Categories: EducationNews
| On 3 weeks ago

NEET JEE Main में NTA ने किया नियमों में बदलाव

नीट (NEET) व जेईई मेन (JEE Main) की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए यह खबर राहत देने वाली है। दरअसल नेशनल नेशनल टेस्‍ट‍िंंग एजेंसी (NTA) ने नियमों में बदलाव करने हुए दोनों एग्जाम की रैंक लिस्‍ट में अधिक उम्र के आवेदकों को प्राथमिकता देने से जुड़े नियम को हटा दिया है। इससे पहले नीट (NEET) व जेईई (JEE Main) की परीक्षा में उन स्टूडेंट्स को पहले मौका दिया जाता था। जिनकी उम्र अधिक है।

ऐसे में कई बार समान अंक प्राप्त करने पर कम उम्र वाले आवेदक की बजाय अधिक उम्र के आवेदक को प्राथमिकता दी जाती थी। जिसे लेकर छात्रों की और से नाराजगी भी जताई जा रही थी। ऐसे में छात्रों की मांग को देखते हुए एनटीए की ओर से पहल कर इस प्रावधान को हटा दिया गया है। अब 2021 की इन परीक्षाओं में अधिक उम्र वाले आवेदक को वरीयता नहीं दी जाएगी।

नीट एग्जाम की इस तरह से करें तैयारी

यदि आप भी मेडिकल से जुड़ी फील्ड में जाना चाहते हैं तो आपको नीट (NEET) एग्जाम देना होगा। इस एग्जाम को पास किए बगैर किसी भी मेडिकल कॉलेज में पढ़ने के लिए दाखिला नहीं मिलता है। इसलिए सबसे पहले इस परीक्षा से जुड़ी प्रोसेस को समझना बेहद जरूरी है। आपको बता दें कि नीट (NEET) के लिए एक प्रवेश परीक्षा होती है। जिसका आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी करवाती है।

NEET अंकों के आधार पर तय होता है भविष्य

किसी भी स्टूडेंट्स को मनपसंद शिक्षण संस्थान में दाखिला लेने के लिए प्रवेश परीक्षा में ज्यादा से ज्यादा नम्बर लाने होते हैं। यही वजह है कि इसे काफी कठिन परीक्षा माना जाता है। प्रति

वर्ष इसके लिए हजारों स्टूडेंट्स आवेदन करते हैं। ऐसे में कड़ी प्रतिर्स्पधा व चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यदि आप भी इस एग्जाम को देने की तैयारी कर रहे है तो कड़ी मेहनत, लगन व आत्मविश्वास का होना बेहद जरूरी है।

इस एग्जाम में अधिक से अधिक अंकों के साथ हर विषय में मिनिमम पासिंग मॉर्क्स को स्कोर करना भी जरूरी होता है। इन अंकों के आधार पर ही आवेदकों को देश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज में स्ट्डी के लिए प्रवेश दिया जाता है। जिसमें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, जवाहरलाल इंस्टिट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रैजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च समेत कई मेडिकल कॉलेज शामिल हैं।

क्या रहेगा परीक्षा पैर्टन

नीट (NEET) परीक्षा में बॉयोलाजी विषय का पेपर 360 अंको का होगा वहीं फिजिक्स 180 व केमेस्ट्री 180 अंकों का होगा। का होगा। बायोलॉजी में कुल 90

प्रश्न होंगे। फिजिक्स-केमेस्ट्री में 45.45 प्रश्न होते हैं। प्रत्येक प्रश्न 4 अंकों का होगा। तीनों सब्जेक्ट में फिजिक्स को हार्ड माना जाता है। इस एग्जाम में फिजिक्स के थ्योरी व न्यूमेरिकल्स दोनों से सवाल पूछे जाते हैं।

यह भी पढ़े

पीजी स्टूडेंट्स को यूजीसी (UGC) दे रही है छात्रवृति, जल्दी करें आवेदन

फिजिक्स में ऐसे करें तैयारी

किसी भी सब्जेक्ट की तैयारी करने से पहले उसके सिलेबस को अच्छी तरह से समझना जरूरी होता है। उसी के आधार पर आप अपनी तैयारी को बेहतर कर पाते हैं। फिजिक्स की तेयारी के लिए भी यह बात लागू होती है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी NTA के अनुसार NEET की परीक्षा के लिए फिजिक्स का सेक्शन 29 चैप्टर कवर करता है। जिसमें कक्षा 11 व 12 दोनों के ही टॉपिक शामिल हैं। वहीं नीट से जुड़े विशेषज्ञों के अनुसार यदि सिलेबस का

70 प्रतिशत भी तैयार कर लिया जाता है तो इस विषय में 100 प्रतिशत तक अंक लाए जा सकते हैं।

अच्छे स्टडी मटीरियल को लें काम

किसी भी एग्जाम की बढ़िया तैयारी के लिए गुणवत्ता वाले स्टडी मटीरियल का होना बेहद जरूरी है। जिससे न सिर्फ आप अच्छी तरह से तैयारी कर सकते हैं बल्कि अधिक से अधिक अंक भी प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए हमेशा इस बात का विशेष ख्याल रखें।