| On 1 year ago

Rajasthan School Education Department: Towards the creation of online study material.

राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग: ऑनलाइन अध्य्यन सामग्री के निर्माण की तरफ अग्रसर।

बीकानेर, 29 अप्रैल 2020। शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी राज्य राजस्थान ने शेक्षिक गुणवत्ता सुनिश्चित करने के क्रम में एक और नया कदम उठाया है। विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग अब परम्परागत शिक्षण के साथ ही विद्यार्थियों को ऑनलाइन अध्ययन सामग्री उपलब्ध करवाने की कार्ययोजना बनी है।

"स्माइल कार्यक्रम" के अतिरिक्त अब शिक्षा विभाग द्वारा स्वयम के स्तर पर कक्षा प्रथम से बारहवीं तक के विद्यार्थियों हेतु पाठ्यक्रम सहयोगी आईसीटी आधारित शिक्षण सामग्री तैयार करवाकर विद्यार्थियों को बेहतरीन शिक्षा सुविधाएं देने की योजना है।

इस योजना के आरंभिक चरण में निदेशालय के आदेश में

सभी शिक्षको से उनके द्वारा तैयार ऑनलाइन शिक्षण सामग्री की मांग की गई है। शिक्षक उनके द्वारा तैयार ऑनलाइन शिक्षण सामग्री के हायपर लिंक 10 मई 2020 तक शाला दर्पण के स्टाफ कॉर्नर के माध्यम से प्रस्तुत कर सकेंगे। विषयवार चयनित सामग्री को भावी ऑनलाइन  शैक्षिक कार्यक्रम में सम्मिलित किया जाएगा।

निदेशक श्री सौरभ स्वामी ने एक वीडियो मैसेज द्वारा इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने बताया कि वर्तमान आईटी युग मे विद्यार्थी ऑनलाइन शिक्षा की तरफ अग्रसर है। वर्तमान में शिक्षको द्वारा अलग-अलग व्यक्तिगत रूप से ऑनलाइन शिक्षण सामग्री का निर्माण किया जा रहा है। एक कार्यक्रम के तहत ऐसे 3 मिनट के वीडियो एज्यूकेशनल कंटेंट को एकत्र करके उचित माध्यम से

विद्यार्थियों की सहायता हेतु काम मे लिया जाएगा। इस हेतु शिक्षक शाला दर्पण के स्टाफ कार्नर माध्यम से 10 दिनों में लिंक अपलोड कर सकेंगे।

देखे वीडियो सन्देश द्वारा श्री सौरभ स्वामी, निदेशक, शिक्षा विभाग, राजस्थान, बीकानेर।

https://youtu.be/aWh8oY1Ld6o

इसके पश्चात विषयवार चयनित 50 शिक्षको से पाठ्यक्रम अनुसार शैक्षणिक वीडियो/सामग्री/कंटेंट का निर्माण करवाया जाएगा। तत्पश्चात उसे अनेक माध्यम/प्लेटफार्म द्वारा विद्यार्थियों को उपलब्ध करवाया जाएगा। इसका शुभारंभ हिंदी से कर आगे बढ़ा जाएगा व एक एप का निर्माण भी किया जाएगा।

आवेदन कैसे करे?

कोई भी विषय अध्यापक जिसके द्वारा ऑनलाइन अध्ययन सामग्री तैयार की गई है , वह इसके लिए पात्र है।  ऑनलाइन अध्ययन सामग्री प्रेषित करने के लिए शिक्षक को शाला दर्पण के स्टाफ कॉर्नर

में जाकर स्टाफ लॉगइन में लॉगइन करना होगा, वहां उपलब्ध ऑनलाइन आवेदन पत्र में आवेदन करना होगा और निर्धारित स्थान पर अपने द्वारा तैयार ऑनलाइन अध्ययन सामग्री जो की वीडियो- ऑडियो अथवा किसी अन्य फॉर्मेट में हो सकती है,  का हाइपरलिंक उपलब्ध कराना होगा ।


1. सामग्री 3 मिनट समयावधि तक हो।
2. शाला दर्पण के स्टाफ कॉर्नर के माध्यम से सामग्री अपलोड होगी।
3. शैक्षणिक सामग्री अपलोड के समय सूचना अंकन के समय उन अहर्ताओं को सेव नही करना है जिनका धारण शिक्षक नही करता हो।
4. शैक्षणिक सामग्री/हायपर लिंक अपलोड अन्तिम तिथि 10 मई 2020 है।
5. उपलब्ध कराई जाने वाली ऑनलाइन अध्ययन सामग्री पाठ्यक्रम की विषयवस्तु से संबंधित होनी चाहिये तथा नैतिक मर्यादा एवं राष्ट्रीय अस्मिता के विपरीत नहीं होनी चाहिये।
6. शिक्षक द्वारा तैयार की गई ऑनलाइन शिक्षण के स्रोत का हाईपरलिंक शालादर्पण पर उपलब्ध आवेदन के निर्धारित स्थान पर अंकित करना है, जिसे आसानी से एक्सेस किया जा सके।
7. सत्र 2020-21 से कक्षा 6 से 9 एवं 11 में एनसीईआरटी की पुस्तकें लागू होनी है अतः उक्त कक्षाओं  हेतु तैयार की जाने वाली अध्ययन सामग्री संबंधित पाठ्यक्रम के अनुसार होनी चाहिये।