मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना (National Scheme on Welfare of Fishermen in Hindi)

मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना : केंद्र सरकार द्वारा ना जाने कितनी ही योजनाएं निकाली गई है जिसका उद्देश्य पूर्ण रूप से लोगों के लिए अथवा पर्यावरण के लिए वरदान की तरह काम कर रहे हैं लेकिन जब बात आती है उन लोगों की जो समाज के पिछड़े वर्गों में आते हैं, जैसे कि दिहाड़ी पर काम करने वाले मछुआरे उनको लेकर कभी भी किसी के मन में विचार भी नहीं आता क्योंकि वह आधुनिक समाज से एकदम भिन्न तरीके से रहते है परंतु हाल ही में सरकार द्वारा मछुआरों के लिए योजना निकाल जिसका नाम है नेशनल स्कीम ऑन वेलफेयर ऑफ फिशरमैन।

इस योजना को केंद्र सरकार ने मछुआरों के हितों को ध्यान में रखते हुए उनके लिए इसको लाभदायक बनाया है। बीते सालों में सरकार द्वारा मछुआरों के लिए कितनी सारी लाभदायक योजना निकाली है जैसे कि फिशरमैन पेंशन।

मछुआरों के कल्याण के

लिए राष्ट्रीय योजना इस पेंशन के अनुसार जो मछुआरे आर्थिक रूप से समस्या से जूझ रहे हैं उनको सरकार आर्थिक सहायता देती है जिससे वह अपनी समस्या से उबर सकें।

केंद्र सरकार ने हर तबके को सुरक्षा देने के लिए कई योजनाएं बनाई हैं। ऐसे ही मछुआरों के हितों को ध्यान में रखकर योजना बनाई गई है। जिसका नाम है प्रधानमंत्री मत्स्य पालन योजना है। यह राष्ट्रीय योजना देश में मछुआरों के कल्याण के लिए एक समर्पित योजना है। जो कि मछुआरों को मछली पकड़ने के दौरान होने वाली दुर्घटना के लिए सामाजिक सुरक्षा प्रदान करती है और गरीब मछुआरों को उसकी जब उनके पास काम नहीं होता है से उबरने के लिए आर्थिक रूप से इस राहत प्रदान करती है। यह योजना मछली पकड़ने के सत्र के लिहाज से एक अनूठी योजना है। इसके तहत भारत सरकार का लक्ष्य है कि इस योजना का लाभ देश में बड़ी संख्या में मछुआरों को मिले।

incontent-ampforwp-incontent-ad ampforwp-incontent-ad2">

मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना के मुख्य बिंदु (Key Highlights of National Scheme on Welfare of Fishermen in Hindi) :

योजना का नाम :मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना
योजना कब शुरू की गयी :2018
योजना किसके द्वारा शुरू की गयी :केंद्र सरकार
योजना का उद्देश्य :मछुआरों को सहायता
योजना की अधिकारिक पोर्टल :यहां क्लिक करें
National Scheme on Welfare of Fishermen

मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना का उद्देश्य (Objectives Of National Scheme on Welfare of Fishermen in Hindi) :

  • इस योजना के तहत मछुआरों के लिए रहने के लिए घर निर्माण कराने के लिए आर्थिक राशि प्रदान करना।
  • इस योजना के तहत जो राशि गृह निर्माण के लिए केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकारों को दी जाएगी तो यह राज्य सरकारों की जिम्मेदारी होगी कि वह उस राशि को मछुआरों को आपस में बराबर कर उनके लिए गृह निर्माण कराएं।
  • प्लिंथ क्षेत्र और एक घर के निर्माण की लागत 35 वर्ग मीटर तथा ₹40000 की धनराशि तक सीमित होगी।
  • योजना के तहत राज्य सरकारों की यह जिम्मेदारी बनती है कि वह केंद्र सरकार द्वारा प्रदान की गई राशि को सही रूप से एलोकेट करें जिससे ज्यादा से ज्यादा मछुआरों को लाभ मिल सके।

यह भी पढ़ें

National Literacy Mission Programme : ग्रामीण युवाओं के लिए शिक्षा का नया अवसर।
नमामि गंगे योजना (Namami Gange Scheme) : गंगा की स्वच्छता की तरफ सरकार का बड़ा कदम।
Mid Day Meal Scheme : भारत सरकार की तरफ से पोषण प्रदान करने की तरफ एक कदम।
Members of Parliament Local Area Development Scheme ( संसद सदस्य स्थानीय क्षेत्र विकास योजना।)

मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना का उद्देश्य (Objectives Of National Scheme on Welfare of Fishermen in Hindi) :

  • इस योजना के तहत वह मछुआरे जो समुद्री और अंतर्देशीय क्षेत्र में निवास करते हैं वह इस योजना में सम्मिलित होकर लाभ उठा सकते हैं।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा चयनित मछुआरों को भूमि केंद्र प्रदान किया जाएगा।

मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना की योग्यताएं (Eligibility For National Scheme on Welfare of Fishermen in Hindi) :

  • मछुआरों के कल्याण के लिए राष्ट्रीय योजना के तहत राज्य सरकारों को योग्यताओं के आधार पर उम्मीदवारों को चुनना है।
  • उम्मीदवार को राज्य सरकार के सामने मछुआरे के तौर पर प्रदर्शित होना अत्यंत जरूरी है तभी आप इस योजना के हकदार रहेंगे।
  • ऐसे मछुआरे जिनके पास रहने के लिए जमीन नहीं है या वह गरीबी में रहते हैं तो उनको राज्य सरकार द्वारा प्राथमिकता दी जाएगी।
  • जिम में चोरों के पास रहने के लिए घर अथवा नाव है उनको भी राज्य सरकार द्वारा ग्रह वितरित करने का हक है।