Categories: EducationNews
| On 3 weeks ago

कोरोना को लेकर सावधानीः राजस्थान में दो पारियों में खुलेंगे स्कूल

कोरोना महामारी (COVID) के चलते बंद राज्य के सरकारी व निजी स्कूल अब 1 सितम्बर से खुलेंगे। कोरोना (COVID) के चलते इस बार स्कूलों में स्टूडेंट्स को बिठाने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ख्याल रखा जाएगा। इसकी पालना बेहतर हो इसके लिए राजस्थान में दो पारियों में खुलेंगे स्कूल। इसके अलावा स्कूल के समय में भी परिर्वतन रहेगा। इसके तहत 1 पारी वाली स्कूलों में कक्षा 9 व 11 के स्टूडेंट्स को आना होगा। जिनका समय सुबह 7ः30 बजे से रहेगा। वहीं कक्षा 10 व 12 के विद्यार्थियों को सुबह आठ बजे स्कूल आना होगा।

वहीं दो पारी में संचालित होने वाली स्कूल में कक्षा 9 व 11 के विद्यार्थियों को 12ः30 बजे से 5ः30 बजे तक स्कूल रहना होगा। कक्षा 10 व

12 के विद्यार्थियों को 1 बजे से 6 बजे तक स्कूल में रहना होगा। दोनों की स्कूल छुट्टी में भी 30 मिनट का अंतर रहेगा।

माध्यमिक शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार स्कूल नहीं आने वाले किसी भी स्टूडेंट पर किसी भी प्रकार का कोई दबाव नहीं बनाया जाएगा।

आपको बता दें कि राज्य में कक्षा 9 से 12 तक के 14 हजार से अधिक सरकारी स्कूल है। वहीं इन स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की बात की जाए तो यह आंकड़ा लगभग 26 लाख तक का है। इसके अलावा निजी स्कूलों की संख्या के बारे में बात की जाए तो यह संख्या 16 हजार से अधिक है वहीं स्टूडेंट् की संख्या 25 लाख है।

शिक्षा विभाग बरत रहा विशेष सावधानी

कोविड (COVID)

से बच्चों को खतरे को देखते हुए शिक्षा विभाग विशेष सावधानी बरत रहा है। विभाग की ओर से जारी निर्देशों में स्टूडेंट्स को ओपन क्लास में बिठाने के लिए कहा गया है। जिस कक्षा में खिड़की नहीं होगी वहां बच्चों को नहीं बिठाया जाएगा।

राज्य सरकार ने लिया था निर्णय

गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से कुछ दिनों पूर्व ही इन कक्षाओं के स्टूडेंट्स के लिए ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने का निर्णय लिया गया था। स्कूलों के संचालन को लेकर जारी किए गए निर्देश सभी सरकारी व निजी विद्यालयों को मानने होंगे। पिछली बार की तरह इस बार भी कोरोना महामारी से बचाव के लिए सरकारी गाइडलाइन की समुचित पालना के लिए निर्देशित किया गया है।

अभिभावक की जरूरी होगी सहमति

स्कूलों के संचालन के

लिए बनाए नियमों के अनुसार किसी भी बच्चे पर स्कूल आने के लिए दबाव नहीं डाला जाएगा। वहीं बच्चों को स्कूल भेजने के लिए अभिभावकों को लिखित में स्वीकृती भी देनी होगी। इसके तहत उन्हें यह लिखकर देना होगा की वो अपनी मर्जी से बच्चों को विद्यालय भेज रहे हैं। बिना अभिभावक अनुमति के किसी भी स्टूडेंट को विद्यालय में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

कोविड (COVID) के इन नियमों की करनी होगी पालना

  • स्कूल में स्टूडेंट्स को सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन रखनी होगी।
  • स्टूडेंट व टीचर को मास्क पहनना होगा।
  • भोजन अवकाश के समय बच्चों को खुली जगह पर बिठाने की जिम्मेदारी स्कूल प्रशासन की रहेगी।
  • स्कूल के विद्यार्थी पानी की बोतल व जरूरी सामान घर से लेकर आएंगे। नहीं आने की स्थिति में स्कूल प्रशासन स्वच्छ व शुद्ध पानी उपलब्ध करवाएगा।
  • स्टूडेंट्स एक साथ लंच नहीं कर सकेंगे।
  • स्पोर्ट्स से जुड़ी एक्टिविटी पर बैन रहेगा।
  • स्कूल में फालतू घूमने की मनाही रहेगी।
  • स्टूडेंट्स को हैंड सेनिटाइजर रखना होगा।
  • बगैर मास्क के किसी को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।-स्कूल में प्रार्थना सभा आयोजित नहीं होगी।
  • स्टूडेंट एक दूसरे को पेन-पेंसिल आदि शेयर नहीं करेंगे।
  • खांसी जुकाम बुखार होने पर विद्यालय नहीं आएं।
  • स्कूल बस में भी सोशल डिस्टेंस रखनी होगी।
  • स्कूल नहीं आने वाले स्टूडेंट्स को ऑनलाइन स्टडी मैटेरियल प्रोवाइड करवाया जाएगा। -स्कूल में कोविड गाइडलाइन की पालना के साथ ही प्रवेश दिया जाएगा।