Categories: Education Department
| On 1 month ago

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 7

वेतन

41. वेतनमान सेवा में के किसी पद पर नियुक्त किसी व्यक्ति का पे मैट्रिक्स के लेवल में मासिक वेतन वह होगा जो नियम 43 में निर्दिष्ट नियमों के अधीन अनुज्ञेय हो या जो सरकार द्वारा समय-समय पर स्वीकृत किया जाये।

  1. परिवीक्षा के दौरान वेतन- सीधी भर्ती द्वारा सेवा में नियुक्त किसी परिवीक्षाधीन प्रशिक्षणार्थी को परिवीक्षाकाल के दौरान ऐसी दर से मासिक रूप से नियत पारिश्रमिक संदत्त किया जायेगा जो सरकार द्वारा समय-समय पर नियत किया जाये
    परन्तु सरकारी सेवा में इन नियमों के उपबंधों के अनुसार नियमित रूप से चयनित किसी कर्मचारी को परिवाक्षाधीन प्रशिक्षणार्थी के रूप में सेवा के दौरान पद के पे मैट्रिक्स में उसके स्वयं के लेवल में परिलब्धियां या राजस्थान सेवा नियम 1951 के नियम 24 के उपबंधों के अनुसार नये पद का नियत पारिश्रमिक, अनुज्ञात किया जा सकेगा।

Also Read:-

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 1

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 2

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 3

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 4

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 5

राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 2021(Rajasthan Education Services Rules) भाग 6

  1. वेतन, छुट्टी भत्ते, पेंशन, अंशदायी पेंशन आदि का विनियमन - इन नियमों में यथा उपबंधित के सिवाय सेवा के किसी सदस्य के वेतन भत्ते पेंशन अंशदायी पेंशन छुट्टी और सेवा की अन्य शर्ते निम्नलिखित द्वारा विनियमित होंगी (1) राजस्थान सेवा नियम, 1951, समय-समय पर यथा-संशोधित
    (ii ) राजस्थान सिविल सेवा (वर्गीकरण नियंत्रण और अपील) नियम 1958 समय-समय पर यथा-संशोधित
    (iii) राजस्थान यात्रा भत्ता नियम् 1971, समय-समय पर यथा- संशोधित
    (iv) राजस्थान सिविल सेवा (आचरण) नियम् 1971, रामय-समय
    (v) राजस्थान सिविल सेवा (पेंशन) नियम 1990. समय-समय पर पर यथा-संशोधित
    vi) राजस्थान सिविल सेवा पुनरीक्षित वेतनमान) नियम, 1998 समय-समय पर[
    (vii) राजस्थान सिविल सेवा (अंशदायी पेंशन) नियम, 2005, समय समय पर था-संशोधित (
    viii) राजस्थान सिविल सेवा (पुनरीक्षित वेतन) नियम, 2008, समय-समय पर यथा-संशोधित:
    (ix) राजस्थान सिविल सेवा (पुनरीक्षित वेतन) नियम, 2017, समय-समय पर यथा-संशोधित औ
    (x )भारत के संविधान के अनुच्छेद 309 के परन्तुक के अधीन समुचित प्राधिकारी द्वारा बनाये गये अन्य कोई नियम जो सेवा की सामान्य शर्ते विहित करते हों और तत्समय प्रकृता हो।
  1. नियमों के शिथिलीकरण की शक्ति -अपवाद सापेक्ष मामलों में जहां सरकार के प्रशासनिक विभाग का यह समाधान हो जाये कि भर्ती के लिए आयु के बारे में या अनुभव की आवश्यकता के संबंध में किसी विशिष्ट मामले में नियमों के प्रवर्तन से अनावश्यक कठिनाई होती है या जहां सरकार की यह राय हो कि किसी व्यक्ति की आयु या अनुभव के संबंध में इन नियमों के किन्हीं उपबंधों को शिथिल करना आवश्यक या समीचीन है वहां वह कार्मिक विभाग की सहमति तथा आयोग के परामर्श से, जहां आवश्यक हो, आदेश द्वारा इन नियमों के सुसंगत उपबंधों को ऐसी सीमा तक और ऐसी शर्तों के अध्यधीन रहते हुए जो किसी मामले को न्यायोचित एवं साभ्यापूर्ण रीति से निपटाने के लिए आवश्यक माने जायें अभिभुक्त या शिथिल कर सकेगी
    परन्तु
    (i) ऐसा शिथिलीकरण इन नियमों में पहले से अन्तर्विष्ट उपबंधों से कम नहीं होगा। शिथिलीकरण के ऐसे मामले, संबंधित प्रशासनिक विभाग द्वारा आयोग को निर्दिष्ट किये जायेंगे
    (ii) इस नियम के अधीन विहित सेवा काल या अनुभव में शिथिलीकरण विभागीय पदोन्नति समिति की बैठक आयोजित होने के पूर्व किसी पद पर पदोन्नति के लिए विहित सेवा या अनुभव की केवल एक तिहाई कालावधि की सीमा तक ही मंजूर किया जायेगा।
    (iii) जहां किसी पद पर पदोन्नति के लिए अनुभव की विहित कालावधि 6 वर्ष से कम है वहां प्रमुख सचिव, वित्त, प्रमुख सचिव/सचिव, कार्मिक विभाग और प्रमुख सचिव / सचिव, प्रशासनिक विभाग से गठित मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली समिति उन मामलों पर विचार करेगी जहां 45 प्रतिशत या उससे अधिक पद रिक्त है। समिति अनुभव में शिथिलीकरण की इतनी मात्रा सुझाने के लिए सशक्त होगी जो ऐसे मामलों में पदोन्नति वाले पदों में रिक्तियों की बड़ी संख्या के मुद्दे पर ध्यान देने के लिए, ऐसी शर्त कि अनुभव में ऐसा शिथिलीकरण दो वर्ष से अधिक न हो के अध्यधीन प्रदान की जायेगी ।
  1. शंकाओं का निराकरण- यदि इन नियमों के लागू होनेऔर उनकी व्याप्ति के बारे में कोई शंका उत्पन्न हो तो मामला सरकार के कार्मिक विभाग को निर्दिष्ट किया जायेगा जिसका उस पर विनिश्चय अंतिम होगा।
  2. निरसन और व्यावृत्ति राजस्थान शिक्षा सेवा नियम 1970 और राजस्थान शिक्षा अधीनस्थ सेवा नियम, 1971 और इन नियमों के अंतर्गत आने वाले मामलों के संबंध में जारी तथा इन नियमों के प्रारंभ के ठीक पूर्व प्रवृत्त समस्त नियम और आदेश इसके द्वारानिरसित किये जाते है
    परन्तु इस प्रकार निरसित नियमों और आदेशों के अधीन की गयी कोई भी कार्रवाई इन नियमों के उपबंधों के अधीन की गयी समझी जायेगी।

अनुसूची - (III)

  1. प्रधान अध्यापक, माध्यमिक विद्यालय के पद के लिए परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण

परीक्षा की स्कीम -
(1 )परीक्षा 600 अंक की होगी
(2) दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रत्येक प्रश्नपत्र 300 अंकों का होगा। प्रत्येक प्रश्नपत्र की समयावधि 3 घण्टे की होगी।
(3) दोनों प्रश्नपत्रों में समस्त प्रश्न बहुविका प्रकार के होंगे।
(4) उत्तरी के मूल्यांकन में नकारात्मक अंक लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।

स्पष्टीकरण गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार - परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के मौतर, ऐसी रीति से, जो आयोग उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
(6 )दोनों प्रश्नपत्रों में सम्मिलित विषय नीचे दी गयी सारणी में दर्शित किये गये हैं।

प्रश्नपत्र-1 सामान्य अध्ययन समयावधि तीन घण्टे



(2) अतिरिक्त ब्लॉक प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी के पद के लिए परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण:
परीक्षा की स्कीम :

(1) परीक्षा 400 अंक की होगी।
(2) दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रत्येक प्रश्नपत्र 200 अंकों का होगा। प्रत्येक प्रश्नपत्र की समयावधि 2 घण्टे की होगी।
(3) दोनों प्रश्नपत्रों में समस्त प्रश्न बहुविकल्पी प्रकार के होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत

उत्तर के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।

स्पष्टीकरण : गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत सिथिल किया जायेगा।

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार: :- परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से, जो आयोग उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
(6 )दोनों प्रश्नपत्रों में सम्मिलित विषय नीचे दी गयी सारणी में दर्शित किये गये है -

(3) विद्यालय प्राध्यापक के पद के लिए परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण

(1) परीक्षा 450 अंकों की होगी।
(2) दो प्रशनपत्र होंगे प्रश्नपत्र (1) 150 अंको का होगा और प्रश्नपत्र-(2) 300 अंको का होगा प्रशनपत्री की समयावधि 1.30 की घण्टे की होगी और प्रश्नपत्र 2 की समयावधि 3 घण्टे की होगी।
(3) दोनों प्रश्नपत्रों में समस्त प्रश्न विधी प्रकार के होंगे।
(4) उतरो के मूल्यांकन में नकरात्मक अंकन लागु होगा त्येक गलत उत्तर के लिए उस विशिष्ट प्रश्न के लिए अंकों का एक तिहाई भाग काटा जायेगा |

स्पष्टीकरण गलत उत्तर से अशुद्ध तर या एक से अधिक उत्तर है
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होने पर पर्युक्अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिएप्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
प्रश्नपत्र का पाठ्यक्षरण और विस्तार परीक्षा के लिए प्रश्न पत्र पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियम समय के भीतर ऐसी रीति से जो आयोग उचित समझे सूचित किया जायेगा।

(6) दोनों पप्रश्नपत्रों में सम्मिलित विषय निचे दी गयी सारणी में दर्शित किये गए है |

4 कोच के पद के लिए प्रतियोगी परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण

(1) परीक्षा 450 अंक की होगी और स्पोर्ट्स/टूर्नामेन्टों में भाग लेने के लिए अधिकतम 40 अंक दिये जायेंगे।
(2) दो प्रशनपत्र होंगे प्रश्नपत्र (1) 150 अंको का होगा और प्रश्नपत्र-(2) 300 अंको का होगा प्रशनपत्र की समयावधि 1.30 की घण्टे की होगी और प्रश्नपत्र 2 की समयावधि 3 घंटे की होगी
(3) दोनों प्रश्नपत्रों में समस्त प्रश्न बहुविकल्पी प्रकार के होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण: गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
5 ) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार : परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण औरविस्तार ऐसा होगा जो आयोग द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से, जो आयोग उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
(6) दोनों प्रश्नपत्रों में सम्मिलित विषय नीचे दी गयी सारणी में दर्शित किये गये हैं

टिप्पण: (II) स्तर निम्नानुसार होंगे
(1) जिला स्तर निम्नलिखित टूर्नामेण्ट जिला स्तर के माने जायेंगे -
(क) प्रारम्भिक शिक्षा विभाग के जिला स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट
(ख) माध्यमिक शिक्षा विभाग के जिला स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट।
(ग) संस्कृत शिक्षा विभाग के राज्य स्तर विद्यालय टूर्नामिण्ट
घ) नवोदय विद्यालय समिति और केन्द्रीय विद्यालय संगठन का क्लस्टर स्तर विद्यालय
(ङ) विश्वविद्यालयों का अन्तर महाविद्यालय टूर्नामेण्ट

2) राज्य स्तर -निम्नलिखित टूर्नामेण्ट राज्य स्तर के माने जायेंगे -
(क) प्रारंभिक शिक्षा विभाग का राज्य स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट
ख) माध्यमिक शिक्षा विभाग का राज्य स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट
(ग) नवोदय विद्यालय समिति और केन्द्रीय विद्यालय संगठन का राष्ट्रीय स्तर विद्यालय
घ) जोन स्तर पर अन्तर विश्वविद्यालय टूर्नामेण्ट
3 )राष्ट्रीय स्तर -निम्नलिखित टूर्नामेण्ट राष्ट्रीय स्तर के माने जायेंगे -
(क) स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित विद्यालय खेल
(ख) राष्ट्रीय या इन्टर जोन स्तर पर अन्तर विश्वविद्यालय टूर्नामेण्ट
4 )अन्तरराष्ट्रीय स्तर - इनमें से किसी भी एक संगठन के माध्यम से अन्तरराष्ट्रीय टूनमिण्ट में भाग लेना :
स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया, यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स एसोसियेशन या स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया

टिप्पण: (III) स्पोर्ट्स प्रमाणपत्रों का सत्यापन
(क) स्पोर्ट्स प्रमाणपत्रों पर भी विचार किया जायेगा यदि वे राजस्थान स्पोर्ट्स काउंसिल के सचिव या संस्थान के प्रधान द्वारा इस उल्लेख के साथ सत्यापित किये गये हो कि भाग लेने वाला संस्था का नियमित छात्र है।
ख) स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स एसोसियेशन या स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया के माध्यम से अन्तरराष्ट्रीय टूर्नामेण्ट में भाग लेने के या उसमे अर्जित स्थान के स्पोट्र्स प्रमाणपत्र पर भी विचार किया जायेगा जब उसे संबंधित फेडरेशन / एसोसिएशन द्वारा सत्यापित किया गया हो।

(5)वरिष्ठ अध्यापक के पदों के लिए प्रतियोगी परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण

परीक्षा 500 अंक की होगी। दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रश्नपत्र-1 200 अंकों का होगा और प्रश्नपत्र II 300 अंको का होगा।
प्रसनपत्र 1

(1)प्रश्नपत्र अधिकतम 200 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी
(3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे
(1) राजस्थान का भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान।
(ii) राजस्थान के समसामयिक मामले
(iii) और भारत का सामान्य ज्ञान
(iv) शिक्षा मनोविज्ञान
(5 )उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, पास विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(6) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियंत प्रतिशत अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रशिक्षित किया जायेगा।

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार - परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति प्राधिकारी द्वारा पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से जो आयोग/ राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड पर यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे सूचित किया जायेगा।

प्रश्नपत्र 2
(1) प्रश्नपत्र अधिकतम 300 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की 2 घंटे 30 मिनट होगी।
(3) प्रश्नपत्र में बहुविकल्पीय 150 प्रश्न होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए विशिष्ट प्रश्न के लिए हितका एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा
स्पस्टीकरण - गलत उत्तर से उत्तर या एक से अधिक उत्तर है।
(5)प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत अनुसूचित

जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे
(i)सुसंगत विषय वस्तु के बारे में सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी स्तर का ज्ञान
(ii)सुसंगत विषय वस्तु के बारे में स्नातक स्तर का ज्ञान
(iii) सुसंगत विषय की अध्यापन चैठियां

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार -परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति प्राधिकारी द्वारा पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से जो आयोग/ राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड पर यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे सूचित किया जायेगा।

6 )प्राध्यापक शारीरिक शिक्षा, वरिष्ठ शारीरिक शिक्षा अध्यापक और शारीरिक शिक्षा अध्यापक के पदों के लिए परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण-

(1) परीक्षा 460 अंकों की होगी और स्पोर्ट्स / टूर्नामिण्टों में भाग लेने के लिए अधिकतम 40 अंक दिये जायेंगे (नीचे प्रश्नपत्र II में उल्लिखित "टिप्पण के अनुसार) |
2 ) दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रश्नपत्र-1 200 अंकों का होगा और प्रश्नपत्र II 200 अंकों का होगा।

प्रश्नपत्र 1
1) प्रश्नपत्र अधिकतम 200 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी।
(3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे
(i) राजस्थान का भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान
(ii) राजस्थान के समसामयिक मामले
(iii) विश्व और भारत का सामान्य ज्ञान।
(iv) शिक्षा मनोविज्ञान
5)उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण : गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत हैं।
(6) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचितजातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार : परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर, ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या. यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे सूचित किया जायेगा।
प्रश्नपत्र 2
(1) प्रश्नपत्र अधिकतम 260 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि 2 घंटे की होगी।
(3) प्रश्नपत्र में 130 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा। स्पष्टीकरण : गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रति शिथिल किया जायेगा।
(6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे:
(i) सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी स्तर का शारीरिक शिक्षा का सामान्य ज्ञान
(ii) स्पोर्ट्स और शारीरिक शिक्षा तथा समसामयिक मामलों का सामान्य ज्ञान।
(iii) शारीरिक शिक्षा के सिद्धान्त, परिभाषाएं और इतिहास।
(iv) शिक्षा और खेल मनोविज्ञान।
(v)शारीरिक शिक्षा की रीतिया पर्यवेक्षण और आयोजन।
(vi) प्रशिक्षण और विनिश्चय के सिद्धान्त
(vii) शारीरिक रचना का मूल विज्ञान कृत्य और स्वास्थ्य शिक्षा |
(viii) आमोद-प्रमोद कैम्प और योग ।
प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार :- परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर, ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
स्पोर्ट्स प्रतियोगिता में भाग लेने और अर्जित स्थान के प्रमाणपत्र के आधार पर दिये जाने वाले अंक
शारीरिक शिक्षा प्राध्यापक, वरिष्ठ शारीरिक शिक्षा अध्यापक और शारीरिक शिक्षा अध्यापक के पदों के लिए स्पोर्ट्स / टूर्नामेण्टों में भाग लेने पर अधिकतम 40 अंक दिये जायेंगे। (नीचे उल्लिखित "टिप्पण" के अनुसार) |
टिप्पण: (1) स्पोर्ट्स प्रतियोगिता में भाग लेने और अर्जित स्थान के प्रमाणपत्र के आधार पर दिये जाने वाले अंक निम्नानुसार होंगे -
1अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर भाग लेना या राष्ट्रीय स्तर पर विजेता 40 अंक
2राष्ट्रीय स्तर पर II स्थान। 36 अंक
3.राष्ट्रीय स्तर पर III स्थान 32 अंक
4 राष्ट्रीय स्तर पर भाग लेना या राज्य स्तर पर विजेता। 28 अंक
5 राज्य स्तर पर ।I स्थान। 24 अंक
6 राज्य स्तर पर ||| स्थान । 20 अंक
7राज्य स्तर पर भाग लेना या जिला स्तर पर विजेता। 16 अंक
8जिला स्तर पर ।I स्थान 12 अंक
.9 जिला स्तर पर ||| स्थान 08 अंक
10 जिला स्तर पर भाग लेना 04 अंक

टिप्पण: (II) स्तर निम्नानुसार होंगे
1)जिला स्तर निम्नलिखित टूर्नामेण्ट जिला स्तर के माने जायेंगे :
(क) प्रारम्भिक शिक्षा विभाग के जिला स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट
(ख) माध्यमिक शिक्षा विभाग के जिला स्तर विद्यालय टूर्नामेण्ट
(ग) संस्कृत शिक्षा विभाग के राज्य स्तर विद्यालय दुनमिण्ट ।
(घ) नवोदय विद्यालय समिति और केन्द्रीय विद्यालय संगठन का क्लस्टर स्तर विद्यालय
(ड) विश्वविद्यालयों का अन्तर महाविद्यालय टूर्नामेस्ट।

  1. राज्य स्तर निम्नलिखित टूर्नामेन्ट राज्य स्तर के माने जायेंगे
    (क) प्रारंभिक शिक्षा विभाग का राज्य स्तर विद्यालय टूर्नामेन्ट
    (ख) माध्यमिक शिक्षा विभाग का स्तर विद्यालय टूर्नामेन्ट
    (ग) नवोदय विद्यालय समिति और केन्द्रीय विद्यालय संगठन का राष्ट्रीय स्तर विद्यालय
    (घ) जोन स्तर पर अंतर विश्वविद्यालय टूर्नामेन्ट
    (3)राष्ट्रीय स्तर निम्नलिखित टूर्नामेण्ट राष्ट्रीय स्तर के माने जायेंगे :
    (क) स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित विद्यालय खेल
    (ख) राष्ट्रीय या इन्टर जोन स्तर पर अन्तर विश्वविद्यालय टूर्नामेण्ट ।
    4)अन्तरराष्ट्रीय स्तर इनमें से किसी भी एक संगठन के माध्यम से अन्तरराष्ट्रीय टूर्नामेण्ट में भाग लेना: स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया, युनिवर्सिटी स्पोर्टस एसोसियेशन या स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया
    टिप्पण: (III) स्पोर्टस प्रमाणपत्रों का सत्यापन -
    (क) स्पोर्टस प्रमाणपत्रों पर तभी विचार किया जायेगा यदि वे राजस्थान स्पोर्ट्स काउंसिल के सचिव या संस्था के प्रधान द्वारा इस उल्लेख के साथ सत्यापित किये गये हो कि भाग लेने वाला संस्थान का नियमित छात्र है।
    (ख) स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया, युनिवर्सिटी स्पोट्स एसोसियेशन या स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया के माध्यम से अन्तरराष्ट्रीय टूर्नामेण्ट में भाग लेने के या उसमें अर्जित स्थान के स्पोर्टस प्रमाणपत्र पर सभी विचार किया जायेगा जब उसे संबंधित फैडरेशन / एसोसिएशन द्वारा सत्यापित किया गया हो।
    7. वरिष्ठ अध्यापक (विशेष शिक्षा के पदों के लिए प्रतियोगी परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण
    (1) परीक्षा 600 अंक की होगी।
    (2) दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रत्येक प्रश्नपत्र 300 अंकों का होगा। प्रत्येक प्रश्नपत्र की समयावधि 3 घण्टे की होगी।
    (3) प्रत्येक प्रश्नपत्र में बहुविकल्पी प्रकार के 150 प्रश्न हो ।
    (4) उत्तरों के मूल्यांकन में लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, उस
    विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंको का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा
    स्पष्टीकरण: गलत धार से असुर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
    (5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
    प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार -परीक्षा के लिए प्रश्न का पावर और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को समय के भीतर ऐसी रीति से जो आयोग उचित समझे, सूचित किया जायेगा
    (6) दोनों प्रश्नपत्र में दी गयी सारणी में दर्शित किये गये है।
    प्रश्नपत्र 1 सामन्य अध्यन
    प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे :
    (1) राजस्थान का भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान
    (ii) राजस्थान के समसामयिक मामले।
    (iii) विश्व और भारत का सामान्य ज्ञान
    (iv) शिक्षा मनोविज्ञान
    (v) बाल विकास
    (vi) विशेष आवश्यकताओं वाले बालकों के लिए समावेशी शिक्षा और समझ की धारणा
    (vii) डाटा प्रबंध और रिर्पोटिंग।
    (viii) अधिगम और क्षणशास्त्र
    (ix) भाषा - हिन्दी और अंग्रेजी

    प्रश्नपत्र-II
    प्रश्नपत्र दो भागों में होगा। प्रत्येक भाग में 75 प्रश्न होंगे
    भाग क
    निम्नलिखित में से किसी एक में जिसके लिए यह आवेदन कर रहा है अर्थात्दृष्टिगत हास, श्रवणशक्ति हास, मानसिक मंदता के संबंध में उसे विशेषज्ञता हो
    1)दृष्टिगत हास
    (i) दृष्टिगत हास की प्रस्तावना
    (ii) दृष्टिगत हास के शैक्षणिक परिप्रेक्ष्य
    (iii) दृष्टिगत हास, वाले चालकों के लिए अध्यापन की युक्तियों के अधिगम रीति
    2)मानसिक मंदता
    (i) मानसिक मंदता वाले व्यक्तियों की पहचान और निर्धारण
    (ii) मानसिक मंदता-इसके बहु-विषयक पहलू
    (iii) पाठ्यक्रम और अध्यापन प्रणाली
    (iv) इन्क्लुसिव सेटअप (Inclusive setup) में अधिगम कठिनाईयों वाले बालको के अधिगम की प्रणाली अन्तभर्तकारी व्यवस्था परिस्थिति
  1. श्रवणशक्ति हास
    (i) विभिन्न निःशक्तताओं की आवश्यकता की प्रकृति एक प्रस्तावना
    (ii) शिक्षा: एक वैश्विक पहलू
    (iii) शैक्षणिक योजना और प्रबंध पाठ्यक्रम संरचना और अनुसंधान
    (iv) श्रवणशक्ति हास वाले बालकों में भाषा और संसूचना युक्तियों के विकास को सुविधाजनक बनाना
    (v) श्रव्य सुधार
    (vi) श्रवणशक्ति हास वाले बालकों को भाषा और भाषा अध्यापन की प्रस्तावना
    भाग-ख
    (i) सुसंगत विषय-वस्तु के बारे में सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी स्तर का ज्ञान
    (ii) सुसंगत विषय-वस्तु के बारे में स्नातक स्तर का ज्ञान
    (iii) सुसंगत विषय की शिक्षण पद्धति
    8)पुस्कालयाध्यक्ष ग्रेड-II और ग्रेड-III के पद के लिए प्रतियोगी परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण:
    परीक्षा 400 अंक की होगी। दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रत्येक प्रश्नपत्र 200 अंकों का होगा।
    प्रश्नपत्र-1
    (1) प्रश्नपत्र अधिकतम 200 अंकों का होगा।
    (2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी।
    (3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
    (4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
    स्पष्टीकरण गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
    (5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
    (6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे:
    (i) राजस्थान का भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान।
    (ii) राजस्थान के समसामयिक मामले।
    (iii) विश्व और भारत का सामान्य ज्ञान ।
    (iv) शिक्षा मनोविज्ञान ।

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार :- परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
प्रश्नपत्र-II
ज्ञान संगठन, सूचनात्मक प्रसंस्करण और पुनर्प्राप्ति
(1) प्रश्नपत्र अधिकतम 200 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी।
(3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकने लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत हैं।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्धक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत शिशित किया जायेगा।
(6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे. :

(i) ज्ञान जगत
संरचना और गुण
विषय निर्माण के तरीके
विषयों के विभिन्न प्रकार
ज्ञान जगत के वर्गीकरण विभिन्न पद्धतियों में रेखांकन
(ii) ग्रंथ सूची विवरण ओपेक नियमों को सम्मिलित करते हुए सूची उद्देश्य संरचना एवं भौतिक स्वरूप
सूचीकरण के नियामक सिद्धांत
प्रलेखीय विवरणों के सिद्धान्तों का विहंगम दृष्टिकोण मानकीकरण विवरण और विनिमय में वर्तमान रूझान सूचीकरण का मानक पाठ्यक्रम
(iii)ज्ञान संगठन की विधियां विश्व और भारत का सामान्य ज्ञान पुस्तकालय वर्गीकरण का सामान्य सिद्धांत वर्गीकरण और उनके लागू होने का मानक सिद्धांत पुस्तकालय वर्गीकरण के प्रकार वर्गीकरण की मानक योजनाए और उनकी विशेषताएं सी.सी. ई.डी.सी. यू. डी. सी. नोटेशनः आवश्यकता, कार्य, गुण पुस्तकालय वर्गीकरण, मानक उप अनुभाग अनुक्रमणिका स्कीमों की डिजाइन और विकास पुस्तकालय वर्गीकरण में रुझान
(iv)विषय वर्गीकरण शिक्षा मनोविज्ञान विषय वर्गीकरण के सिद्धान्त विषय शीर्ष सुचिया और उनकी विशेस्ताये
प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार : परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर, ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
9प्रयोगशाला सहायक के पद के लिए प्रतियोगी परीक्षा की स्कीम और पाठ्य विवरण:
परीक्षा 400 अंक की होगी। दो प्रश्नपत्र होंगे। प्रत्येक प्रश्नपत्र 200 अंकों का होगा।
प्रश्नपत्र - I
(1) प्रश्नपत्र अधिकतम 200 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी।
(3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) उत्तरों के मूल्यांकन में नकारात्मक अंबून लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण: गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के अभ्यर्थियों लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
(6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे 🙂
(i) राजस्थान का भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामान्य ज्ञान।
(ii) राजस्थान के समसामयिक मामले।
(iii) विश्व और भारत का सामान्य ज्ञान ।
(iv) शिक्षा मनोविज्ञान |
प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार :- परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे, सूचित किया जायेगा।
प्रश्नपत्र-II
(1) प्रश्नपत्र

अधिकतम 200 अंकों का होगा।
(2) प्रश्नपत्र की समयावधि दो घंटे होगी।
(3) प्रश्नपत्र में 100 बहुविकल्पी प्रश्न होंगे।
(4) उत्तरी के मूल्यांकन में नकारात्मक अंकन लागू होगा। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए, उस विशिष्ट प्रश्न के लिए विहित अंकों का एक तिहाई भाग काटा जा सकेगा।
स्पष्टीकरण: गलत उत्तर से अशुद्ध उत्तर या एक से अधिक उत्तर अभिप्रेत है।
(5) प्रत्येक प्रश्नपत्र के लिए न्यूनतम अर्हक अंक 40 प्रतिशत होंगे परन्तु उपर्युक्त नियत प्रतिशत, अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए पांच प्रतिशत शिथिल किया जायेगा।
(6) प्रश्नपत्र में निम्नलिखित विषय सम्मिलित होंगे
(i) विज्ञान विषय वस्तु के बारे में सैकण्डरी स्तर का ज्ञान।
(ii) भौतिक विज्ञान विषय-वस्तु के बारे में सीनियर सैकण्डरी स्तर का ज्ञान ।
(iii) रसायन विज्ञान विषयवस्तु के बारे में सीनियर सैकण्डरी स्तर का ज्ञान
(iv) जीव विज्ञान विषय वस्तु के बारे में सीनियर सैकण्डरी स्तर का ज्ञान

प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार -परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र का पाठ्य विवरण और विस्तार ऐसा होगा जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या, यथास्थिति, नियुक्ति प्राधिकारी द्वारा समय-समय पर विहित किया जाये और अभ्यर्थियों को नियत समय के भीतर ऐसी रीति से, जो आयोग / राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड या यथास्थिति नियुक्ति प्राधिकारी उचित समझे, सूचित किया जायेगा।