राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना (Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi)

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना की शुरुआत राजस्थान राज्य सरकार के द्वारा की गयी है। इस योजना के अंतर्गत राज्य में मौजूद सभी लघु एवं सीमांत किसानों को ऋण की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी जिसके अनुसार किसानों को आर्थिक मदद मिलेगी। आर्थिक सहायता मिलने से किसान अपनी उपज की कीमत का उचित लाभ प्राप्त कर पाएंगे।

राज्य के 25,000 से भी अधिक किसानों को इस स्कीम के ज़रिये लाभ दिया गया है। आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के किसानों के लिए कम से कम ब्याज दर में लोन सहायता के लिए राशि दी जाएगी।

राज्य सरकार का किसानों को ऋण प्रदान करने का लक्ष्य यह है की कृषि कार्य में बेहतर उत्पादन करके आर्थिक रूप से पिछड़े किसानों को उचित मूल्य राशि प्राप्त हो सके। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी को साझा करेंगे। अतः योजना का पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए आप हमारे पोस्ट को पूरा पढ़े।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के मुख्य बिंदु (Main points of Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi) :

योजना का नाम :राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना
किसके द्वारा शुरू की गयी :राजस्थान सरकार
विभाग :कृषि विभाग, राजस्थान
लाभार्थी :राज्य के लघु एवं सीमांत किसान
योजना कब लॉन्च की गयी :1 जून 2020
उद्देश्य :किसानों को कृषि कार्य हेतु कम ब्याज मूल्य की दर से लोन सहायता उपलब्ध करवाना।
आधिकारिक वेबसाइट :यहाँ क्लिक करें
Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana
Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana
Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana's Website Homepage

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना का उद्देश्य (Purpose of Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi) :

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना का मुख्य उद्देश्य है। किसानों को कृषि कार्य में बेहतर उपज करने के लिए कम मूल्य ब्याज दर से ऋण सहायता उपलब्ध करवाना। यह ऋण राशि किसानों को 3 माह की अवधि के लिए प्रदान की जाती है। जिससे वह अपनी बाह्य जरूरतों की पूर्ति कर सकते है। निजी घटना के लिए किसानों को 6 माह की अवधि के लिए ऋण राशि को प्रदान किया जाता है। योजना के अंतर्गत किसान लोन प्राप्त करके कृषि क्षेत्र में अधिक उपज कर सकते है। कृषि कार्य गुणवक्ता में सुधार करने के लिए एवं किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार करने के लिए सरकार के द्वारा यह विशेष पहल शुरू की गयी है।

इस योजना के कार्यान्वयन को सफल बनाने के लिए राज्य

सरकार के द्वारा 50 करोड़ रूपए का बजट निर्धारित किया गया है। राज्य में जिन किसानों के पास 2 हेटक्टेयेर से कम कृषि भूमि है वह राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के अंतर्गत लाभ लेने के लिए पात्र है।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना की विशेषताएं (Features of Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi) :

  • LAMPS and GSS: के माध्यम से पहले से ही रजिस्टर्ड किसानों को भी राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के अंतर्गत लाभ लेने का अवसर प्रदान किया जायेगा।
  • Classification (वर्गीकरण): के अनुसार किसानों का Audit किया जायेगा, जिसमें लेखा परीक्षा सामान्य रूप से जानकारियों के आधार पर किसानों को अलग-अलग भागों में विभाजित किया जायेगा। इसके लिए योजना के अंतर्गत भाग-A और भाग B को सेलेक्ट किया गया है।
  • Surplus resources (अतिरिक्त संसाधन): तथैव बिंदुओं के अनुसार कृषि उपज रहन ऋण योजना अतिरिक्त संसाधनों की सुलभता को गारंटीकृत करेगी।
  • योजना के अंतर्गत उन सभी किसानों को ऋण उपलब्ध करवाया जायेगा जो बाजार में सौदा करने के लाभ प्राप्त करने से वंचित है।

यह भी पढ़े :

Deen Dayal Upadhyaya Antyodaya Yojana
Mukhyamantri Laghu Udhyog Protsahan Yojana (MLUPY)
Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना)
PM Mudra Yojana (प्रधानमंत्री मुद्रा योजना)

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के लाभ (Benefits of Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi) :

  • कृषि उपज ऋण रहन योजना राजस्थान के अंतर्गत समय से पहले लोन का भुगतान करने वाले किसानों को ब्याज की दर में 2 प्रतिशत की छूट प्रदान की जाएगी।
  • राज्य के 25 प्रतिशत से अधिक किसानों को तीन प्रतिशत के हिसाब से ऋण लेने की सुविधा प्राप्त होगी।
  • लघु एवं सीमान्त किसानों को 1.5 लाख रूपए तक की ऋण राशि प्राप्त करने का अवसर राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना के अंतर्गत प्राप्त होगा।
  • राज्य में उन सभी किसानों को भी योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए शामिल किया गया है जिनके पास 2 हेक्टेयर से भी कम कृषि भूमि मौजूद है।
  • इस योजना के अंतर्गत राज्य के लघु एवं सीमांत किसानों के जीवन स्तर में सुधार होगा।
  • कृषि कार्य में उपज करने के लिए सीमांत किसानों को ब्याज राशि का भुगतान 3 प्रतिशत की दर से करना होगा। बाकि का 7 प्रतिशत भुगतान राज्य सरकार के द्वारा किया जायेगा।
  • राज्य के लाभार्थी किसानों को अपने कृषि पैदावार का कृषि उपज ऋण रहन योजना के अंतर्गत समुचित मूल्य प्राप्त होगा।
  • राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना में शामिल समितियों के कर्मचारियों के द्वारा एक बेहतर कार्य की भूमिका निभाने पर एपेक्स बैंक के तहत प्रोत्साहन राशि योजना को भी जारी किया जायेगा।
  • कृषि उपज ऋण योजना किसानों के आर्थिक पहलू को मजबूती करने में सहयोग प्रदान करेगी।

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना की ब्याज राशि प्रतिशत (Interest Amount Percentage of Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana in Hindi) ?

11 प्रतिशत

राजस्थान कृषि उपज रहन ऋण योजना ब्याज राशि का भुगतान (Rajasthan Krishi Upaj Rahan Rin Yojana, Payment of Interest Smount in Hindi) ?

3 प्रतिशत