018 में, भारतीय कैबिनेट ने राष्ट्रीय पेंशन योजना में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • इससे पहले कर्मचारियों को राष्ट्रीय पेंशन योजना में 10% योगदान देना पड़ता था, जिसे बढ़ाकर 14% कर दिया गया है।
  • 60% राशि को कर मुक्त कर दिया गया है।
  • अब कर्मचारियों को पूरी आजादी दी गई है कि उनके द्वारा पेंशन में दिए गए पैसे को किस फंड में निवेश किया जाएगा।
  • केंद्रीय कर्मचारी साल में एक बार अपनी मर्जी से पेंशन फंड में बदलाव कर सकते हैं।

राष्ट्रीय पेंशन योजना से निकासी कैसे करें? (How to withdraw from National Pension Scheme in Hindi) :

  • यदि आप राष्ट्रीय पेंशन योजना से निकासी करना चाहते हैं, तो आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों के साथ पीओपी को निकासी आवेदन जमा करना होगा। निकासी के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।
  • प्राण कार्ड
  • आधार कार्ड की कॉपी
  • निवास प्रमाण पत्र की प्रति
  • रद्द किया गया चेक

राष्ट्रीय पेंशन योजना में खाता खोलने की प्रक्रिया (Procedure to open account in National Pension Scheme in Hindi) :

ऑफ़लाइन प्रक्रिया :

  • सबसे पहले आपको पीओपी-प्वाइंट ऑफ प्रेजेंस को खोजना होगा।
  • अब आपको POP से सब्सक्राइब फॉर्म लेना है
  • आपको इस सब्स्क्राइबर फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी ध्यान से भरनी है। आप यहां दिए गए लिंक पर क्लिक करके भी सब्सक्राइबर फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं।
  • अब आपको सभी जरूरी दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  • इसके बाद आपको यह फॉर्म पीओपी- प्वाइंट ऑफ प्रेजेंस में जमा करना होगा। आपको इस फॉर्म को केवाईसी पेपर्स के साथ जमा करना होगा।
  • इसके बाद आपको प्वाइंट ऑफ प्रेजेंस से एक रेफरेंस नंबर मिलेगा जिसके जरिए आप अपने आवेदन को ट्रैक कर सकते हैं।
  • आवेदन करते समय आपको अपना पहला योगदान जमा करना होगा। इसके लिए आपको एक इंस्ट्रक्शन स्लिप भी जमा करनी होगी जिसमें आपकी पेमेंट डिटेल होगी।

ऑनलाइन प्रक्रिया :

स्तर 1 :

  • सबसे पहले आपको नेशनल पेंशन सिस्टम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Open Your NPS Account/Contribute Online लिंक पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको National Pension System पर क्लिक करना है।
  • अब आपको रजिस्ट्रेशन के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • आपको पंजीकरण फॉर्म में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे आवेदन का प्रकार, आवेदक की स्थिति, पंजीकरण के साथ, आधार संख्या, मोबाइल नंबर आदि दर्ज करनी होगी और खाता प्रकार में केवल टीयर वन का चयन करना होगा।
  • अब आपको Continue पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने पूरा पेंडिंग रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा, जिसमें सभी जरूरी जानकारियां जैसे पावती संख्या, पावती तिथि, प्रथम नाम, जन्मतिथि, ईमेल पता आदि भरनी होगी।
  • अब आपको सबमिट पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक ई-साइन फॉर्म खुलेगा, जिसमें सभी जरूरी जानकारियां भरकर सबमिट पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आपके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

टियर 1 और टियर 2 :

  • सबसे पहले आपको नेशनल पेंशन सिस्टम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • आपके सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Open Your NPS Account/Contribute Online लिंक पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपको National Pension System पर क्लिक करना है।
  • अब आपको रजिस्ट्रेशन के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • इस पंजीकरण फॉर्म में, आपको आवेदन प्रकार, आवेदक की स्थिति, पंजीकरण के साथ, आधार संख्या, मोबाइल नंबर आदि जैसी सभी महत्वपूर्ण जानकारी दर्ज करनी होगी और खाता प्रकार में टियर वन और टियर टू का चयन करना होगा।
  • अब आपको Continue पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने पूरा पेंडिंग रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा, इसमें सभी जरूरी जानकारियां जैसे पावती संख्या, पावती तिथि, प्रथम नाम, जन्मतिथि, ईमेल पता आदि भरें।
  • इसके बाद आपको सबमिट पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपके सामने एक ई-साइन फॉर्म खुलेगा, जिसमें सभी जरूरी जानकारियां भरकर सबमिट पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आपके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

राष्ट्रीय पेंशन योजना के तहत अंशदान करने की प्रक्रिया (Procedure for making contribution under National Pension Scheme in Hindi) :

  • सबसे पहले आपको नेशनल पेंशन सिस्टम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  • होम पेज पर आपको नेशनल पेंशन सिस्टम के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपको योगदान के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने योगदान फॉर्म खुल जाएगा जिसमें आपको अपना PRAN नंबर, जन्म तिथि, कैप्चा कोड आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको Verify PRAN के लिंक पर क्लिक करना है।
  • अब आपको भुगतान करने के लिए मांगी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इस तरह आप योगदान करने में सक्षम होंगे।